क्रिसमस के समय किन रणनीतियों का उपयोग किया जा सकता है?

जहां क्रिसमस का मौसम जश्न से भरा होता है, वहीं इस दौरान बाज़ारों में सन्नाटा पसरा रहता है। यह ज़्यादातर इसलिए है क्योंकि संस्थागत ट्रेडर्स, जो बड़े वॉल्यूम में ट्रेड करते हैं, छुट्टी पर होते हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि बाज़ार में कोई गतिविधि नहीं होती है – खुदरा निवेशक वित्तीय बाज़ारों पर हावी रहते हैं। और कम लिक्विडिटी के कारण बाज़ार में ज़्यादा उतार-चढ़ाव का ख़तरा रहता है। आइए चर्चा करें कि क्रिसमस के समय किन रणनीतियों का उपयोग किया जा सकता है। 

सैंटा क्लॉज़ रैली

बोलिंगर बैंड ट्रेडिंग रणनीति क्या है?

 सैंटा क्लॉज़ रैली क्रिसमस के बाद के सप्ताह के दौरान वित्तीय बाज़ारों में लगातार तेज़ी का ट्रेंड है – साल के आख़िरी पांच कारोबारी दिन और नए साल के पहले दो दिन। 

 येल हर्श ने पहली बार 1972 में “स्टॉक ट्रेडर्स एल्मेनैक” में इस घटना का दस्तावेज़ीकरण किया। आमतौर पर, सैंटा क्लॉज़ रैली को नए साल के इंडिकेटर के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। येल हर्श का कहना था, “अगर सैंटा क्लॉज़ कॉल करने में विफल रहे, तो बियर्स आ सकते हैं…”। 

 ऐतिहासिक रूप से, सैंटा क्लॉज़ रैली के कारण अस्पष्ट हैं। आम तौर पर, क्रिसमस का मौसम कर-हानि संचयन अवधि का अंत होता है, जो चौथी तिमाही के दौरान शुरू होता है और 31 दिसंबर को समाप्त होता है। आम तौर पर, निवेशक पूंजीगत लाभ को कम करने के लिए समय-समय पर अपनी घाटे वाली सिक्योरिटिज़ को बेच देते हैं। मनोवैज्ञानिक रूप से, खुदरा निवेशक भी अत्यधिक आशावादी होते हैं, जिससे बिना सोचे-समझे कदम उठाए जा सकते हैं। अक्सर अपने साल के अंत के बोनस का निवेश करते हैं और कर-हानि संचयन से प्राप्त आय को बाज़ारों में दोबारा निवेश करते हैं। 

 अब, याद रखें कि संस्थागत ट्रेडर और निवेशक ब्रेक पर हैं, इसलिए बाज़ार में लिक्विडिटी कम है। और इसका मतलब है कि खुदरा निवेशकों की ओर से ख़रीदारी की गतिविधियों में वृद्धि की वजह से बड़ा बुलिश ट्रेंड आया है। 

लेकिन याद रखें कि जहां सैंटा क्लॉज़ की रैली क्रिसमस के समय में तेज़ी का कारण बन सकती है, वहीं मूल सिद्धांत इस पर भारी पड़ सकते हैं। इसलिए, किसी भी सिक्योरिटी में निवेश करने से पहले हमेशा जाँच-पड़ताल करें।

वॉल्यूम ट्रेडिंग

सर्वोत्तम ट्रेडिंग रणनीतियाँ: शुरुआती लोगों के लिए एक गाइड

 जैसा कि हमने कहा, क्रिसमस के दौरान बाज़ार में लिक्विडिटी आमतौर पर साल के सबसे निचले स्तर पर होती है, क्योंकि ट्रेड वॉल्यूम कम होता है। मुख्य रूप से, बाज़ार में अधिकांश लिक्विडिटी संस्थागत ट्रेडरों और निवेशकों से आती है जो क्रिसमस की अवधि के दौरान छुट्टी पर रहते हैं। इसका मतलब है बाज़ार में प्रमुख खिलाड़ी खुदरा निवेशक होते हैं। 

 ऐतिहासिक रूप से, क्रिसमस के समय के आसपास प्राइस ऐक्शन एक समेकन चरण में साइड की ओर रहता है। ज़्यादातर, आपकी ट्रेडिंग रणनीति ऑर्डर फ़्लो पर आधारित होनी चाहिए। प्रत्येक वित्तीय बाज़ार, विदेशी मुद्रा से लेकर शेयर बाज़ार तक, अपनी ऑर्डर बुक को खुले तौर पर प्रदर्शित करता है – सभी एक्टिव बिड्स को दिखाता है और प्राइस और वॉल्यूम के मामले में खरीद और बिक्री के ऑर्डर भी दिखाता है। यह बाज़ार की गहराई और ऑर्डर निष्पादन की संभावना का सटीक चित्रण प्रदान करता है, और ये सभी बाज़ार भावना का संकेत देते हैं। 

 ध्यान दें कि अलग-अलग एक्सचेंज और ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म की ऑर्डर बुक के लिए अलग-अलग लेआउट हो सकते हैं। यहाँ    Cboe    की ऑर्डर बुक है। 

 ऑर्डर बुक के सबसे बड़े फ़ायदों में से एक यह है कि यह आपको उन कीमतों की समीक्षा करने देता है जो बायर और सेलर स्वीकार करने के लिए तैयार हैं, साथ ही निष्पादन का वॉल्यूम भी दिखाता है। और उनका विश्लेषण करके, आप भविष्य के प्राइस ऐक्शन को निर्धारित कर सकते हैं। याद रखें, आपूर्ति और मांग का नियम बाज़ार को नियंत्रित करता है। और यह देखते हुए कि मैक्रो और माइक्रो मार्केट समाचार कम रहते हैं, बाज़ार का उतार-चढ़ाव लगभग पूरी तरह से ट्रेडिंग वॉल्यूम पर निर्भर करता है। 

ब्रेकआउट ट्रेडिंग डोनचियन चैनलों के साथ : आपको क्या पता होना चाहिए

 लेकिन अगर आपके पास ऑर्डर बुक का विश्लेषण करने की तकनीकी जानकारी नहीं है, तो आप वॉल्यूम इंडिकेटर्स का भी उपयोग कर सकते हैं। अधिकांश ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म कई वॉल्यूम ट्रेडिंग तकनीकी इंडिकेटर्स प्रदान करते हैं। आमतौर पर, ख़रीदारों द्वारा वॉल्यूम का बढ़ना एक संभावित बुल रन का संकेत देता है। 

7 व्यापारिक मिथक जो आपको शायद लगता है कि सच हैं
ट्रेडिंग के बारे में मिथकों को दूर करने का समय आ गया है! इनमें से कुछ मिथक सच के इतने ज़्यादा करीब हैं कि आप कभी भी अनुमान नहीं लगा पाओगे कि यह केवल मशहूर गलत धारणाएँ हैं।
अधिक पढ़ें

 खुदरा और घरेलू-केंद्रित उद्योगों को चुनना 

 त्यौहार और सामूहिक ख़रीदारी साथ-साथ चलते हैं – ख़रीदार क्रिसमस की छुट्टियों के दौरान करोड़ों ख़र्च करते हैं। और इसका एक बड़ा हिस्सा ऑनलाइन कारोबार से लेकर मॉल-आधारित स्टोर तक खुदरा विक्रेताओं के पास जाता है। इस संबंध में, ब्लैक फ्राइडे सेल्स क्रिसमस की कुल बिक्री का एक अच्छा संकेतक हो सकता है। आप CPI और खुदरा बिक्री जैसे अन्य आर्थिक संकेतकों पर भी ध्यान दे सकते हैं। ये क्रिसमस के दौरान परिवारों की क्रय शक्ति के अच्छे संकेतक हैं – अच्छी खुदरा बिक्री एक संभावित बुल रन का कारण बन सकती है। 

इस ज्ञान को अपने वॉलेट में डालें!
Binomo पर जाएँ

याद रखें, यह रणनीति विशेष रूप से क्रिसमस की छोटी अवधि में काम करती है। इसलिए लंबे समय तक शेयर अपने पास नहीं रखें – वे केवल छुट्टियों के मौसम की अधिकता से लाभान्वित होते हैं।

सारांश

 आमतौर पर कई लोग हॉलिडे इफ़ेक्ट को वित्तीय बाज़ार की विसंगति मानते हैं, लेकिन मौसमी उतार-चढ़ाव असामान्य नहीं हैं। क्रिसमस का समय कोई अपवाद नहीं है। चूँकि ये मौसमी उतार-चढ़ाव पूर्वानुमेय हैं, आप उनसे फ़ायदा उठाने के लिए तैयारी कर सकते हैं। और हमने क्रिसमस के समय उपयोग की जा सकने वाली विभिन्न रणनीतियों पर भी चर्चा की है। ध्यान दें कि ये रणनीतियाँ अल्पकालिक होती हैं क्योंकि वे केवल मौसमी होती हैं।

लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
7 मिनट
सबसे अच्छा Nifty ट्रेडिंग रणनीतियाँ
4 मिनट
कॉन्टैंगो और बैक्वर्डेशन रणनीति (यहाँ पर समझाया गया है!)
7 मिनट
बाजार रणनीतियों के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ पुस्तकें
6 मिनट
भारत में डे-ट्रेडिंग के लिए शीर्ष 4 रणनीतियाँ
4 मिनट
डाइवर्जन्स का उपयोग करके ट्रेडिंग कैसे करें
3 मिनट
स्कैलपिंग कुंजी है: "स्लैश" रणनीति

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें