15 मिनट के चार्ट से सफलतापूर्वक ट्रेड कैसे करें

सही रणनीति के साथ शॉर्ट-टर्म ट्रेडिंग आपको अपने कौशल को विकसित करने और लाभ कमाने में मदद करेगी। आइए ब्रेकआउट रणनीति सहित सबसे लोकप्रिय 15-मिनट की ट्रेडिंग तकनीकों पर एक नज़र डालें।

15-मिनट के चार्ट्स से ट्रेड करने के नियम

15-मिनट की ट्रेडिंग रणनीति एक अल्पकालिक यानी शॉर्ट-टर्म ट्रेंड फॉलो करने की तकनीक है जो दिन के ट्रेडर्स और स्केलपर्स के बीच सबसे लोकप्रिय है। पोजिशनल ट्रेडिंग के विपरीत, जहाँ आपको लंबे समय तक ट्रेड करने की आवश्यकता होती है, 15-मिनट की रणनीति नए लोगों के लिए भी उपयुक्त है। लेकिन, एक ट्रेडर को कुछ ट्रेडिंग नियमों का पालन अवश्य करना चाहिए।

इंडिकेटर और रणनीति: क्या अंतर है?

15-मिनट के चार्ट पर ट्रेडिंग रणनीति का उपयोग करने के मुख्य नियम:

  • 15-मिनट की ट्रेडिंग रणनीति ब्रेकआउट और ट्रेंडिंग बाजारों के लिए उपयुक्त है। कोशिश करें कि इसका इस्तेमाल रेंजिंग या अस्थिर बाजारों में न करें।
  • इस रणनीति का उपयोग  यूरोपीय और एशियाई ट्रेडिंग घंटों के लिए करना बेहतर है।
  • कोशिश करें कि न्यूयॉर्क सेशन में बाजार बंद होने के 2 घंटे के भीतर कोई भी पोजीशन न खोलें।
  • यह तकनीक किसी भी मुद्रा जोड़े के साथ-साथ FNO स्टॉक्स के ट्रेड के लिए भी श्रेष्ठ है।
  • चार्ट विश्लेषण की सटीकता बढ़ाने के लिए Heiken Ashi, ADX, Parabolic SAR, Bollinger Bands, 5-, 8- और 20-EMA जैसे संकेतकों का उपयोग करें।
  • केवल तभी खरीदें जब दैनिक चार्ट पर ट्रेंड 15-मिनट के चार्ट की दिशा से मेल खाता हो।
  • जब कीमत समर्थन स्तर से लगभग दो पिप्स नीचे हो तब बेचें।

5-मिनट की ट्रेडिंग रणनीति के लिए कैंडलस्टिक चार्ट्स को पढ़ने और समर्थन और प्रतिरोध स्तरों को समझने की क्षमता की आवश्यकता होती है।

15-मिनट के चार्ट से ट्रेडिंग

सबसे सीधी ट्रेडिंग रणनीति है, 15-मिनट का ब्रेकआउट। आपको चार्ट के अलावा किसी और चीज़ का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है, यदि ज़रुरत हो तो ट्रेंड लाइनों को जोड़ लें। इस तकनीक का सार इस प्रकार है: यदि चार्ट एक दिशा में चलता है और 15-मिनट के उच्च स्तर को तोड़ता है, तो सबसे ज़्यादा संभावना है कि यह चलता रहेगा (या तो ऊपर या नीचे)।

डाइवर्जन्स ट्रेडिंग में महारत कैसे हासिल करें – संपूर्ण गाइड

संकेतक और ऑसिलेटर्स भी 15-मिनट के चार्ट के विश्लेषण की सटीकता को बढ़ाने में मदद करते हैं। हालाँकि, उलझन को कम करने के लिए, नए ट्रेडर्स को उनमे से एक साथ कईयों का उपयोग ना करने की सलाह दी जाती है।

संकेतकों का उपयोग करने वाली सबसे लोकप्रिय तकनीकों में से एक है 20-EMA रणनीति, लेकिन यह पहले वर्णित रणनीति की तुलना में ज़्यादा जटिल है। इसके लिए आपको दैनिक चार्ट पढ़ने में सक्षम होना चाहिए, EMA कैसे काम करता है यह पता होना चाहिए और समग्र ट्रेंड और समर्थन/प्रतिरोध स्तरों का ट्रैक रखना चाहिए।

एक्सपोनेंशियल मूविंग एवरेज या EMA एक तकनीकी संकेतक है जो एक समय के साथ एसेट की कीमत पर नज़र रखता है।

आइए देखें कि 20-EMA रणनीति का उपयोग कैसे किया जाता है:

  • अगर 15-मिनट के चार्ट पर कीमत 20-EMA को तोड़ती है, तो आप “बॉय” पोजीशन यानी खरीदने की स्थिति खोल सकते हैं। अगर कीमत 20-EMA से कम है, तो आप बेच सकते हैं।
  • अगर कीमत कई दिनों से 20-EMA लाइन के ऊपर जा रही है, तो उसके लाइन पर वापस आने पर खरीद लें। अगर कीमत कई दिनों से लाइन से नीचे गिर रही है, तो कीमत वापस आने पर आप एक शॉर्ट पोजीशन यानी छोटी स्थिति में प्रवेश कर सकते हैं।

15-मिनट की रणनीति सहित कोई भी ट्रेडिंग रणनीति किसी भी ट्रेड के परिणाम की गारंटी नहीं देती। संकेतकों की मदद से इसकी पुष्टि करना महत्वपूर्ण है, उदाहरण के लिए, Directional Movement Index (DMI)।

4 मानसिक हैक्स जो आपके व्यापार को बेहतर के लिए बदल देंगे
बाज़ार की ओर देखने का तरीका बदलते हुए अपनी ट्रेडिंग में वृद्धि करना चाहते हैं? 4 मानसिक हैक सीखें जिन्हें तुरंत लागू किया जा सकता है।
अधिक पढ़ें

Directional Movement Index कैसे काम करता है?

कमाई-गति रणनीति: एक पूर्ण ट्यूटोरियल 2022

15-मिनट के चार्ट पर रणनीतियों को लागू करने वाले कई ट्रेडर्स DMI का उपयोग करते वक़्त सावधान रहते हैं क्योंकि यह जटिल लगता है। हालाँकि, यह संकेतक बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि यह उच्च और निम्न का आपसी संबंधन करके किसी एसेट की क्षमता को परिभाषित करता है।

अब मुनाफ़ा आपकी पहुँच में है!
Binomo पर जाएँ

डायरेक्शनल मूवमेंट इंडेक्स में तीन घटक होते हैं:

  1. सकारात्मक दिशा (DI+/हरी रेखा)

यदि आज का उच्च पिछले उच्च से कम है, तो DI+ का मान शून्य है। यदि आज का उच्च पिछले वाले से अधिक है तो DI+ सकारात्मक है। इसलिए, यदि DI+ रेखा ऊपर उठती है, तो यह इंगित करती है कि उच्च ऊपर बढ़ रहे हैं (तेजी का संकेत)।

  1. नकारात्मक दिशा (DI-/लाल रेखा)

DI- सकारात्मक है, यदि पूर्व निम्न माइनस वर्तमान निम्न आज के उच्च माइनस पूर्व उच्च से अधिक है। विपरीत स्थिति में, DI- को शून्य मान लिया जाता है। इसलिए, यदि DI- रेखा बढ़ जाती है, तो यह सुझाव देती है कि निम्न कम हो रहे हैं (मंदी का संकेत)।

  1. एवरेज डायरेक्शनल इंडेक्स (ADX/काली रेखा)

ADX मूल्य के ट्रेंड का संकेत नहीं देता है। इसके बजाय, यह इस बात पर प्रकाश डालता है कि ट्रेंड कितना मजबूत है:

  • यदि यह 25 से नीचे है, तो ट्रेंड कमजोर है।
  • यदि यह 26 से 50 तक है, तो ट्रेंड तुलनात्मक रूप से मजबूत है।
  • यदि यह 50 और 75 के बीच है, तो ट्रेंड बहुत मजबूत है।
  • यदि यह 75 से अधिक है, तो ट्रेंड बहुत ज़्यादा मजबूत है।

ADX के 25 से नीचे होने पर ट्रेड न करने का प्रयास करें। केवल एक मजबूत ट्रेंड की दिशा में व्यापार करने से निवेश खोने का जोखिम कम हो सकता है और आपके संभावित लाभ में वृद्धि हो सकती है।

सामान्य जानकारी 

प्रवृत्ति व्यापार के लिए शुरुआती गाइड

15-मिनट के चार्ट में ट्रेडिंग की रणनीतियाँ नए ट्रेडर्स के लिए भी उपयुक्त हैं। 15-मिनट के ब्रेकआउट जैसी सरल तकनीकों में कुशलता पाने के बाद, आप 15-40 टेनिस ट्रेडिंग रणनीति सहित और उन्नत तकनीकों की ओर बढ़ सकते हैं। हालाँकि, यह याद रखना आवश्यक है कि कोई भी पहले से तैयार तकनीक लाभ की गारंटी नहीं देती है, और आप हमेशा अपने निवेश को खोने का जोखिम उठाते हैं। इस जोखिम को कम करने के लिए, आपको बाजार का विश्लेषण करना और चार्ट्स को पढ़ना सीखना चाहिए।

लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
5 मिनट
निश्चित समय ट्रेडों में सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग रणनीतियां
3 मिनट
मोमेंटम ट्रेडिंग: शुरुआत करने वालों के लिए स्पष्टीकरण और रणनीतियाँ
4 मिनट
आपूर्ति और मांग: 2022 में देखने के लिए रुझान
5 मिनट
ब्रेकआउट ट्रेडिंग रणनीति क्या है?
5 मिनट
एल्गोरिथम ट्रेडिंग रणनीतियाँ: एआई का उपयोग करके ट्रेडिंग करना
5 मिनट
5 कारण क्यों बैकटेस्टिंग आप फिट नहीं है

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें