वित्तीय बाजार के मैकेनिक्स

वित्तीय बाजारों में सफल होने के लिए, आपको पता होना चाहिए कि वे कैसे काम करते हैं। कई मैकेनिक्स निवेशकों और ट्रेडर्स को एसेट प्राइस मूवमेंट्स से लाभ प्राप्त करने का फायदा देते हैं।

फिक्स्ड टाइम ट्रेड (एफटीटी)

एफटीटी या फिक्स्ड टाइम ट्रेड एक ऐसी ट्रेडिंग है जो ट्रेडर के एक निश्चित अवधि में संपत्ति की कीमत बढ़ेगी या घटेगी के पूर्वानुमान पर आधारित होता है।एसेट कोई भी वित्तीय साधन हो सकता है, जिसमें कर्रेंसी, कमोडिटीज, स्टॉक और सूचकांक शामिल हैं।

मुद्रा प्रवाह का इलियट वेव थ्योरी: प्रत्येक ट्रेडर को क्या पता होना चाहिए

एफटीटी शोर्ट और लॉन्ग-टर्म दोनों हो सकते हैं। शॉर्ट-टर्म ट्रेड पांच मिनट से भी कम समय में समाप्त हो जाते हैं, जबकि लॉन्ग-टर्म ट्रेड 60 मिनट के भीतर बंद हो जाते हैं।

फिक्स्ड-टाइम ट्रेडों के साथ, आपको ट्रेड के मूल्य की गणना करने और वर्तमान स्तर से मूल्य दिशा का पूर्वानुमान लगाने की आवश्यकता होती है। यदि भविष्यवाणी सही है, तो आपको निवेश की गई राशि के साथ बोनस प्राप्त होगा। यदि प्रक्षेपण गलत है, तो आप जमा की गई राशि खो देंगे।

हालांकि एफटीटी में जोखिम शामिल हैं, संभावित नुकसान हमेशा पूर्व निर्धारित होते हैं। आप जमा की गई राशि से अधिक नहीं खो सकते हैं।

सीएफडी

सीएफडी या कॉन्ट्रैक्ट फॉर डिफरेंस ट्रेडर्स के लिए एक सामान्य शब्द है। यह एक ट्रेडर /निवेशक और एक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के बीच कॉन्ट्रैक्ट के खुलने और समापन के बीच एक फाइनेंसियल इंस्ट्रूमेंट के मूल्य में अंतर को एक्सचेंज करने के लिए एक समझौता है।

CFD आपको स्टॉक, स्टॉक इंडेक्स और क्रिप्टोकरेंसी सहित कई फाइनेंसियल इंस्ट्रूमेंट को ट्रेड करने की अनुमति देता है। इसका मतलब है कि एक निवेशक अंतर्निहित परिसंपत्ति की खरीद और स्वामित्व नहीं करता है, लेकिन केवल उसके प्राइस मूवमेंट्स से लाभान्वित होता है। मकसद किसी परिसंपत्ति की कीमत दिशा (चाहे कीमत बढ़ेगी या गिरेगी) की सही भविष्यवाणी करना है। यदि पूर्वानुमान सही है, तो एक निवेशक को लाभ मिलता है।

CFD मूल्य अंतर्निहित इंस्ट्रूमेंट के मूल्य को ध्यान में नहीं रखता है; यह केवल ट्रेड के खुलने और बंद होने के बीच कीमत में बदलाव पर विचार करता है।

फायदे 

सीएफडी के कई फायदे हैं।

मार्किट के कानून: लाभ और जोखिम
  • सरल और सुलभ: CFD ट्रेड खोलने के लिए, आपको केवल एक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म चुनने और एक खाता खोलने की आवश्यकता है। आमतौर पर, इसमें लगभग 10 मिनट लगते हैं। खाता आपके कंप्यूटर और स्मार्टफोन से किसी भी समय एक्सेस हो सकता है।
  • कई वित्तीय बाजार: सीएफडी सभी प्रमुख वित्तीय बाजारों के उपकरणों की ट्रेडिंग की अनुमति देता है।
  • हाई लिवरेज: सीएफडी ट्रेडिंग हाई लिवरेज प्रदान करता है। लेकिन याद रखें कि लिवरेज में हमेशा अधिक जोखिम होता है। इसलिए, यह केवल प्रोफेशनल ट्रेडर्स और निवेशकों के लिए अनुशंसित है।
  • सामान्य तकनीक: CFD इंस्ट्रूमेंट्स की ट्रेडिंग करते समय, आप स्टॉप, लिमिट्स और कन्टिन्जन्ट ऑर्डर जैसे कॉमन ऑर्डर टाइप्स का उपयोग कर सकते हैं।
आप एक डे-ट्रेडर के रूप में कितना कमा सकते हैं?
आप संभावित रिटर्न सीख जाएं तो बेहतर होगा—ज़्यादा आय के बारे में सपने देखना नहीं लेकिन यह जानना कि आपको हर ट्रेड के लिए कितना निवेश करना चाहिए।
अधिक पढ़ें

नुक्सान 

सीएफडी ट्रेडिंग के नुकसान उन लोगों के लिए बुनियादी हैं जिन्होंने कभी भी ट्रेड किया है।

Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
  • अस्थिरता और मूल्य अंतराल: चूंकि सीएफडी आपको विभिन्न स्तरों की अस्थिरता वाले वित्तीय इंस्ट्रूमेंट का ट्रेड करने की अनुमति देता है, इसलिए आपको बढ़ी हुई अस्थिरता और मूल्य अंतराल का सामना करना पड़ सकता है। गैपिंग एक स्थिति है जब किसी परिसंपत्ति की कीमत बीच के स्तर से गुजरे बिना एक स्तर से दूसरे स्तर पर जाती है। बढ़ी हुई अस्थिरता और मूल्य अंतराल आपके ट्रेडों को प्रतिकूल कीमतों पर क्रियान्वित कर सकते हैं।
  • लगातार बाजार की निगरानी: यदि आपके पास बड़े मूल्य में उतार-चढ़ाव के कारण हुए नुकसान को कवर करने के लिए धन नहीं है, तो बढ़ी हुई अस्थिरता आपके ट्रेडों को स्वचालित रूप से बंद कर सकती है। इसलिए आपको बाजार पर लगातार नजर रखनी चाहिए।

फोरेक्स 

फोरेक्स (FX) का अर्थ है फॉरेन एक्सचेंज मार्किट। आप इस बाज़ार में एक मुद्रा को दूसरी मुद्रा में बदल सकते हैं। फोरेक्स पर, मुद्राओं को एक जोड़ी में एक दूसरे के खिलाफ ट्रेड किया जाता है। उदाहरण के लिए, GBP/USD एक करेंसी पेअर है जिसमें ब्रिटिश पाउंड को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले ट्रेड किया जाता है। फोरेक्स पर, आपको एक मुद्रा खरीदने के लिए दूसरी मुद्रा बेचने की आवश्यकता होती है। आपका ट्रेड सफल होता है यदि आपके द्वारा खरीदी गई मुद्रा आपके द्वारा बेची गई मुद्रा के मुकाबले मूल्य में बढ़ जाती है।

शेयर बाजार के आदेश प्रकार

फोरेक्स का प्रतिनिधित्व स्पॉट (नकद) और डेरिवेटिव मार्केट्स द्वारा किया जाता है। डेरिवेटिव मार्केट्स फॉरवर्ड, फ्यूचर और करेंसी स्वैप प्रदान करती है। जब लोग एफएक्स बाजार के बारे में बात करते हैं, तो उनका मतलब आमतौर पर स्पॉट बाजार से होता है। फॉरवर्ड, और फ्यूचर मार्केट्स ज्यादातर कंपनियां अपने विदेशी मुद्रा जोखिम को रोकने के लिए जाती हैं।

  • स्पॉट मार्केट एक ऐसा बाज़ार है जहाँ ट्रेडर्स, ट्रेडिंग मूल्य के आधार पर मुद्राओं को खरीद और बेच सकते हैं। कीमत आपूर्ति और मांग कारक के साथ-साथ वर्तमान ब्याज दरों, आर्थिक और राजनीतिक मुद्दों, और एक मुद्रा के दूसरी के खिलाफ भविष्य के प्रदर्शन के पूर्वानुमान पर निर्भर करती है।
  • फॉरवर्ड्स और फ्यूचर बाजार वास्तविक मुद्राओं का ट्रेड प्रदान नहीं करते हैं। ये बाजार कॉन्ट्रैक्ट्स में डील करते हैं। कॉन्ट्रैक्ट्स में एक निश्चित मुद्रा प्रकार, एक विशिष्ट मूल्य और एक निपटान तिथि की आवश्यकताएं होती हैं।

कोई भौतिक भवन नहीं है जो विदेशी मुद्रा बाजार के लिए एक ट्रेडिंग स्थल के रूप में कार्य करता है। संचालन ट्रेडिंग टर्मिनलों और कंप्यूटर नेटवर्क के माध्यम से किया जाता है।

इन्स्टिटूशन, इन्वेस्टमेंट और कमर्शियल बैंक और रिटेल इन्वेस्टर्स मार्किट में भाग लेने वाले  होते हैं।

शेयर

शेयर बाजार एक ऐसा बाजार है जहां निवेशक उन स्टॉक को खरीद और बेच सकते हैं जो पब्लिकली ट्रेडेड कम्पनी में शेयर का स्वामित्व प्रदान करते हैं। यदि आप किसी कंपनी के शेयर के मालिक हैं, तो आपको वोटिंग अधिकार, पूंजीगत लाभ और लाभांश दिए जा सकते हैं।

बाजार दुनिया के स्टॉक एक्सचेंजों के नेटवर्क के माध्यम से संचालित होता है। कंपनियां फंड जुटाने के लिए आईपीओ (इनिशियल पब्लिक ओफ्फेरिंग) रखती हैं। नतीजतन, वे अपने स्टॉक के शेयरों को एक्सचेंज पर सूचीबद्ध करते हैं। निवेशक कंपनी का हिस्सा पाने के लिए उन शेयरों को खरीदते हैं।

इन्वेस्टमेंट बैंकिंग क्या है?

निवेशक स्टॉक खरीद और बेच सकते हैं। एक्सचेंज प्रत्येक परिसंपत्ति की आपूर्ति और मांग को ट्रैक करता है, जो इसकी कीमत को परिभाषित करने में मदद करता है। इक्विटी खरीदने और बेचने के लिए, एक निवेशक को ब्रोकरेज अकाउंट बनाना चाहिए। प्लेटफार्म आपको बोली दिखाएगा और मूल्य पूछेगा। बोली का मतलब उस कीमत से है जिस पर आप खरीद सकते हैं। आस्क(मूल्य पूछेगा) वह कीमत है जिस पर आप बेच सकते हैं।

लेने वाली जरूरी सूचना 

निवेश या ट्रेडिंग शुरू करने से पहले, आपको पता होना चाहिए कि वित्तीय बाजार कैसे काम करते हैं। अन्यथा, आप किसी भी बाजार में पहले से मौजूद निवेश जोखिमों को बढ़ाते हैं। मैकेनिक्स को जानने से, आप अपने निवेश निर्णयों में सफल होने की संभावना बढ़ाते हैं।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
पर्सनल फाइनेंस पर शीर्ष 5 पुस्तकें
5 मिनट
Is trading a fraud?
5 मिनट
म्यूचुअल फंड में ऑनलाइन निवेश कैसे करें?
4 मिनट
निवेश पर 5 बेहतरीन किताबें
5 मिनट
आर्थिक रूप से सवतंत्रता कैसे प्राप्त करें
4 मिनट
हेज फंड क्या है?

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें