क्या आपको नए साल के पहले दिनों में निवेश करना चाहिए?

हालांकि दुनिया भर के देश अलग-अलग तारीख़ों पर नए साल का जश्न मनाते हैं, लेकिन एक आम सोच है कि जनवरी में शेयरों में तेज़ी आती है। यह तथाकथित “जनवरी प्रभाव” है जिसके मुताबिक़ निवेशकों को महीने की शुरुआत में ही शेयर ख़रीदना चाहिए, क्योंकि शेयरों की कीमतें आसमान छू जाएंगी। यह जानने के लिए पढ़ें कि जनवरी में शेयर बाज़ार में उछाल क्यों आता है और क्या आपको नए साल के पहले दिनों में निवेश करना चाहिए। 

जनवरी प्रभाव स्पष्टीकरण 

 तीन थ्योरी जनवरी में शेयर मार्केट में आई तेज़ी की व्याख्या करते हैं।   लेकिन, उन पर सवाल उठाने चाहिए, क्योंकि आंकड़ों के मुताबिक़, दुनिया भर में 60 से ज़्यादा स्टॉक एक्सचेंज हैं जहां हज़ारों शेयरों का कारोबार होता है।   क्या उन सभी के लिए एक ही ट्रेंड की पहचान करना मुमकिन है? 

मनोविज्ञान 

एनएफटी में निवेश कैसे करें

पहली थ्योरी जो जनवरी प्रभाव की व्याख्या करने की कोशिश करती है वह मनोविज्ञान से आती है। लगभग हर कोई नए साल में आशा के साथ प्रवेश करता है। लोग नए लक्ष्य तय करते हैं। उनमें से एक है   अमीर होना   । हालांकि निवेश अमीरी का सीधा रास्ता नहीं है, बहुत से लोग इसे लक्ष्य उपलब्धि का तरीक़ा मानते हैं। इसलिए, साल की शुरुआत में बड़ी रक़म बाज़ार में प्रवेश करती है, जिससे शेयरों की कीमतें बढ़ जाती हैं। 

अतिरिक्त आय 

कुछ लोग जनवरी की स्टॉक रैली को साल के अंत में मिलने वाले बोनस के साथ समझाते हैं जो कर्मचारियों को साल के अंत में मिलता है। अतिरिक्त पूंजी का उपयोग निवेश के लिए किया जा सकता है। फिर भी, यह थ्योरी सबसे कम सही है क्योंकि सभी कर्मचारियों के पास साल के अंत में बोनस नहीं होता है, और इसकी राशि से शेयर बाज़ार की कीमतों के बढ़ने की संभावना कम है। 

पूँजी लाभ 

 एक अन्य स्पष्टीकरण पूंजीगत लाभ में कमी के कारण दिसंबर में बिकवाली है। लाभ के साथ शेयर बेचने वाले निवेशकों को पूंजीगत लाभ कर का भुगतान करना पड़ता है। लेकिन अगर उन्हें नुक़सान होता है, तो भुगतान की जाने वाली राशि कम कर दी जाती है। इसलिए, वर्ष के अंत तक, निवेशक घाटे की रिपोर्ट करने के लिए अपने कुछ शेयरों को बेच देते हैं और अपने कुछ लाभों को ऑफ़सेट कर लेते हैं। बिकवाली का दबाव स्टॉक की कीमतों को नीचे की ओर खींचता है और अगले महीने की शुरुआत में ख़रीदारी के नए अवसर देता है। 

डेटा सबूत 

यह थ्योरी उचित लगती है लेकिन असली मार्केट डेटा के साथ इसकी पुष्टि की जानी चाहिए। डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज (DJIA) और S&P 500 अमेरिकी शेयर बाज़ार के प्रमुख मापदंड हैं। 

शेयर बाजार के आदेश प्रकार

 फ़ेडरल रिज़र्व बैंक ऑफ़ सेंट लुई ने 1994 से 2013 तक इंडेक्स के प्रदर्शन पर डेटा प्रदान किया। उनके मुताबिक़, DJIA में औसतन 0.3 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई, जबकि S&P 500 में औसतन 0.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। 

 लेकिन, डेटा ने दिखाया कि DJIA अन्य महीनों की तुलना में 0.7 प्रतिशत बढ़ा, जबकि S&P 500 की औसत बढ़ोतरी 0.6 प्रतिशत थी। 

4 मानसिक हैक्स जो आपके व्यापार को बेहतर के लिए बदल देंगे
बाज़ार की ओर देखने का तरीका बदलते हुए अपनी ट्रेडिंग में वृद्धि करना चाहते हैं? 4 मानसिक हैक सीखें जिन्हें तुरंत लागू किया जा सकता है।
अधिक पढ़ें

क्या जनवरी प्रभाव मौजूद है? 

डेटा के मुताबिक़ जनवरी प्रभाव संदिग्ध है। फिर भी, कुछ विश्लेषकों का दावा है कि यह मौजूद है, लेकिन केवल छोटे पूंजीकरण वाली कंपनियों के शेयरों को प्रभावित करता है क्योंकि उनकी लिक्विडिटी कम होती है। 

Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!

 बैरन पत्रिका के  मुताबिक़, अगर दिसंबर में गिरावट आती है तो व्यक्तिगत शेयरों पर जनवरी का प्रभाव देखा जा सकता है। 

ज़्यादातर विश्लेषकों का कहना है कि जनवरी प्रभाव की 50/50 संभावना है। और इसकी पुष्टि अन्य आंकड़ों से होती है। 2017 में, DJIA ने अपने इतिहास में पहली बार 20,000 का आंकड़ा पार किया। लेकिन, एक साल पहले, 2016 में, जनवरी में इंडेक्स लगभग 5.5 प्रतिशत गिर गया था।

अंतिम विचार 

 इस पर यक़ीन नहीं करने वालों के मुताबिक़ निवेशकों के बीच प्रभाव की जागरूकता ने इसे अक्षम बना दिया है। लगभग हर ट्रेडर जानता है कि जनवरी में शेयर बाज़ार में तेज़ी आएगी। इसलिए, वे दिसंबर में शेयर ख़रीदना शुरू कर देते हैं, जिससे उनकी कीमतें बहुत पहले बढ़ जाती हैं। लेकिन, जनवरी में बाज़ार के बढ़ने की संभावना इसके गिरने की संभावना से ज़्यादा है। 

आपका फ़ैसला थ्योरी पर नहीं बल्कि आपकी ज़रूरतों, वित्तीय अवसरों और व्यापक बाज़ार विश्लेषण पर आधारित होना चाहिए। थ्योरी पूरे मार्केट पर ग़ौर करता है, लेकिन कुछ शेयर इसके मुताबिक़ नहीं चलते हैं। अगर आपको लगता है कि किसी ख़ास कंपनी के शेयर जनवरी में नहीं बढ़ेंगे, तो जनवरी के प्रभाव को नज़रअंदाज़ करें और अपनी रणनीति पर टिके रहें। 

 स्रोत: 

https://www.investopedia.com/terms/j/januaryeffect.asp, Investopedia

https://www.forbes.com/sites/qai/2022/01/14/the-january-effect-fact-or-fiction/?sh=5bba82b57924, Forbes

लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
सबंधित आर्टिकल
6 मिनट
21वीं सदी के वित्तीय बाजारों के बारे में 10 रोचक तथ्य
4 मिनट
कम पैसे के साथ निवेश कैसे करें?
4 मिनट
शेयर बाजार की छुट्टियां 2022
5 मिनट
पैसिव इनकम क्या है?
3 मिनट
प्राथमिक और माध्यमिक बाजारों के बीच मुख्य अंतर
4 मिनट
थीमैटिक बनाम डेरीवेटिव निवेश - एक विस्तृत विश्लेषण 2022

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें