ट्रेडिंग में लक्ष्य कैसे निर्धारित करें: 5 कदम जो आपको उठाने होंगे

अधिकांश ट्रेडर्स के लिए यह जानना कि ट्रेड कब और कहाँ दर्ज करना है, सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न है जिसका आप उत्तर दे सकते हैं। कई शुरुआती ट्रेडर्स लक्ष्य निर्धारित करने के आवश्यक ज्ञान के बिना अतिरिक्त आय बनाने के लिए ट्रेडिंग में शामिल हो जाते हैं। इससे अक्सर निवेश का नुकसान होता है (या तो छोटे या बड़े पैमाने पर), ट्रेडिंग में कम विशवास, और कई आवेगपूर्ण निर्णय लेने की ओर ट्रेडर अग्रसर होता है।

कल्पना कीजिए कि आपके पास सही मात्रा में जानकारी थी जो आपके ट्रेडिंग एडवेंच रके लिए एक उपयुक्त लक्ष्य निर्धारित करने में और आपको आर्थिक रूप से स्वतंत्र जीवन को साकार करने में मदद करेगी; क्या आप उस पर नहीं कूदोगे? यह मार्गदर्शिका आपको एक प्रभावी ट्रेडिंग लक्ष्य निर्धारित करने में मदद करने के लिए शीर्ष पांच रणनीतियां प्रदान करेगी। मजेदार बात यह है कि इनमें से प्रत्येक रणनीति किसी भी ब्रोकर या ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर लागू होती है, जिस पर आप काम करना चाहते हैं।

सीखने के लिए जरूरी बातें 

  • एक निवेशक के रूप में आपका विश्वास बनाने के लिए ट्रेडिंग लक्ष्य महत्वपूर्ण हैं
  • ट्रेड में केवल लक्ष्य निर्धारित करना लाभ की गारंटी नहीं है। आपकी विशेषज्ञता की भी भूमिका होती है।

बिना देर किए हुए, आइए जानें कि ट्रेडर ट्रेड में लक्ष्य निर्धारित करने से अतिरिक्त आय कैसे प्राप्त कर सकते हैं।

पुनश्च: यदि आप जल्दी में हैं और इस गाइड को पूरा नहीं पढ़ सकते, तो हम नीचे शीर्ष पांच रणनीतियों पर प्रकाश डालेंगे।

  1. रिवॉर्ड/रिस्क अनुपात
  2. हालिया सपोर्ट और रीज़िस्टन्स स्तर
  3. फिबोनैकी एक्सटेंशन
  4. समय आधारित लक्ष्य
  5. ट्रेलिंग स्टॉप लॉस

परफेक्ट ट्रेड लक्ष्य निर्धारित करने के 5 तरीके

1. रिस्क/रिवार्ड अनुपात

ट्रेडिंग लक्ष्य निर्धारित करने की सबसे सरल तकनीकों में से एक निश्चित रिस्क से रिवार्ड अनुपात का उपयोग करना है। प्रक्रिया बहुत सरल है, और शुरुआत करने वालों और प्रोफेशनल को अतिरिक्त आय अर्जित करने का हर मौका दिया जा सकता है। सबसे पहले, आप स्टॉप-लॉस और एंट्री पॉइंट को मापकर शुरू करते हैं, और फिर आप वांछित जोखिम अनुपात के आधार पर दूरी को एक कारक (1,2 या 3) से गुणा करते हैं।

हालाँकि, आपको जो समझना चाहिए, वह यह है कि इनाम/जोखिम अनुपात जितना अधिक होगा, आपके निवेश से लाभ कमाने की संभावना उतनी ही कम होगी। लाभ प्राप्त करने की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए शुरुआती लोग कम इनाम/जोखिम अनुपात के साथ छोटे लक्ष्यों के लिए जा सकते हैं।

2. हालिया सपोर्ट और रीज़िस्टन्स स्तर

लक्ष्य निर्धारित करने के लिए एक और लोकप्रिय रणनीति नवीनतम सपोर्ट और रीज़िस्टन्स स्तरों का उपयोग करना है। इन स्तरों को प्रमुख कारक माना जाता है जो बाजार के फैसले को प्रभावित करते हैं। आप नवीनतम सपोर्ट और रीज़िस्टन्स स्तर की पहचान करने के लिए अपनी चैट पर बाईं ओर देखकर इस रणनीति का उपयोग कर सकते हैं और फिर अपने ट्रेडिंग लक्ष्य स्तरों को इसके ऊपर रख सकते हैं।

3. फिबोनैकी एक्सटेंशन

यह जानना दिलचस्प है कि ट्रेडर्स अपने ट्रेड में लक्ष्य निर्धारित करने के लिए फिबोनैकी एक्सटेंशन का उपयोग कर सकते हैं। कृपया ध्यान दें कि यह कैसे काम करता है! एक बार जब आप अपने ट्रेडिंग चार्ट पर कई पुलबैक और ब्रेकआउट पोजीशन की पहचान कर लेते हैं, तो आप ब्रेकआउट चाल के नीचे दाईं ओर से शुरू होकर ऊपर जाने वाले फिबोनैकी टूल को निकालने के लिए आगे बढ़ सकते हैं।

“सी रिट्रेसमेंट स्तर” की पहचान कर लेने के बाद, आपको फिबोनैकी एक्सटेंशन स्तरों में से केवल किसी एक से अपने लक्ष्य का उपयोग करना है। सामान्य अर्थों में, जहां तक ​​ट्रेडिंग लक्ष्य निर्धारित करने का संबंध है, 161 और 138 फिबोनैकी स्तरों का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है। 200 और 261 फिबोनैकी स्तरों जैसे सभी विस्तार स्तरों के लिए एक मजबूत बाजार प्रवृत्ति की आवश्यकता होती है।

4. समय आधारित लक्ष्य

एक सुरक्षित और लाभदायक ट्रेड करने के लिए समय-आधारित ट्रेडिंग लक्ष्य का उपयोग अन्य रणनीतियों के साथ जोड़ कर किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, दिन के अंत तक हर ओपन मार्किट पोजीशन में मौजूद रहने के लिए डे ट्रेडर्स अक्सर एन्ड-ऑफ़-डे टारगेट ट्रेडिंग तकनीक का उपयोग करते हैं। दूसरी ओर, इससे उन्हें अपनी रातोंरात निवेश अवधि खोने से बचने में मदद मिलेगी। स्विंग ट्रेडर्स एन्ड-ऑफ़-वीक टारगेट ट्रेडिंग तकनीक का उपयोग करते हैं, जो शुक्रवार की रात को सभी खुले पोजीशन को बंद कर देता है, तांकि सप्ताहांत के दौरान नुकसान के जोखिम से बचा जा सके।

5. ट्रेलिंग स्टॉप लॉस

जैसा कि नाम से तात्पर्य है, ट्रेडिंग में लक्ष्य निर्धारित करने की इस रणनीति में आपको चार्ट पर स्टॉप-लॉस को ट्रेल करना होता है। यह भी समय-आधारित लक्ष्य तकनीक के समान है और इसे अन्य तकनीकों के साथ जोड़ा जा सकता है। ट्रेडर्स जो ट्रेलिंग स्टॉप लॉस मेथड का उपयोग करते हैं, वे आमतौर पर लंबे समय तक ट्रेंड के दौरान अपने मुनाफे को अधिकतम करना चाहते हैं।

इस तकनीक में एक विस्तारित अवधि के लिए मूल्य के ठीक पीछे स्टॉप-लॉस का प्रशिक्षण शामिल है। यह तकनीक जितनी प्रभावी है, यह केवल उन प्रोफेशनल ट्रेडर्स के लिए अनुशंसित है, जिनको इस बारे में अच्छे से जानकारी है कि बाजार की प्रकृति में कैसे हेरफेर किया जा सकता है।

ट्रेड लक्ष्यों का उपयोग क्यों करें?

ट्रेड में प्रवेश करने से पहले, लाभ का लक्ष्य निर्धारित करने से आपको अपने निर्णय के जोखिम और इनामों का प्रभावी ढंग से आकलन करने में मदद मिलती है। लाभ लक्ष्य सेट करके, आप एक वास्तविक मूल्य को पहचानते हैं जो आपके ट्रेड के लिए पोजीशन खोलने से पहले ही लाभदायक है। हालांकि लक्ष्य निर्धारित करना सुरक्षित और विश्वसनीय है (विशेषकर जब सोने जैसे अस्थिर बाजार स्टॉक्स का ट्रेड करते हैं), पर यह आपके बाजार की पोजीशन को एक निर्धारित पॉइंट पर बंद करके संभावित लाभ को सीमित कर सकता है, इस बात पर ध्यान न देते हुए कि क्या होता है जब बाजार मूल्य लक्ष्य को हिट करता है 

अंतिम शब्द

जैसा कि आप समझ चुके हैं कि ट्रेड में लक्ष्य निर्धारित करना नुकसान के जोखिम को कम करने का एक अच्छा तरीका है, आप ऊपर बताई गई किसी भी रणनीति को अपना सकते हैं क्योंकि वे सभी अद्वितीय हैं। आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण यह समझना है कि किसी भी रणनीति को लागू करने से पहले लक्ष्य (टारगेट) ट्रेडिंग कैसे काम करता है।

आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं? इस आर्टिकल के ताज़े ज्ञान को एक ट्रेडिंग प्रक्रिया में बदलें
Binomo पर जाएँ

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
3 मिनट
कमोडिटी ट्रेडिंग रणनीति क्या है?
5 मिनट
भारतीय बाजार के लिए सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग रणनीतियाँ
4 मिनट
एल्गोरिथम ट्रेडिंग रणनीतियाँ और उनके मुख्य सिद्धांत
5 मिनट
रणनीति क्या है?
5 मिनट
निश्चित समय ट्रेडों में सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग रणनीतियां
5 मिनट
इंडिकेटर और रणनीति: क्या अंतर है?