डे ट्रेडिंग जोखिम प्रबंधन रणनीतियाँ

नौसिखिया ट्रेडर्स विभिन्न ट्रेडिंग रणनीतियों पर ध्यान केंद्रित करते हैं और जोखिम प्रबंधन के बारे में भूल जाते हैं। अधिकांश ट्रेडर्स को यह भी नहीं पता कि जोखिम प्रबंधन क्या है और बाजार में उनकी सफलता के लिए यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद ही दुनिया ने जोखिम प्रबंधन की भूमिका को समझा, जब वह वित्तीय जोखिमों को छोड़कर असल  जोखिमों पर ध्यान केंद्रित कर रहा था। वित्तीय जोखिम प्रबंधन की अवधारणा 1980 के दशक में ही फली-फूली, जो कॉर्पोरेट वित्तीय जोखिमों से निपटने पर केंद्रित थी। आज, हालांकि, यह व्यक्तिगत और कॉर्पोरेट वित्त दोनों का एक अभिन्न अंग है।

नीचे, आप विभिन्न जोखिम प्रबंधन रणनीतियाँ देखेंगे और सीखेंगे कि किस प्रकार रिटर्न और नुकसान को अलग करना है।

एक प्लान बनाएं

इससे पहले कि आप जोखिमों का प्रबंधन करना सीखें, आपको यह परिभाषित करना चाहिए कि आप प्रति ट्रेड कितना जोखिम उठा सकते हैं।

कई नए लोग ट्रेडिंग को लेकर इतने उत्साहित होते हैं कि वे एक ट्रेडिंग योजना को भूल जाते हैं। डे-ट्रेडिंग को एक गंभीर गतिविधि के रूप में लें।

एक अच्छी तरह से संरचित योजना आपकी आधी सफलता के बराबर है।

आपको पहले से पता होना चाहिए कि आप प्रति ट्रेड कितनी पूंजी खर्च करने के लिए तैयार हैं। यह राशि समय के साथ बदल जाएगी, लेकिन हर बार जब आप कोई नई पोजीशन खोलते हैं, तो आपको इस बात का स्पष्ट अंदाजा होना चाहिए कि आप कितना फंड आवंटित कर सकते हैं।

ये ऐसे प्रश्न हैं जो आपको यह निर्धारित करने में मदद करेंगे कि आप एक ट्रेड में कितनी राशि लगाने के लिए तैयार हैं:

  • क्या आप अपने फंड्स का प्रबंधन स्वयं करेंगे, या कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिस पर आप भरोसा करते हैं?
  • आप कितनी रणनीतियों का प्रयोग करेंगे?
  • आप किस प्रकार की रणनीति लागू करेंगे – विवेकाधीन या व्यवस्थित/स्वचालित?

यह महत्वपूर्ण है कि आप भोजन और आवास सहित बुनियादी जरूरतों के लिए आवश्यक फंड्स को खर्च न करें।

याद रखें कि डे ट्रेडिंग रणनीति आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली कई विविध ट्रेडिंग रणनीतियों में से एक होनी चाहिए। शायद आपने तीन ट्रेडों को अलग-अलग रणनीतियों के साथ खोला लेकिन समान संभावित रिवार्ड्स के साथ। यदि आप एक में हार रहे हैं और दो में सफल हो रहे हैं, तो आपकी डे ट्रेडिंग को सफल माना जा सकता है।

जोखिम प्रबंधन और ट्रेडिंग रणनीतियाँ

यह निर्धारित करने के बाद कि आप ट्रेडिंग पर कितना खर्च कर सकते हैं, एक ट्रेडिंग रणनीति निर्धारित करें जिसे आप लागू करेंगे। दो प्रमुख रणनीति श्रेणियां हैं – विवेकाधीन और व्यवस्थित/स्वचालित। विवेकाधीन रणनीति का उपयोग करते हुए, आप कुछ ट्रेडिंग संकेतों को अनदेखा कर सकते हैं। एक व्यवस्थित रणनीति कठिन होती है, क्योंकि इसमें आपको संकेत मिलने पर ही आपको ट्रेड में प्रवेश करना होता है। इसीलिए, आप पूर्व निर्धारित मानदंडों के आधार पर जोखिमों का प्रबंधन करते है।

1. व्यवस्थित डे ट्रेडिंग रणनीति के लिए जोखिम प्रबंधन

एक व्यवस्थित डे ट्रेडिंग रणनीति लागू करते समय, आप अपनी ट्रेडिंग की सफलता पर मानवीय भावनाओं के प्रभाव को सीमित करते हैं। रणनीति प्रभावी है या नहीं यह परिभाषित करने के लिए ऐतिहासिक डेटा पर जोखिम प्रबंधन का बैकटेस्ट किया जा सकता है। नतीजतन, आप अपनी ट्रेडिंग रणनीति में अधिक विश्वास हासिल करते हैं। इसके अलावा, आप रीयल-टाइम डेटा का उपयोग करके डेमो खाते पर इसका परीक्षण कर सकते हैं। डेमो-अकाउंट ट्रेडिंग को जरूरी कहा जा सकता है। यह आपको रणनीति में सुधार करने और एक बार फिर इसकी प्रभावशीलता की पुष्टि करने का अवसर देगा।

2. विवेकाधीन डे ट्रेडिंग रणनीति के लिए जोखिम प्रबंधन

यदि आप स्वयं ट्रेडिंग करने की योजना बना रहे हैं, तो आपको बाजार में प्रवेश करने से पहले अपनी जोखिम प्रबंधन रणनीति को परिभाषित करना चाहिए। यह कठिन हो सकता है क्योंकि व्यवस्थित रणनीति तकनीकी विश्लेषण टूल्स पर आधारित है जिसमें एंट्री और एग्जिट बिंदुओं के लिए सिद्ध नियम हैं। हालांकि विवेकाधीन रणनीति का पालन करते हुए प्रत्येक ट्रेड के लिए एक ही रिस्क-टू-रिवार्ड फॉर्मूला का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है, पर यह एक बुरा विचार नहीं है।

रणनीति के रिटर्न: प्रकार

जोखिमों की गणना करने से पहले, आपको रिटर्न के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में पता होना चाहिए। आपको इस बात पर आश्चर्य हो सकता है कि रिटर्न के कई प्रकार होते हैं। हालांकि, अधिक व्यापक ट्रेडिंग योजना बनाने के लिए उन्हें विभाजित करना महत्वपूर्ण है।

  • मूल रिटर्न प्रकार तब होता है जब सफल ट्रेडों के लिए आपके रिटर्न विफल पोजीशन पर आपके नुकसान से अधिक हो जाते हैं। दूसरे शब्दों में, आपको खोने से ज्यादा पाने की जरूरत है।
  • हारने वाले ट्रेडों का अधिक होना भी संभव है। हालांकि, सफल ट्रेड्स पर आपको मिलने वाले फंड्स नुकसान से काफी अधिक होगी।
  • रिटर्न हासिल करने का एक और अवसर तब होता है जब सफल ट्रेडों की संख्या हारने वालों की तुलना में अधिक होती है। आपको प्राप्त होने वाले फंड्स या तो आपके द्वारा हारी गई राशि के बराबर या उससे थोड़ा कम हो सकते हैं।

आप दुविधा में पड़ सकते हैं, इसलिए यहां कुछ उदाहरण दिए गए हैं।

कल्पना कीजिए कि आप एक ट्रेडिंग दिन के भीतर विभिन्न संपत्तियों पर सात ट्रेड खोलना चाहते हैं। यदि आपके पास हारने की तुलना में अधिक सफल ट्रेड हैं, तो आप प्रत्येक ट्रेड के लिए समान रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, यदि आपके $100 के चार सफल ट्रेड हुए हैं, तो आपका रिटर्न $400 है। हालांकि, आप बाकी ट्रेडों में से प्रत्येक के लिए $100 हार रहे हैं, और कुल नुकसान $300 है। फिर भी, रिटर्न कुल $100 का है।

यदि आपके अधिक ट्रेड हारने वाले हैं, तो आपको सफल पोजीशन के लिए उच्च संभावित रिवार्ड्स की आवश्यकता होगी। उदाहरण के लिए, तीन सफल ट्रेडों के लिए $200 प्राप्त करना, आपका रिटर्न $600 है। यहां तक ​​​​कि अगर आपके $100 के चार हारने वाले ट्रेड हैं, तो भी आपकी कुल आय $200 होगी।

जोखिम मापें

जोखिम प्रबंधन इस धारणा पर आधारित है कि आप एक ट्रेड पर कितनी पूंजी हार सकते हैं। यह एक संभावित नुकसान है जिसका एहसास नहीं हुआ है।

आपके द्वारा वहन किए जा सकने वाले संभावित जोखिम को मापने के लिए, पूर्व निर्धारित करें कि आप कितना नुकसान उठाना चाहते हैं।

ट्रेडिंग करते समय, आपको होने वाले नुकसान का निर्धारण करना मुश्किल नहीं है। प्रत्येक सफल ट्रेडर टेक-प्रॉफिट और स्टॉप-लॉस ऑर्डर को पहले से परिभाषित करता है। ये ऐसे बिंदु हैं जहां वे रिवार्ड या नुकसान के साथ बाजार से बाहर निकलेंगे। टेक-प्रॉफिट और स्टॉप-लॉस स्तर जोखिम को काफी कम करते हैं। संभावित रिटर्न पर जोखिम की भविष्यवाणी की जानी चाहिए।

रिस्क/रिवार्ड अनुपात और तकनीकी विश्लेषण

याद रखें कि आपके रिवार्ड्स हमेशा नुकसान से बड़े होने चाहिए। सबसे आम रिस्क/रिवार्ड अनुपात 1:2 और 1:3 हैं। इसका मतलब है कि आपका नुकसान एक ट्रेड से संभावित रिवार्ड्स  से कम से कम दो या तीन गुना कम होना चाहिए।

चार्ट पैटर्न और तकनीकी संकेतक होते हैं जो आपको एंट्री और एग्जिट बिंदुओं को परिभाषित करने में मदद करेंगे। उदाहरण के लिए, आप जानते हैं कि किसी पोजीशन की कीमत में वृद्धि होगी जब कीमत डबल टॉप पैटर्न की नेकलाइन से ऊपर उठती है। नीचे और नेकलाइन के बीच जितनी दूरी होगी इसके उतनी ही दूरी पर ऊपर जाने की संभावना है। इस प्रकार, आप जानते हैं कि संभावित रिवार्ड कितना होगा। रिस्क/रिवार्ड अनुपात लागू करके, आप स्टॉप-लॉस स्तर को परिभाषित कर सकते हैं।

प्रभावी जोखिम प्रबंधन के लिए टिप्स

  • आपके द्वारा ट्रेड की जाने वाली संपत्ति के एवरेज प्राइस मूवमेंट का निर्धारण करें।
  • पहले से गणना करें कि आप एक ट्रेड के लिए कितना प्राप्त कर या खो सकते हैं।
  • यदि आप करेंसी का ट्रेड करते हैं, तो आप प्राइस मूवमेंट को पिप्स या प्रतिशत में माप सकते हैं। यदि आप शेयरों की ट्रेडिंग करते हैं, तो प्राइस मूवमेंट की गणना लिस्टिंग वाली करेंसी में की जा सकती है।
  • कई रणनीतियों के साथ ट्रेडिंग में विविधता लाने की सलाह दी जाती है। कई रणनीतियों का उपयोग करके, आप जोखिम को कम कर सकते हैं। यदि एक रणनीति विफल हो जाती है, तो दूसरी नुकसान की भरपाई करने की अधिक संभावना रखती है।

क्या सीखें 

जोखिम प्रबंधन किसी भी ट्रेडिंग एप्रोच का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, खासकर यदि आप एक दिन में छोटी अवधि के भीतर कई ट्रेड खोलने की योजना बना रहे हैं। एक ट्रेडिंग प्लान बनाएं, जानें कि आप कितना जोखिम उठाना चाहते हैं, प्रत्येक ट्रेड के लिए संभावित नुकसान को परिभाषित करें, और बाजार में प्रवेश करने से पहले स्टॉप-लॉस और टेक-प्रॉफिट ऑर्डर प्लेस करें।

डिस्क्लेमर: कोई भी रणनीति ट्रेडिंग के 100% सही परिणाम की गारंटी नहीं दे सकती है।

आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं? इस आर्टिकल के ताज़े ज्ञान को एक ट्रेडिंग प्रक्रिया में बदलें
Binomo पर जाएँ

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
5 मिनट
शीर्ष 5 शॉर्ट-टर्म ट्रेडिंग रणनीतियाँ जिसका उपयोग प्रोफेशनल्स करते हैं
7 मिनट
10 बैकटेस्टिंग गलतियाँ जो शुरुआती लोग करते हैं
4 मिनट
बैकटेस्टिंग ट्रेडिंग रणनीतियों के बारे में आपको क्या पता होना चाहिए
5 मिनट
निश्चित समय ट्रेडों में सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग रणनीतियां
5 मिनट
ब्रेकआउट ट्रेडिंग रणनीति क्या है?
4 मिनट
प्रवृत्ति व्यापार के लिए शुरुआती गाइड