भारतीय बाजार के लिए सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग रणनीतियाँ

ट्रेडों को रात भर रखना कई कारणों से एक चुनौती है। सबसे पहले, शेयर बाजार अत्यधिक अस्थिर है। इसलिए, आपको पता होना चाहिए कि स्टॉप-लॉस और टेक-प्रॉफिट के स्तर को सही तरीके से कैसे मापें। दूसरा, और शायद सबसे महत्वपूर्ण खतरा भावनाओं से है। यदि आपके पास बहुत सारा फण्ड नहीं है और आप शांत रहना नहीं जानते हैं, तो उच्च जोखिम हैं कि आप नुकसान के साथ ट्रेड बंद करेंगे।

इसलिए, इंट्राडे रणनीतियों का उपयोग करना बेहतर है। ये रणनीतियाँ आपको एक ट्रेडिंग दिन के भीतर ट्रेडों को खोलने और बंद करने का अवसर देती हैं। नीचे, आपको भारतीय शेयर बाजार के लिए सर्वोत्तम ट्रेडिंग रणनीतियाँ मिलेंगी।

ट्रेडर्स को बहुत सावधान रहना चाहिए, क्योंकि शेयर बाजार विभिन्न कारकों से प्रभावित होता है। एक अध्ययन से पता चला है कि भारत के क्रिकेट मैच जीतने के अगले दिन निफ्टी इंडेक्स सपाट था। लेकिन नुकसान के कारण इंडेक्स में लगभग 0.231% की गिरावट आई। जब भारत के प्रमुख क्रिकेट खिलाड़ियों में से एक सचिन तेंदुलकर हारते हैं, तो शेयर बाजार में लगभग 20% का नुकसान होता है।

1. गैप एंड गो

ट्रेडर इस रणनीति को तब लागू करते हैं जब शुरुआती मूल्य और पिछले दिन के समापन मूल्य के बीच अंतर होता है। यदि परिसंपत्ति पिछले दिन की तुलना में अधिक खुलती है, तो यह गैप-अप है। इसके विपरीत, यदि शुरुआती कीमत पिछले दिन की समापन दर से कम है, तो यह गैप-डाउन है।

आमतौर पर, बाजार बंद होने पर होने वाली समाचार घटनाओं के कारण गैप आता है। इसलिए, अगली सुबह, गैप होता है, क्योंकि निवेशक घटना पर प्रतिक्रिया देना शुरू करते हैं। इंट्राडे ट्रेडर्स का मानना ​​है कि दिन के अंत तक गैप भर जाएगा इसलिए वह क्लोजिंग प्राइस की दिशा में ट्रेड खोलते हैं।

2. ब्रेकआउट

ब्रेकआउट रणनीति एक ऐसी तकनीक है जो आपको ट्रेड खोलने की अनुमति देती है जब कीमत या तो सपोर्ट या रिज़िस्टन्स स्तर से अधिक हो जाती है। एक ब्रेकआउट ट्रेडर को एक ऐसे स्टॉक का पता लगाना चाहिए जो एक अवधि के लिए एक संकीर्ण चैनल के भीतर कारोबार कर रहा हो। जैसा कि ट्रेड एक दिन के भीतर होने की उम्मीद है, आपको शोर्ट-टर्म समय सीमा के प्राइस मूवमेंटस पर विचार करना चाहिए।

इस रणनीति का विचार सफलता की दिशा में ट्रेड खोलना है। आपको ऐसे इंडीकेटर्स का उपयोग करना चाहिए जो प्राइस वॉल्यूम के साइज़ और ट्रेंड की ताकत को दर्शाते हैं। जब कोई ब्रेकआउट होता है, तो इंडीकेटर्स बढ़े हुए वॉल्यूम और एक मजबूत ट्रेंड को दर्शाते हैं।

फेक-आउट, एक झूठे ब्रेकआउट का उच्च जोखिम होता है। इसलिए, आपको ऐसे इंडीकेटर्स और पैटर्नों का उपयोग करना चाहिए जो ट्रेंड रिवर्सल को दर्शाते हैं। यदि कीमत हॉरिजॉन्टल चैनल के भीतर ट्रेड की जाती है, तो ऊपर या नीचे की मूवमेंट ट्रेंड परिवर्तन को दर्शाएगी।

3. मूविंग एवरेज

आप डे-ट्रेडों के लिए एंट्री और एग्जिट पॉइंट निर्धारित करने के लिए मूविंग एवरेज इंडिकेटर का भी उपयोग कर सकते हैं। इस रणनीति के लिए, निवेशक आमतौर पर एक्स्पोनेन्शल मूविंग एवरेज लागू करते हैं, क्योंकि यह एक साधारण मूविंग एवरेज से बहुत तेज़ है।

जब कीमत मूविंग एवरेज से ऊपर बढ़ती है, तो यह खरीद की पोजीशन खोलने का संकेत है। इसके विपरीत, जब कीमत मूविंग एवरेज से नीचे जाती है, तो आप बेच सकते हैं।

आप एक अन्य रणनीति का उपयोग कर सकते हैं जो मूविंग एवरेज से भी संबंधित है। मूल्य चार्ट पर अलग-अलग अवधियों में दो मूविंग एवरेज लागू करें और उनके क्रॉसओवर के आधार पर ट्रेड खोलें।

जब छोटी अवधि का मूविंग एवरेज (तेज मूविंग एवरेज) बड़ी अवधि (धीमी मूविंग एवरेज) के मूविंग एवरेज से ऊपर ब्रेक होता है, तो यह एक खरीद संकेत है। इस पैटर्न को गोल्डन क्रॉस कहा जाता है। इसके विपरीत, जब तेज मूविंग एवरेज धीमी मूविंग एवरेज से नीचे आता है, तो एक ट्रेडर स्टॉक बेच सकता है। इस पैटर्न को डेथ क्रॉस कहा जाता है।

चूंकि इस रणनीति का उपयोग इंट्राडे ट्रेडों के लिए किया जाता है, इसलिए आपको छोटी अवधियों का उपयोग करना चाहिए, जिसमें 9, 12 और 21 शामिल हैं।

शेयर बाजार के ट्रेडर्स के लिए टिप्स

नीचे दी गई टिप्स को ऊपर सूचीबद्ध किसी भी ट्रेडिंग रणनीति पर लागू किया जा सकता है। ये आपको ट्रेडिंग रणनीतियों का अधिक प्रभावी ढंग से उपयोग करने में मदद करेंगे।

  • यदि आप एक ट्रेडिंग दिन के भीतर ट्रेड कर रहे हैं तो शोर्ट-टर्म समय सीमा का उपयोग करें और बाजार बंद होने से पहले ट्रेड बंद कर दें। डे–ट्रेडर्स ज्यादातर दैनिक चार्ट का उपयोग शोर्ट –टर्म स्टॉक प्राइस मूवमेंट्स और ट्रेंड्स को निर्धारित करने के लिए करते हैं।
  • जैसा कि आप रात भर ट्रेड नहीं रखेंगे, आपको ऐसे शेयरों को चुनना होगा जो ट्रेडिंग दिन के भीतर उच्च लिक्विडिटी प्रदान करते हैं। छोटे और मध्यम-कैप शेयरों से बचने की सलाह दी जाती है, क्योंकि वे कम लिक्विडिटी वाले होते हैं। केवल हाई लिक्विडिटी वाले शेयर ही आपको इंट्राडे ट्रेड करने का अवसर देंगे।
  • हमेशा अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाएं; अपने सभी फंड एक स्टॉक में न रखें, भले ही आपको उस दिन के भीतर अन्य ट्रेडिंग अवसर न दिखें। प्रतीक्षा करना और अगले दिन ट्रेडों को खोलना बेहतर है।
  • हमेशा एंट्री और एग्जिट पॉइंट पहले से निर्धारित करें। ऊपर, आपने भारतीय शेयर बाजार के लिए सबसे अच्छी ट्रेडिंग रणनीतियाँ देखी हैं। हालांकि, वे पहले से एंट्री और एग्जिट पॉइंट्स की भविष्यवाणी कर सकते हैं। ये स्तर आपकी जिम्मेदारी हैं। आपको उन फंड्स जिनके साथ आप ट्रेड कर रहें हैं, संभावित रिवार्ड जो आप ट्रेड से प्राप्त करने की उम्मीद करते हैं, और संभावित नुकसान जो आप एक ट्रेड के लिए सहन कर सकते हैं उन सब पर विचार करने की आवश्यकता है। याद रखें कि आपके संभावित रिवार्ड नुकसान से कम से कम दोगुने बड़े होने चाहिए।
  • फंडामेंटल एनालिसिस को ध्यान में रखें। यदि आप किसी कंपनी की अर्निंग रिपोर्ट, मर्जर और अधिग्रहण और आंतरिक समाचारों को अनदेखा करते हैं तो आप शेयर बाजार में सफलतापूर्वक ट्रेड नहीं कर सकते। उन सभी महत्वपूर्ण घटनाओं को ट्रैक करें जो आपके द्वारा ट्रेड किए जाने वाले स्टॉक के मूल्य को प्रभावित कर सकते हैं। यदि आप समाचारों के परिणाम के बारे में सुनिश्चित नहीं हैं तो समाचार से पहले ट्रेड करने से बचें।
  • बाजार खुलने के बाद पहले घंटे के भीतर ट्रेड करने से बचने की सलाह दी जाती है। आप जल्दी से ट्रेडों को खोलने के लिए उत्साहित हो सकते हैं क्योंकि आप को एक दिन के भीतर ट्रेड करना है। हालांकि जल्दबाजी में बड़ा नुकसान हो सकता है। ज्यादातर निवेशक दोपहर से 1 बजे के बीच पोजीशन खोलना पसंद करते हैं।

क्या सीखें 

जब आप शेयर बाजार में प्रवेश करते हैं, तो आपको कंपनी की आंतरिक घटनाओं और समग्र आर्थिक और राजनीतिक स्थितियों सहित कई बातों पर विचार करना चाहिए। इसलिए, विशेष ट्रेडिंग रणनीतियों का उपयोग करने की सलाह दी जाती है जो आपके ट्रेडों को संरचित करने में मदद करेगी।

डिस्क्लेमर: कोई भी रणनीति ट्रेड के 100% सही परिणाम की गारंटी नहीं दे सकती है।

आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं? इस आर्टिकल के ताज़े ज्ञान को एक ट्रेडिंग प्रक्रिया में बदलें
Binomo पर जाएँ

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
बैकटेस्टिंग ट्रेडिंग रणनीतियों के बारे में आपको क्या पता होना चाहिए
3 मिनट
मोमेंटम ट्रेडिंग: शुरुआत करने वालों के लिए स्पष्टीकरण और रणनीतियाँ
6 मिनट
रणनीति बनाम ट्रेड सिस्टम: क्या अंतर है?
6 मिनट
स्कैल्पिंग: शुरुआती लोगों के लिए डे ट्रेडिंग स्ट्रेटेजीज
6 मिनट
डे ट्रेडिंग जोखिम प्रबंधन रणनीतियाँ
5 मिनट
निश्चित समय ट्रेडों में सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग रणनीतियां