एल्गोरिथम ट्रेडिंग रणनीतियाँ और उनके मुख्य सिद्धांत

एल्गोरिथम ट्रेडिंग उन निर्देशों का पालन करती है जो निवेशकों को ट्रेडों को स्वचालित रूप से प्लेस करने और निष्पादित (एक्सीक्यूट) करने का अवसर देते हैं। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि ट्रेडर को रिवॉर्ड पाने के लिए कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। ट्रेडर का कार्य उस रणनीति को चुनना है जो उनकी ट्रेडिंग शैली, फंड्स की राशि, जोखिम प्रबंधन और लक्ष्यों के अनुरूप हो।

2008 में भारत में एल्गोरिथम ट्रेडिंग की अनुमति दी गई जब सेबी ने एक मेमोरेबल सर्कुलर जारी किया जिसमें कहा गया था कि देश ने अपने बाजारों को एल्गो-ट्रेडिंग के लिए खोल दिया है। 2011 के बाद से, एल्गो-ट्रेडिंग के आधार पर टर्नओवर प्रतिशत, बीएसई की इक्विटी पर 50% से अधिक बढ़ गया है।

नीचे आप सर्वोत्तम एल्गोरिथम ट्रेडिंग रणनीतियां के बारे में जानकारी पा सकते हैं।

एल्गोरिथम ट्रेडिंग रणनीतियों के प्रकार

आइए प्रमुख प्रकार की एल्गो-ट्रेडिंग रणनीतियों से शुरुआत करें।

1. मोमेंटम 

मोमेंटम मूल एल्गोरिथम ट्रेडिंग सिस्टम है। इसके पीछे का विचार मजबूत बाजार ट्रेंड को समझना है।

  • इस रणनीति का उपयोग साधारण ट्रेडों के लिए किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, आप पांच शेयरों में निवेश कर सकते हैं जो एनुअल परफॉरमेंस मेट्रिक्स के अनुसार दूसरों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करते हैं।
  • आप रिलेटिव और ऐब्सलूट मोमेंटम दोनों का उपयोग करके रणनीति को अधिक व्यापक बना सकते हैं। निवेशक समय-समय पर मोमेंटम सिस्टम को बदल सकते हैं – उदाहरण के लिए, हर हफ्ते, महीने, तिमाही या साल।

2. मीन रिवर्श़न

एक आम धारणा है कि ओवरसोल्ड या अधिक खरीदी गई के बाद कीमत अपने औसत मूल्य पर वापस आ जाती है। मीन रिवर्श़न रणनीति का आईडिया लॉन्ग-टर्म औसत मूल्य निर्धारित करना और एक ओवरसोल्ड या अधिक खरीदी गई संपत्ति का पता लगाना है। यदि यह ओवरसोल्ड है, तो आपको इसे खरीदना चाहिए और जब कीमत ट्रेडिंग रेंज (औसत मूल्य) के केंद्र तक पहुंच जाए तो इसे बेच देना चाहिए। जब कीमत अधिक हो जाती है, तो निवेशक परिसंपत्ति को बेचते हैं और इसे खरीदते हैं जब कीमत ट्रेडिंग रेंज के मध्य बिंदु तक पहुंच जाती है।

3. मौसमी रणनीतियाँ

ट्रेडिंग करते समय, उच्च और निम्न रिटर्न वाली अवधियों को जानना महत्वपूर्ण है। उदाहरण के लिए, शेयर बाजार में आमतौर पर गर्मियों के दौरान और साल के अंत में अधिक रिटर्न होता है। कई निवेशक टैक्स ब्रेक का लाभ उठाने के लिए साल के अंत में अपने हारने वाले ट्रेडों को बेचना पसंद करते हैं। सितंबर सबसे कम रिटर्न वाला महीना माना जाता है। इसके अलावा, यह याद रखने योग्य है कि स्टॉक की कीमतों में एक तिमाही के अंत तक और छुट्टियों के करीब काफी उतार-चढ़ाव होता है।

स्निफ्फिंग ट्रेडिंग एल्गोरिथम्स

मानक एल्गोरिथम सिस्टम के अलावा, तथाकथित स्निफ्फिंग ट्रेडिंग एल्गोरिथम्स भी हैं। उनका उपयोग यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है कि दूसरी तरफ एक व्यापारी/निवेशक द्वारा एल्गोरिथम का उपयोग किया जाता है या नहीं। उदाहरण के लिए, एक विक्रेता यह पहचान सकता है कि कोई खरीदार किसी एल्गोरिथम का उपयोग करता है या नहीं। यह बड़े ऑर्डर के अवसरों का पता लगाने में मदद करता है और एक निवेशक को उच्च दर पर ऑर्डर भरकर एक सफल ट्रेड करने में सक्षम बनाता है।

एल्गोरिथम ट्रेडिंग रणनीतियाँ: उदाहरण 

यद्यपि कई एल्गो-ट्रेडिंग तकनीकें हैं, इस लेख में सबसे असामान्य तकनीकों को शामिल किया गया है। आप यहां और रणनीतियां देख सकते हैं।

1. डॉलर-लागत औसत

एल्गोरिथम ट्रेडिंग में इस दृष्टिकोण को आसानी से लागू किया जा सकता है। विचार एक निश्चित परिसंपत्ति में समय-समय पर पूंजी की एक निश्चित राशि का निवेश करना है। यह सबसे प्रभावी लॉन्ग टर्म निवेश दृष्टिकोणों में से एक है। तर्क यह है कि कीमत में उतार-चढ़ाव आपको एक बार में पूरी राशि का निवेश करने की तुलना में सस्ती संपत्ति खरीदने का अवसर दे सकता है।

2. इंडेक्स फंड का पुनर्संतुलन

परिभाषित अवधियाँ हैं जब इंडेक्स फंड अपने संबंधित बेंचमार्क इंडेक्स के साथ अपनी होल्डिंग्स को पुनर्संतुलित करते हैं। पुनर्संतुलन एल्गोरिथम ट्रेडर्स के लिए अवसर प्रदान करता है, जो अपेक्षित ट्रेडों का लाभ उठाते हैं। रिवार्ड पुनर्संतुलन से पहले फंड में शेयरों की संख्या पर निर्भर करते हैं। एल्गोरिथम ट्रेडिंग समय पर और सर्वोत्तम कीमतों के लिए ट्रेडों को निष्पादित करने की अनुमति देता है।

अंतिम विचार

एल्गोरिथम ट्रेडिंग एक प्रभावी उपकरण है जो एक निवेशक को समय बचाने, भावनाओं के कारण होने वाली गलतियों से बचने और ट्रेडों की संख्या को गुणा करने की अनुमति देता है। हालांकि, अपने ट्रेडों के लिए एल्गो-रणनीति लागू करने के लिए, आपको मैन्युअल रूप से एक विश्वसनीय रणनीति विकसित करनी चाहिए। याद रखें कि किसी भी ट्रेडिंग एप्रोच को आपके लक्ष्यों, निवेश दृष्टिकोण, फंड्स की राशि और आपके द्वारा ट्रेड की जाने वाली संपत्ति के अनुसार अनुकूलित किया जाना चाहिए।

डिस्क्लेमर: कोई भी रणनीति ट्रेडिंग के 100% सही परिणाम की गारंटी नहीं दे सकती है।

आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं? इस आर्टिकल के ताज़े ज्ञान को एक ट्रेडिंग प्रक्रिया में बदलें
Binomo पर जाएँ

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
3 मिनट
मोमेंटम ट्रेडिंग: शुरुआत करने वालों के लिए स्पष्टीकरण और रणनीतियाँ
6 मिनट
डे ट्रेडिंग जोखिम प्रबंधन रणनीतियाँ
6 मिनट
रणनीति बनाम ट्रेड सिस्टम: क्या अंतर है?
4 मिनट
ब्रेकआउट ट्रेडिंग पर कैसे हावी होयें
3 मिनट
हेलीकॉप्टर ट्रेडिंग रणनीति: यह 2022 में क्यों काम नहीं कर सकता है
5 मिनट
शुरुआती लोगों के लिए आसानी से पालन की जाने वाली एनएफटी ट्रेडिंग रणनीति