शेयर बाजार कब और क्यों बंद होता है.

1987 में, नैस्डैक स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेड को बंद कर दिया गया था- एक गिलहरी द्वारा! एक गिलहरी ने गलती से ट्रूमबुल, कनेक्टिकट में पावर ग्रिड को डैमेज कर दिया, जिससे पूरे 82 मिनट के लिए नैस्डैक ऑटोमेटेड कोट सिस्टम बाधित हो गई।

आम तौर पर, हालांकि, स्टॉक एक्सचेंजों का संचालन शिड्यूल, यहां तक ​​कि ऑनलाइन भी, ऑफ़लाइन एक्सचेंजों के संचालन के घंटों से जुड़ा होता है। यही कारण है कि ट्रेडर्स को कभी-कभी साइट के ना चलने की और एसेट की कीमतों के फ्रीज होने का सामना करना पड़ता है – डाउनटाइम के दौरान दरों को अपडेट नहीं किया जाता है। ज्यादातर मामलों में, ट्रेडर्स और निवेशकों को इन ब्रेक्स की आदत होती है , और कुछ सक्रिय रूप से अपने काम में उनका उपयोग भी करते हैं।

स्टॉक एक्सचेंज कैसे काम करते हैं

प्रत्येक क्षेत्र में, एक्सचेंज अपने स्वयं के शेड्यूल के अनुसार काम करते हैं जो कि उस देश के नियमों और समय क्षेत्र पर आधारित होता है। 

शेयर बाजार आमतौर पर सोमवार से शुक्रवार तक खुले रहते हैं, शनिवार और रविवार को छुट्टी के दिन होते हैं। एशिया में लंच ब्रेक भी होता है। साथ ही, एक्सचेंज, प्रत्येक देश के विशिष्ट राष्ट्रीय अवकाश, स्मारक और शोक तिथियों पर काम नहीं करते हैं.

  • एशियाई सेशन चंद्र नव वर्ष के दौरान बंद होते हैं;
  • यूरोपीय एक्सचेंज क्रिसमस और बॉक्सिंग डे पर बंद रहते हैं;
  • संयुक्त राज्य अमेरिका में ब्लैक फ्राइडे पर कोई ट्रेडिंग नहीं होती है;
  • यूरोपीय और जापानी एक्सचेंज एक छोटी छुट्टी के लिए नए साल की पूर्व संध्या पर जल्दी बंद हो जाते हैं।
  • देश या क्षेत्र में प्रमुख घटनाओं के संबंध में राज्य के फरमानों द्वारा अतिरिक्त दिनों की छुट्टी जोड़ी जा सकती है।

ट्रेडिंग सेशन शिड्यूल,

ट्रेडिंग सेशन एक्सचेंज के भौतिक कार्य का समय है। लेकिन असलियत में, ऑक्शन खुलने से पहले और बाद में दोनों समय आयोजित की जाती है।

प्रत्येक विशिष्ट एक्सचेंज के लोकल शिड्यूल के अतिरिक्त, चार सामान्य ट्रेडिंग सत्र होते हैं:

  • पैसिफिक – रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक (UTC);
  • एशियाई – सुबह 12 बजे से सुबह 9 बजे तक (यूटीसी);
  • यूरोपीय – सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक (UTC);
  • अमेरिकन – दोपहर 1 बजे से रात 10 बजे तक (UTC)।

सत्र संचालन घंटे ओवरलैप करते हैं। ट्रेडिंग रोबोट एक एक्सचेंज पर ऑर्डर बंद कर देता है और तुरंत उन्हें दूसरे पर खोलता है। यह उन चीजों में से एक है जो अचानक आने वाले बदलाव से बचने में मदद करता है। वास्तविक सत्र घंटों के अलावा, बाजार से पहले और बाजार के बाद की अवधि भी होती है। इस अवधि के दौरान एकत्र किए गए सभी ऑर्डर मार्केट डेप्थ में आते हैं, जहां खरीद और बिक्री की कीमतों से मेल खाने वाले ऑर्डर एक्सेक्यूट  किए जाते हैं।

प्रीमार्केट ट्रेडिंग की आवश्यकता को एक्सचेंज के खुलने के पहले मिनटों के भीतर विशिष्ट ट्रेडिंग अस्तव्यस्तता द्वारा समझाया गया है। अगर रात के दौरान या सप्ताहांत के दौरान किसी भी जारीकर्ता के लिए खबरें या रिपोर्टें थीं जो निवेशकों को निराश करती हैं, तो ट्रेडिंग सत्र की शुरुआत में ही एक्सचेंज पर सेल्स ऑर्डर का एक बड़ा बोझ पैदा हुआ होता है । इन आदेशों को क्लियर करने के लिए, डेटा सेंटर पर लोड को कम करने के लिए, उनमें से कुछ को प्रीमार्केट ट्रेडिंग के दौरान पूरा किया जाता है, और बाकी को मुख्य सत्र के समय में ट्रांसफर कर दिया जाता है। यदि आप जानना चाहते हैं कि शेयर बाजार कब बंद होता है, तो ऊपर दी गई हमारी तालिका को देखना सबसे आसान है।

आपातकालीन ट्रेडिंग रुकाव – यह क्यों आवश्यक है

खोलने के तुरंत बाद या कार्य दिवस के बीच में ट्रेडिंग रोकना एक तरह का सर्किट ब्रेकर है जो बाजार को अस्तव्यस्तता से बचाने में मदद करता है। इस उपाय का प्रयोग कम ही किया जाता है, क्योंकि यह अपने आप में दहशत का कारण होता है। निर्णय अपने आप नहीं लिया जाता है, अधिकांश प्लेटफार्मों के लिए एक निर्धारित एल्गोरिथम है। ट्रेडिंग का रुकना स्वचालित रूप से होता है, और इसमें मानवीय हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं होती है।

यह उपाय शुरू में अक्टूबर 1987 में डॉव जोन्स के 23% क्रैश के बाद लागू किया गया था। मई 2010 (फ्लैश क्रैश) में एनवाईएसई पर तत्काल क्रैश के बाद अधिक विस्तृत नियम विकसित किए गए थे। एक्सचेंज ने फरवरी 2013 में नियमों के नवीनतम संस्करण को अपनाया। यह एक त्रि-स्तरीय प्रणाली है, और यदि एसएंडपी 500 इंडेक्स क्रमशः 7%, 13% या 20% गिरता है, तो ट्रेडिंग 15 मिनट के लिए रुक जाती है। यदि तीसरी सीमा पार हो जाती है, तो दिन के अंत तक ट्रेडिंग बंद हो जाती है  ।

दुनिया में हर एक्सचेंज पर एक समान तंत्र मौजूद है। सिक्योरिटीज़ की कीमत में उतार-चढ़ाव को 7-10% की गिरावट के बाद महत्वपूर्ण माना जाता है, यही वह समय है जब इन उपायों को लागू किया जाना शुरू होता है।

मैन्युअल ट्रेडिंग निलंबन का विकल्प सभी एक्सचेंजों द्वारा आरक्षित है – यह चरम विकल्प अमेरिकी सिक्यूरिटी कानून और सिक्यूरिटी और एक्सचेंज आयोग (एसईसी) के वैधानिक दस्तावेजों में निर्धारित है। आधिकारिक तौर पर, यह निवेशकों के हितों की रक्षा के लिए किया जाता है। अमेरिकी इतिहास में सबसे लंबा ट्रेडिंग रुकाव 11-17 सितंबर, 2001 को हुआ। इसका कारण कुख्यात आतंकवादी हमला था। समाचार जारी होने के पहले ही मिनटों में, सभी इंडेक्स  10% से अधिक गिर गए, लेकिन एक्सचेंज को बंद करने का निर्णय प्रशासन द्वारा लिया गया था। इससे एसेट्स की बड़े पैमाने पर डंपिंग से बचने और बाजार को कर्जमुक्त चलता रखने में मदद मिली। 

कुछ भी हो, सर्किट ब्रेकर तंत्र नियमित रूप से उपयोग किया जाता है, सिर्फ अक्सर नहीं। ये एक्सचेंजों के संचालन के लिए एक आपातकालीन विधि हैं, और जरूरी नहीं है कि ये वित्तीय त्रासदी का संकेत हो.

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
5 मिनट
शेयर बाजार के आदेश प्रकार
4 मिनट
शेयरों में पैसा लगाने के सात सीक्रेट
4 मिनट
तर्कसंगत निवेश के लिए शेयरों का चयन कैसे करें?
3 मिनट
प्राथमिक और माध्यमिक बाजारों के बीच मुख्य अंतर
4 मिनट
क्या आपको ईटीएफ में निवेश करना चाहिए?
4 मिनट
पैसा और फाइनेंस: क्या अंतर है?