अपने दम पर ट्रेडिंग कैसे शुरू करें

जब आप ट्रेडिंग में नए होते हैं, तो यह पहली बार में जटिल और दबाने वाला लग सकता है। इसके अत्तिरिक्त, बाजार इतने अलग-अलग कारकों से प्रभावित होता है कि यह विश्वास करना मुश्किल हो सकता है कि आप को पता है कि आप असल में क्या कर रहे हैं।

उदाहरण के लिए, क्या आप जानते हैं कि मौसम भी ट्रेडों को प्रभावित कर सकता है? चरम मौसम की घटनाएं बाजार को प्रभावित करती हैं, और साथ ही प्रतिदिन के मौसम पैटर्न जैसे कि तापमान भी बाजार को प्रभावित करते हैं। ये कारक ट्रेडर्स के मूड को प्रभावित करते हैं, जो बदले में इस बात पर प्रभाव डालता है कि आप कैसे ट्रेड करते हैं। धूप के दिनों में, जब वे उत्साह में होते हैं, ट्रेडर्स के स्टॉक खरीदने की अधिक संभावना हो सकती है। इसी तरह, जब मौसम खराब होता है, तो ट्रेडर कम आशावादी महसूस कर सकते हैं और संपत्ति बेचने के लिए अधिक इच्छुक हो सकते हैं।

लेकिन सच्चाई यह है कि, अध्ययन और अभ्यास के साथ, ट्रेडिंग करना काफी सरल है। ठीक यही दिखाना इस लेख का उद्देश्य है। इसलिए, यदि आप स्वयं ट्रेडिंग करने में रुचि रखते हैं, तो अधिक जानने के लिए पढ़ते रहें!

1. मूल बातें जानें

अपने दम पर ट्रेडिंग करने का पहला कदम बुनियादी बातों में महारत हासिल करना है। आपको  पहले से ही ट्रेडिंग के मूल सिद्धांतों के बारे में पता होगा: इसमें कीमतों में उतार-चढ़ाव से लाभ उठाने की कोशिश करने के लिए संपत्ति खरीदना और बेचना शामिल है। लेकिन आरंभ करने के लिए आपको और क्या जानने की आवश्यकता है?

सबसे पहली बात, आपको अपने आप को वित्तीय बाजारों से परिचित करना चाहिए – वे क्या हैं और वे कैसे काम करते हैं। सीधे शब्दों में कहें, वित्तीय बाजार एक ऐसा बाज़ार है जहाँ लोग सिक्योरिटीज का ट्रेड करते हैं, जैसे:

  • स्टॉक
  • बांड
  • करेंसी 
  • क्रिप्टो करेंसी
  • कमोडिटीज (कच्चा माल, कीमती धातु, आदि)

किसी भी अन्य बाज़ार की तरह, वित्तीय बाज़ार माँग और आपूर्ति के सिद्धांत पर काम करते हैं। संपत्ति खरीदने के इच्छुक निवेशकों द्वारा मांग पैदा की जाती है। सप्लाई उन डीलरों द्वारा की जाती है जो एसेट को ऑफर करते हैं। आम तौर पर, किसी संपत्ति के लिए जितनी अधिक मांग होती है, उतनी ही अधिक लागत बढ़ जाती है। जब सप्लाई (आपूर्ति) बढ़ती है, तो कीमत कम हो जाती है।

2. एक विश्वसनीय ब्रोकर खोजें

अगला कदम ब्रोकर ढूंढना है। भले ही आप अपने दम पर ट्रेड करना चाहते हैं, आपको एक दलाल की आवश्यकता होगी, अन्यथा आप वित्तीय बाजार में प्रवेश नहीं कर पाएंगे। ब्रोकर का चुनाव करते समय, कुछ प्रमुख कारक हैं जिन पर आपको विचार करना चाहिए:

  • फुल-टाइम बनाम डिस्काउंट ब्रोकर्स: फुल-टाइम ब्रोकर्स कंसल्टेंसी सेवाएं प्रदान करते हैं, जो विशेष रूप से उन निवेशकों के लिए उपयोगी हो सकते हैं जो ट्रेड में नए हैं। दूसरी ओर, डिस्काउंट ब्रोकर आमतौर पर सस्ते होते हैं, लेकिन वे कंसल्टेंसी सेवाएं प्रदान नहीं करते हैं। हालाँकि, वे शैक्षिक लेख प्रदान कर सकते हैं।
  • निवेश शैली: आप किस प्रकार का ब्रोकर चुनते हैं, वह इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस निवेश शैली की ओर रुख करते हैं। क्या आप एक्टिव ट्रेडिंग को या धीमी गति से खरीद-और-होल्ड वाला स्टाइल पसंद करते हैं?
  • शुल्क और लागत: सुनिश्चित करें कि आप ब्रोकर से सेवाएँ लेने से जुड़े शुल्क को समझते हैं। आपको न्यूनतम शेष राशि, कमीशन और शायद निकासी शुल्क का भुगतान करने के लिए तैयार रहना चाहिए।
  • लाइसेंसिंग: अंत में, हमेशा यह सुनिश्चित करें कि आपके ब्रोकर को आपके देश में जो भी कानूनी संस्थाएं और नियामक प्राधिकरण हैं, उनके द्वारा लाइसेंस प्राप्त है।

ब्रोकर की तलाश करते समय, यह हमेशा जाँचने योग्य होता है कि उनके ग्राहक उनके बारे में क्या कहते हैं। साइन अप करने से पहले, ऑनलाइन समीक्षाएं देखें यह जानने के लिए कि ब्रोकर विश्वसनीय और भरोसेमंद है या नहीं।

3. तकनीकी और फंडामेंटल (मौलिक) विश्लेषण सीखें

तकनीकी और फंडामेंटल (मौलिक) विश्लेषण वित्तीय बाजार में आने के दो अलग-अलग तरीके हैं। दोनों का उपयोग फ्यूचर पोजीशन के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए किया जाता है। आपको इन दोनों एप्रोचों को समझना होगा तांकि आप भविष्य की कीमतों का अनुमान लगा सकें।

तो, तकनीकी और फंडामेंटल (मौलिक) विश्लेषण के बीच अंतर क्या हैं?

तकनीकी विश्लेषण: ट्रेडर्स तकनीकी विश्लेषण का उपयोग स्टटिस्टिकल ट्रेंड् का विश्लेष्ण करने के लिए करते हैं, यानी कीमत में हो रहे बदलाव का विश्लेषण। इन ट्रेंड्स की जांच करके, विश्लेषक यह बताने का प्रयास करते हैं कि भविष्य में परिसंपत्ति कैसे व्यवहार करेगी

मौलिक विश्लेषण: मौलिक विश्लेषण का उपयोग करने वाले ट्रेडर्स किसी परिसंपत्ति के मूल्य को प्रभावित करने वाले आर्थिक कारकों को देखते हैं। वे उद्योग की स्थितियों, मार्किट रिलीज़ और हाल के वित्तीय रुझानों का मूल्यांकन करके संपत्ति के निहित मूल्य का आकलन करने का प्रयास करते हैं।

दोनों एप्रोच की अपनी खूबियाँ हैं। यह पता लगाने का एकमात्र तरीका है कि कौन सा आपके लिए सबसे अच्छा काम करता है, दोनों का अच्छी तरह से शोध करना और दोनों विधियों का अभ्यास करना है।

4. डेमो अकाउंट के साथ प्रैक्टिस करें

अब जब आपको मूल बातें पता लग गई हैं, तो डेमो अकाउंट के साथ प्रैक्टिस करने का समय आ गया है। डेमो अकाउंट कंप्यूटर-सिम्युलेटेड ट्रेडिंग वातावरण हैं जहां आप ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर का उपयोग करके अभ्यास कर सकते हैं। ये खाते आपको वास्तविक पूंजी को लगाए बिना ट्रेड की  प्रैक्टिस करने की अनुमति देते हैं। कुछ अलग रणनीतियों को सीखने और प्रैक्टिस करने के लिए इस अवसर का उपयोग करें।

तीन लोकप्रिय ट्रेडिंग रणनीतियाँ जिन्हें आप आज़मा सकते हैं, वे हैं:

  • डे ट्रेडिंग: ट्रेडिंग की इस लोकप्रिय शैली के साथ, आप उसी दिन संपत्ति खरीदते और बेचते हैं। आप रात भर किसी पोजीशन को होल्ड नहीं करते। यह ट्रेडिंग की अपेक्षाकृत तेज शैली है।
  • स्विंग ट्रेडिंग: स्विंग ट्रेडर्स तकनीकी और मौलिक विश्लेषण के अनुसार चलते हैं। वे इन तरीकों का उपयोग झपट्टा मारने के लिए करते हैं जैसे ही ट्रेंड समाप्त होते हैं तांकि कीमतों में उतार-चढ़ाव का अधिकतम लाभ उठाया जा सके
  • स्कैल्पिंग: स्कैल्पिंग ट्रेडिंग करने का सबसे तेज़ तरीका है। बड़ा लाभ कमाने की कोशिश करने के बजाय, स्केलपर्स बाजार के भीतर छोटे मूवमेंट पर पूंजीकरण करते हुए, बहुत सारे छोटे ट्रांसेक्शन करते हैं।

5. आरंभ करें

एक बार जब आप अपने डेमो खाते का उपयोग करके अपना शोध और प्रैक्टिस कर लेते हैं, तो आप अब आरंभ करने के लिए तैयार हैं।

एक छोटी सी महत्वपूर्ण सलाह यह है कि छोटी शुरुआत करें। आप बहुत अधिक पूंजी का जोखिम नहीं उठाना चाहते, विशेष रूप से इस प्रारंभिक चरण में नहीं। अपने खाते में कुछ धनराशि जमा करें, और वहां से छोटे ट्रेड करने पर ध्यान दें। बड़ा ट्रेड करने के लिए आगे बढ़ने से पहले अपने विश्लेषणात्मक स्किल्स और ट्रेडिंग रणनीति को बेहतर बनाएं।ट्रेड करते समय शांत दिमाग रखना सुनिश्चित करें, और चीजों की उच्च भावना में न बहें। आपको आलोचनात्मक और विश्लेषणात्मक बने रहना चाहिए!

आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं? इस आर्टिकल के ताज़े ज्ञान को एक ट्रेडिंग प्रक्रिया में बदलें
Binomo पर जाएँ

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
3 मिनट
पैसे के प्रति अपना नजरिया कैसे बदलें
4 मिनट
स्टॉक एक्सचेंज पर व्यापार कैसे करें
4 मिनट
ओल्ड स्कूल ट्रेडिंग बनाम फिक्स्ड टाइम ट्रेडिंग: विविधता की जरूरत है
5 मिनट
शेयर को ऑनलाइन कैसे खरीदें
4 मिनट
कैसे तय करें कि कौन सा स्टॉक खरीदना है?
4 मिनट
शेयर बाजार में हेजिंग क्या है?