मार्किट के कानून: लाभ और जोखिम

विदेशी मुद्रा, स्टॉक, कमोडिटी, क्रिप्टोकुरेंसी इत्यादि सहित कई वित्तीय बाजार हैं। जब आप इनमें से किसी एक में प्रवेश करते हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि बाजार कैसे काम करता है और संपत्ति को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारक कौनसे है। यह जानकारी आपको बाजार से अधिकतम लाभ उठाने में मदद करेगी।

हालाँकि, सिर्फ यही नहीं। निवेशकों को रिस्क मैनेजमेंट को कम नहीं आंकना चाहिए। वित्तीय जोखिमों को राज्य स्तर पर भी नियंत्रित किया जाता है। उदाहरण के लिए, यूएस एसईसी को वित्तीय जोखिम का पता करने के लिए पब्लिक ट्रेडिंग कंपनियों की आवश्यकता होती है। किसी कम्पनी में निवेश करने से पहले, कोई भी निवेशक उन भौतिक कारकों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकता है जो निवेश को चिंतनशील और जोखिम भरा बना सकते हैं।

आइए प्रमुख रिस्क मैनेजमेंट रूल्स पर विचार करें।

मार्किट रिस्क क्या है?

आइए मूल बातों से शुरू करें। हो सकता है कि आप पहले से ही जानते हों कि मार्किट रिस्क क्या है। हालांकि, दोहराना हमेशा अच्छा होता है।

मार्किट रिस्क एक संभावना है जिसके अंतर्गत आप को नुकसानों का सामना करना पड़ सकता है उन कारकों की वजह से जो मार्किट के ओवरआल प्रदर्शन को प्रभावित करते हैं। जोखिम हमेशा मौजूद रहता है क्योंकि सभी बाजार कई कारकों से प्रभावित होते हैं जो तेजी से बदल सकते हैं। इसलिए पूरी तरह से सटीक निवेश निर्णय लेना असंभव है।

हालांकि बाजार जोखिम से बचना असंभव है, आप जोखिम प्रबंधन नियमों को लागू करके इसे कम कर सकते हैं।

रिस्क मैनेजमेंट एक टैक्टिक है जो निवेशकों को निवेश निर्णयों में अनिश्चितता को पहचानने, विश्लेषण करने, कम करने और और स्वीकार करने में मदद करता है।

1. निवेश जोखिम का विश्लेषण करें

इससे पहले कि आप यह तय करें कि आप कितना जोखिम उठा सकते हैं, आपको अपने रिस्क टॉलरेंस को परिभाषित करने के लिए अपने लक्ष्यों और वर्तमान स्थिति का विश्लेषण करना चाहिए।

बस याद दिलाने के लिए: रिस्क टॉलरेंस जोखिम के परिणामों को स्वीकार करने की क्षमता है और दिए गए परिणामों को अवशोषित या सहन करने के लिए संसाधनों की उपलब्धता है। आमतौर पर, रिस्क टॉलरेंस को तीन श्रेणियों में विभाजित किया जाता है: एग्रेसिव, मॉडरेट और कन्सर्वटिव

यह परिभाषित करना जटिल है कि आपकी रिस्क टॉलरेंस क्या है। हालांकि, ऐसे कई सॉफ्टवेयर प्रोग्राम हैं जो एक प्रश्नावली के उत्तर के आधार पर जोखिम के प्रति आपके दृष्टिकोण को परिभाषित करेंगे। ऐसे प्रोग्राम यह भी परिभाषित कर सकते हैं कि आपका वर्तमान पोर्टफोलियो आपकी रिस्क टॉलरेंस से मेल खाता है या नहीं। यदि नहीं, तो आप मौजूदा संपत्तियों को पुन: व्यवस्थित कर सकते हैं।

2. लॉन्ग टर्म में संपत्ति को आवंटित करें 

यह रणनीति इंडिविजुअल संपत्तियों पर ध्यान केंद्रित किए बिना इंस्ट्रूमेंट्स के पोर्टफोलियो को समग्र रूप से देखने के बारे में है। इसका मतलब यह है कि किसी संपत्ति पर विचार करते समय, आपको यह नहीं सोचना चाहिए कि यह निवेश कितना लाभदायक हो सकता है। आपको इस बात पर विचार करना चाहिए कि यह निवेश आपके पोर्टफोलियो में अन्य फाइनेंसियल इंस्ट्रूमेंट्स के साथ कैसे सहसंबद्ध होगा।

इस रिस्क मैनेजमेंट टूल का एक और महत्वपूर्ण विचार यह है कि आपको अपने पोर्टफोलियो को विभिन्न परिसंपत्तियों के साथ विविधतापूर्ण बनाना चाहिए। एक मार्किट पर ध्यान केंद्रित न करें और विभिन्न बाजारों के बारे में जानें। यहां तक ​​​​कि अगर आपके मन में पूर्वधारना हैं कि बोंड बाजार बहुत कन्सर्वटिव है, जबकि क्रिप्टोकुरेंसी बाजार बहुत अस्थिर और जोखिम भरा है, तब भी आपको उन एसेट्स को डिफाइन करना चाहिए जो आपके रिस्क टॉलरेंस और लक्ष्यों से मेल खाते हैं। याद रखें कि आपके पोर्टफोलियो के एसेट्स को आपके फंड का बचाव करना चाहिए। इसका मतलब है कि उन्हें नकारात्मक रूप से सहसंबद्ध होना चाहिए। इस प्रकार, जब एक एसेट क्लास का मूल्य घटता है, तो दूसरा उन नुकसानों को कवर करेगा। अधिक कन्सर्वटिव बनकर केवल शेयरों में ही सारा निवेश न करें। ऐसे कई एसेट क्लास हैं जिनमें आप निवेश कर सकते हैं।

एसेट एलोकेशन स्ट्रेटेजी का अगला महत्वपूर्ण बिंदु यह है कि आपको अपने फंड को आनुपातिक रूप से निवेश करना चाहिए; अपने अधिकांश फंड को एक एसेट क्लास में न लगाएं। यदि एक एसेट क्लास गिरता है, तो दूसरा बढ़ सकता है। इस प्रकार, आपके द्वारा खोई जा सकने वाली राशि आपके द्वारा प्राप्त की जा सकने वाली राशि के बराबर होनी चाहिए।

3. लगातार निवेश करें

प्रोफेशनल निवेशक डॉलर-कास्ट ऐवरेजिंग रणनीति का उपयोग करने की सलाह देते हैं। यह लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट पर केंद्रित है।

आईडिया सिंपल है : आपको नियमित अंतराल पर अपने निवेश खाते में उतनी ही राशि जोड़नी चाहिए। वह राशि और अवधि चुनें जिसमें आप सहज हों।

यह रणनीति सरल है और आपको अनावश्यक तनाव से मुक्ति दिलाएगी। यह आपको अनुशासित बनाता है। जब आप एक ही राशि को निश्चित अंतराल पर निवेश करने के आदि हो जाते हैं, तो आप इन खर्चों पर ध्यान नहीं देते हैं। रणनीति आपको बाजार की अस्थिरता को कम करने और एक महत्वपूर्ण निवेश पोर्टफोलियो बनाने में मदद करती है।

4. अपना खुद का रिस्क/रिवार्ड अनुपात परिभाषित करें

एक सामान्य नियम है कि आपका संभावित रिटर्न संभावित नुकसान (1:2 रिस्क/रिवार्ड  अनुपात) से कम से कम दो गुना बड़ा होना चाहिए। निवेशकों को अपेक्षित मूल्य और पूर्वानुमान गलत होने पर एक निश्चित अवधि में पहुंचने वाले मूल्य के बीच अधिकतम विचलन को परिभाषित करना चाहिए।

यह दृष्टिकोण निवेशकों को उस अधिकतम राशि को नियंत्रित करने में मदद करता है जो वे खो सकते हैं यदि बाजार विपरीत दिशा में बदल जाता है और उनका निवेश पूर्वानुमान गलत हो जाता है। यहां तक ​​​​कि अगर कोई निवेशक एक निश्चित राशि खो देता है, तो उसे बाजार से नहीं हटाया जाएगा। नुकसान निवेशक के ओवरआल प्रदर्शन को प्रभावित नहीं करेगा।

हालांकि, आपको याद रखना चाहिए कि 1:2 रिस्क/रिवार्ड अनुपात सिर्फ एक बुनियादी नियम है। आप जो जोखिम उठा सकते हैं, उसका मूल्यांकन करने के लिए, आपको इस बात पर विचार करना चाहिए कि संपत्ति कितनी अस्थिर है, नुकसान आपके कैपिटल को कैसे प्रभावित कर सकता है, और आपको कितने फंड्स अलग से बचा के रखने चहिए।

5. लोअर पोर्टफोलियो अस्थिरता

अस्थिरता कम या अधिक हो सकती है, लेकिन यह हमेशा मौजूद रहती है। इसलिए, निवेशकों को पता होना चाहिए कि इससे कैसे निपटना है।एक प्रकार की स्ट्रेटेजी पोर्टफोलियो अस्थिरता को कैश या कैश इंस्ट्रूमेंट्स, जिनमें जमा प्रमाणपत्र, यूएस ट्रेजरी सिक्योरिटीज और मनी मार्केट फंड भी शामिल हैं के माध्यम से पोर्टफोलियो अस्थिरता को कम करना रेकमेन्ड करती है। इसका मतलब यह है कि निवेशकों को इन इंस्ट्रूमेंट्स के लिए कुछ फंड आवंटित करना चाहिए ताकि अन्य परिसंपत्तियों को बेचने न पड़े जब उन्हें नुकसान को कवर करने के लिए अतिरिक्त धन की आवश्यकता हो।

कैश इंस्ट्रूमेंट्स के लिए आवंटित धन का प्रतिशत निवेशक की रणनीति पर निर्भर करता है। याद रखें कि मुद्रास्फीति के कारण बहुत अधिक धनराशि नकद में रखने की सलाह नहीं दी जाती है।

अंतिम विचार

जब आप किसी भी वित्तीय बाजार में प्रवेश करते हैं, तो आपको ऊपर बताए गए बुनियादी नियमों का पालन करना चाहिए। वे सभी बाजारों और एसेट क्लास पर लागू होते हैं। ये नियम आपको अनुशासित करेंगे और उन जोखिमों को कम करने में मदद करेंगे जो हर बाजार वहन करता है। याद रखें कि लाभ जोखिम के साथ-साथ चलता है, और बाजार से अधिकतम लाभ उठाने के लिए आपको बाजार के कानूनों का पालन करना चाहिए।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
शेयर बाजार की छुट्टियां 2022
5 मिनट
ऑनलाइन पैसे कैसे निवेश करें
6 मिनट
21वीं सदी के वित्तीय बाजारों के बारे में 10 रोचक तथ्य
4 मिनट
कम पैसे के साथ निवेश कैसे करें?
4 मिनट
म्यूचुअल फंड में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?
4 मिनट
अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए सर्वश्रेष्ठ ईटीएफ निवेश रणनीतियों