10 बैकटेस्टिंग गलतियाँ जो शुरुआती लोग करते हैं

बैकटेस्टिंग ऐतिहासिक मूल्य डेटा का उपयोग करके ट्रेडिंग रणनीति की जांच करने का एक तरीका है। यह ट्रेडर्स को उनकी वास्तविक पूंजी को जोखिम में डालने से पहले ट्रेडिंग रणनीति प्रभावी है या नहीं इस बात को निर्धारित करने का अवसर देता है। सफल बैकटेस्टिंग से आपके लाइव मार्केट में अच्छा प्रदर्शन करने की संभावना बढ़ जाती है और आत्मविश्वास में सुधार होता है। भारत में लगभग 20 मिलियन लोग ट्रेड करते हैं – यह एक उच्च संख्या है, लेकिन देश की 1.2 बिलियन से अधिक की आबादी का केवल एक छोटा सा प्रतिशत है। लेकिन लोकप्रियता में ट्रेडिंग लगातार बढ़ रही है।

बैकटेस्टिंग जितना उपयोगी है, उतनी ही अलग-अलग गलतियाँ रणनीति का परीक्षण करते समय ट्रेडर्स द्वारा की जाती हैं। यदि आप ऐसी त्रुटियां करते हैं, तो बैकटेस्टिंग उतनी उपयोगी नहीं होगी, क्योंकि आपका डेटा गलत होगा। यह बदले में आपको एक गलत ट्रेडिंग रणनीति का उपयोग करने के लिए प्रेरित कर सकता है, जिससे आपको पूंजी खर्च करना पड़ सकता है।

यदि आप बैकटेस्टिंग के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको अपने आप को उन गलतियों से परिचित कराना चाहिए जो आप कर सकते हैं ताकि आप उनसे बच सकें। यह लेख नए ट्रेडर्स द्वारा की जाने वाली 10 सामान्य गलतियों के बारे में बताता है।

1. लिखित योजना नहीं बनाना

सफलता के लिए एक योजना बनाना महत्वपूर्ण है। अनिवार्य रूप से बैकटेस्टिंग में ऐसे बिंदु होंगे जहां आप भटक जाते हैं और जो भी योजना आपने पहले से निर्धारित की है उसे भूल जाते हैं। यह उन ट्रेडर्स के लिए विशेष रूप से सच है जो इस रणनीति के लिए नए हैं और जिन्हें अभी भी पूरी प्रक्रिया के लिए अभ्यस्त होना है।

इससे भी पहले, कुछ रणनीतियाँ दूसरों की तुलना में अधिक जटिल हैं। आप जो रणनीति उपयोग करने की कोशिश कर रहे हैं अगर उसके बहुत सारे पैरामीटर हैं, तो लिखित योजना के बिना जो कुछ भी चल रहा है, उस पर नज़र रखना मुश्किल हो सकता है।

सुनिश्चित करें कि आप बैकटेस्टिंग के लिए जो कुछ भी जानना चाहते हैं उसे लिख लें। कुछ महत्वपूर्ण तत्व जिन पर आपको ध्यान देना चाहिए वे हैं:

  • एंट्री और एग्जिट संकेतों के नियम
  • आपका लाभ लक्ष्य
  • स्टॉप लॉस कहां सेट करें
  • प्रति ट्रेड प्रतिशत आपका जोखिम
  • आप किन इंडीकेटर्स का उपयोग कर रहे हैं

आप जिस प्रकार की रणनीति का परीक्षण कर रहे हैं, उसके आधार पर और भी अधिक बिंदु हो सकते हैं जिन पर आपको ध्यान देना चाहिए। इससे पहले कि आप सीधे बैकटेस्टिंग में कूदें, यह निर्धारित करने के लिए कुछ समय लें कि ट्रेडिंग रणनीति के लिए आपको किन मापदंडों के बारे में पता होना चाहिए।

2. टेस्टिंग के दौरान पर्याप्त ट्रेड नहीं लेना

सुनिश्चित करें कि जब आप अपनी रणनीति का परीक्षण करते हैं तो आप जितना हो सके उतने ऐतिहासिक डेटा के विरुद्ध इसका परीक्षण करें। जबकि एक विशेष ट्रेडिंग सिस्टम को अपेक्षाकृत कम अवधि के दौरान थोड़ा लाभ हो सकता है, जैसे छह महीने, जब लंबी अवधि में इसका इस्तेमाल किया जाता है तो यह इतना प्रभावी नहीं हो सकता है।

सुनिश्चित करें कि आप जितना हो सके उतने ट्रेड भी लें। आप को यह सुनिश्चित करना चाहिए  कि आपकी रणनीति विभिन्न बाजार पोजीशन में विश्वसनीय है। यह मजबूत होना चाहिए, लेकिन फ्लेक्सिबल भी होना चाहिए। आप जितने अधिक ट्रेडों के खिलाफ अपने सिस्टम का परीक्षण करेंगे, उतनी ही सटीक तस्वीर आपको अपनी रणनीति की ताकत और कमजोरियों के बारे में मिलेगी।

किसी विशेष ट्रेडिंग सिस्टम को एक विशिष्ट अवधि के लिए अनुकूलित करना कर्व फिटिंग के रूप में जाना जाता है। जितना हो सके इसे टालना सुनिश्चित करें, क्योंकि यह आपको बाद में परेशानी में डाल देगा।

3. जब आपके परिणाम ज्यादा अच्छे न हों तो तुरंत बैकटेस्ट को रोक देना 

ट्रेडर्स द्वारा की जाने वाली एक और आम गलती यह है कि जब वे पहले कुछ ट्रेडों में उत्कृष्ट परिणाम नहीं देखते हैं तो वे बैकटेस्ट को छोड़ देते हैं। बाजार में उतार-चढ़ाव और परिवर्तन होता है, और हर ट्रेडिंग रणनीति में गिरावट की सामान्य अवधि देखी जाती है। आपको खुद को  ट्रेडिंग सिस्टम को पूरी तरह से परखने से हतोत्साहित नहीं होने देना चाहिए।

इसलिए, यदि आप एक छोटी सी गिरावट का सामना करते हैं, तो बैकटेस्ट को न रोकें। इसके बजाय, रणनीति को अपने अनुकूलित करने के लिए उसकी सेटिंग में बदलाव करें। बैकटेस्टिंग का उद्देश्य ट्रेडिंग सिस्टम में सुधार करना है, न कि केवल उन सिस्टम को खत्म करना जो तत्काल परिणाम नहीं देते हैं।

4. एक ट्रेडिंग सिस्टम से जुड़े नहीं रहना

कभी-कभी ट्रेडर्स किसी विशेष रणनीति या सिस्टम को लिख लेते हैं, लेकिन फिर उसके नियमों का बिल्कुल भी पालन नहीं करते हैं। इस लेख में पहली सलाह के अनुसार, सुनिश्चित करें कि आप जिस रणनीति का परीक्षण कर रहे हैं, उसके सभी नियमों को लिख लें। लेकिन, सबसे महत्वपूर्ण बात, सुनिश्चित करें कि आप बैकटेस्टिंग के दौरान उनका पालन करते हैं।

सुनिश्चित करें कि जब आप ट्रेडिंग के बीच में हो तो आप रणनीति के नियमों को नहीं बदलें। ऐसा करने का मतलब है कि आपके पास अपने प्रारंभिक सिस्टम या संशोधित संस्करण के लिए सटीक डेटा नहीं होगा।

5. विश्वास करना कि लाइव परिणाम और बैकटेस्टिंग के परिणाम समान होंगे 

शुरुआती ट्रेडर्स इस विश्वास के जाल में पड़ सकते हैं कि लाइव ट्रेडिंग परिणाम बैकटेस्टिंग के परिणाम के समान ही होंगे, लेकिन ऐसा नहीं है। कभी-कभी ट्रेडिंग रणनीतियाँ बैकटेस्टिंग में अच्छा काम करती हैं, लेकिन लाइव होने पर अच्छा प्रदर्शन नहीं करती हैं।

ऐसा होने के कई कारण हो सकते हैं:

  • लाइव ट्रेडिंग से भावनाएं जुड़ी हुई होती हैं। जब वास्तविक पूंजी की बात होती है, तो आप तनावग्रस्त या चिंतित हो सकते हैं। यह आपकी ट्रेडिंग को प्रभावित कर सकता है।
  • लाइव ट्रेडिंग में ऐसे वेरिएबल शामिल हो सकते हैं जिनका आपके बैकटेस्टिंग के दौरान कोई लिंक भी नहीं था, जैसे कि स्प्रेड, दिन में आपके द्वारा ट्रेड किए जाने वाला समय, और आर्थिक एंव राजनीतिक ख़बरों जैसे कारक
  • आपके द्वारा अपने रणनीति का परीक्षण करने के बाद से बाजार में काफी बदलाव आया हो सकता है।

सफल बैकटेस्टिंग अनिवार्य रूप से एक गारंटी नहीं है कि आप लाइव मार्केट में सफलता प्राप्त करेंगे। जबकि आपके लिए टेस्टिंग एक बहुत ही उपयोगी मार्गदर्शिका होगी, आपको याद रखना चाहिए कि बाजार में उतार-चढ़ाव लाइव ट्रेडिंग का एक अनिवार्य हिस्सा है।

6. केवल एक बाजार में टेस्ट करना और यह विश्वास करना कि यह दूसरों में भी काम करेगा

कई सारे ट्रेडिंग शिक्षक हो सकते हैं जो आपको कहते हैं कि उनकी रणनीति किसी भी बाजार में सफल होगी। ऐसा होने की संभावना बहुत कम है।

प्रत्येक बाजार, प्रत्येक परिसंपत्ति के लिए अलग तरह से व्यवहार करता है। प्रत्येक बाजार बाजार में अपने कारकों और परिवर्तनों के अपने सेट से प्रभावित होता है। ट्रेडिंग के लिए कोई एक साइज़-सभी को फिट रणनीति नहीं है; कोई एक जादुई सिस्टम नहीं है जो हर बाजार के लिए काम करता है।

7. ईमानदारी के बजाय बेहतर तरीके से ट्रेडों में प्रवेश करना और बाहर निकलना

एक ट्रेड में बेहतर तरीके से प्रवेश करना एक ऐसे बिंदु पर ट्रेड में प्रवेश करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है जहां यह आपकी ट्रेडिंग योजना में अच्छी तरह से फिट होगा और सबसे अधिक पूंजी लाएगा। वास्तविक जीवन की ट्रेडिंग में आपके द्वारा किया गया प्रत्येक ट्रेड आसानी से नहीं चलेगा।

बैकटेस्टिंग के दौरान अपने ट्रेडों को अनुकूलित करने की कोशिश करने के बजाय, इसके बजाय सख्त प्रवेश नियमों का पालन करना सबसे अच्छा है। सबसे अच्छे एंट्री पॉइंट की तलाश में चार्ट को पीछे मुड़कर देखने की अपनी तीव्र इच्छा का विरोध करें। यदि आप इस लालसा का विरोध नहीं कर सकते हैं, तो ऐसे ट्रेडिंग प्लेटफार्म की तलाश करें जो आपको केवल ट्रेडिंग चार्ट पर आगे बढ़ने देगा।

8. सिस्टम को छोड़ देना क्योंकि यह आपके मासिक रिटर्न लक्ष्यों को पूरा नहीं करता है

कुछ ट्रेडर्स ट्रेडिंग रणनीति को छोड़ देते हैं, जब वह रणनीति लगातार मासिक रिटर्न लक्ष्यों को पूरा नहीं करती है। वास्तव में, मासिक लक्ष्य केवल डे ट्रेडिंग सिस्टम के लिए ही संभव होते हैं। जब आप इससे अधिक समय सीमा के साथ डील कर रहे होते हैं, तो मासिक लक्ष्य प्राप्त करना व्यावहारिक रूप से असंभव होता है।

आपकी रणनीति कितनी लाभदायक है, यह देखने के लिए मासिक आंकड़ों पर निर्भर रहने के बजाय, इसे अपनी योजना के विरुद्ध जांचें।

9. जब आप अपना ट्रेडिंग सिस्टम चुनते हैं तो अपनी ताकत पर विचार नहीं करते है

हर किसी के पास अलग-अलग स्किल्स होते हैं जो कुछ रणनीतियों को दूसरों की तुलना में उनके लिए बेहतर बनाते हैं। इसलिए, जब आप यह निर्धारित करने का प्रयास कर रहे हैं कि आप किस सिस्टम का उपयोग करना चाहते हैं, तो अपनी क्षमता, अपनी ताकत और अपनी कमजोरियों के बारे में अपने आप से ईमानदार रहें।

यदि आप बहुत धैर्यवान व्यक्ति नहीं हैं, या आपको शीघ्र रिटर्न की आवश्यकता है, तो आपको लॉन्ग-टर्म ट्रेंड रणनीतियों से बचना चाहिए। दूसरी ओर, यदि आप तनाव में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं, तो आप शायद बाजार में उच्च उतार-चढ़ाव में ट्रेड करने का आनंद नहीं लें पाएंगे, इसलिए स्कैलपिंग जैसी शोर्ट-टर्म ट्रेंड रणनीतियों से दूर रहें।

10. प्रयोग करने से बहुत डरना

एक अंतिम गलती जो कई नए ट्रेडर्स करते हैं, वह यह है कि वे अपने लिए ट्रेडिंग सिस्टम के साथ प्रयोग किए बिना केवल अन्य ट्रेडर्स के नियमों का पालन करते हैं। हालांकि अधिक अनुभवी ट्रेडर्स से रणनीतियों के बारे में सीखना निश्चित रूप से बहुत उपयोगी है, आपको उन्हें किसी भी चीज़ से अधिक शुरुआती बिंदु के रूप में सोचना चाहिए।

एक ट्रेडिंग सिस्टम को आवश्यकतानुसार समायोजित करने से डरो मत तांकि यह आपके व्यक्तित्व और समय-सारणी के अनुकूल हो। जब आप बैकटेस्ट कर रहे हों तो मज़े करें और विभिन्न तरीकों और विचारों को आज़माने का अवसर लें।

अंतिम विचार

इस लेख में 10 गलतियों जो नए ट्रेडर बैकटेस्टिंग में करते हैं उन पर ध्यान दिया गया है। यह समझना काफी आसान है कि कुछ लोग इन बुरी आदतों में क्यों फिसल जाते हैं। लेकिन, यदि आप वास्तव में टेस्टिंग से लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तो इन गलतियों से बचने की पूरी कोशिश करें।

डिस्क्लेमर: कोई भी रणनीति 100% सही ट्रेड परिणाम की गारंटी नहीं दे सकती है।

आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं? इस आर्टिकल के ताज़े ज्ञान को एक ट्रेडिंग प्रक्रिया में बदलें
Binomo पर जाएँ

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
आर्बिट्रेज ट्रेडिंग रणनीतियाँ क्या हैं?
3 मिनट
स्कैलपिंग कुंजी है: "स्लैश" रणनीति
5 मिनट
5 कारण क्यों बैकटेस्टिंग आप फिट नहीं है
5 मिनट
भारतीय बाजार के लिए सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग रणनीतियाँ
5 मिनट
एल्गोरिथम ट्रेडिंग रणनीतियाँ: एआई का उपयोग करके ट्रेडिंग करना
6 मिनट
रणनीति बनाम ट्रेड सिस्टम: क्या अंतर है?