पुलबैक ट्रेडिंग रणनीति का उपयोग कैसे करें

शेयर बाजार के निवेशकों के लिए, पुलबैक ट्रेडिंग रणनीतियाँ एक लोकप्रिय तकनीक है। ऐसा इसलिए है क्यूंकि उन्हें पहचानना आसान है और वह अच्छे रिटर्न प्रदान करने के लिए जानी जाती है।

इस रणनीति में बाजार की स्थितियों की समझ और यह जानना शामिल है कि पुलबैक क्या है। एक ट्रेंड की पहचान करने के बाद, आपको यह भी समझने की आवश्यकता है कि ट्रेड एंट्री /एग्जिट पॉइंट को खोजने के लिए इंडीकेटर्स कैसे स्थापित करें।

पुलबैक ट्रेडिंग रणनीति का विचार यह है कि झुंड की मानसिकता अच्छी है। इस लेख में, हम आपको इस रणनीति के बारे में बताएँगे और कुछ कैंडल ग्राफ़ की सहायता से पुलबैक की व्याख्या करेंगे।

पुलबैक रणनीतियाँ – 101

सर्वोत्तम ट्रेडिंग रणनीतियाँ: शुरुआती लोगों के लिए एक गाइड

एक चार्ट को देखकर बाजार में उतार-चढ़ाव की व्याख्या करना बहुत आसान है। पुलबैक ट्रेडिंग रणनीति इस तथ्य पर आधारित है कि कीमतें केवल ऊपर की ओर नहीं चलती हैं।

जबकि, लंबी अवधि में, ट्रेंड यह होगा कि कीमतें बढ़ती हैं, ऐसे मौके आते हैं जब थोड़ी अनिश्चितता होती है और शेयर बाजारों में कम कीमतों पर खरीदारी करने की संभावना होती है। ये पुलबैक रणनीतियाँ सभी बाजारों में और किसी भी समय सीमा में काम करती हैं।

पुलबैक ट्रेडिंग रणनीति डाउनवार्ड ट्रेंड में

लंबे समय से, पुलबैक ट्रेडिंग मुख्य रूप से एक तेजी इक्विटी बाजार के साथ जुड़ा हुआ था। हर साल ऊपर की ओर रुझान ने कई इक्विटी निवेशकों को ‘डिप्स में खरीदारी’ करने के लिए यानि की कीमत के नीचे गिरने पर खरीदारी करने के लिए प्रोत्साहित किया है।

हालांकि पुलबैक ट्रेडिंग इन अपवार्ड ट्रेंड्स के साथ जुड़ी हुई है, फिर भी आप डाउनवार्ड ट्रेंड के लिए समान सिद्धांतों को लागू कर सकते हैं।

रिट्रेसमेंट और पुलबैक के बीच का अंतर

अक्सर, रिट्रेसमेंट शब्द का प्रयोग पुलबैक के पर्यायवाची रूप में किया जाता है। रिट्रेसमेंट की रणनीति केवल यह वर्णन कर रही है कि लंबी अवधि में कीमत, ट्रेंड के विपरीत दिशा में जा रही है।

जबकि ऐसी रणनीतियाँ हैं जो रिट्रेसमेंट ट्रेडिंग के अवसरों में विशेषज्ञ हैं, ये अतिरिक्त जोखिम के साथ आती हैं क्योंकि वे समग्र रूप से बाजार की गति के खिलाफ जा रही हैं। 

इसका मतलब है कि अगर वे गलत होते हैं, तो किसी भी नुकसान में बढ़ोतरी हो सकती है। 

मोमेंटम ट्रेडिंग: शुरुआत करने वालों के लिए स्पष्टीकरण और रणनीतियाँ

हालांकि इन दोनों टर्म्स को एक दुसरे की जगह पर इस्तेमाल किया जाता है, रिट्रेसमेंट को आमतौर पर पुलबैक की तुलना में लंबे समय तक चलने वाले ट्रेंड के रूप में देखा जाता है।

करेक्शन, रिवर्सल और पुलबैक के बीच का अंतर

करेक्शन तब होता है जब बाजार मूल्य वार्षिक उच्च से कम से कम 10% तक रिवर्स होता है। करेक्शन होने में थोड़ा समय लग सकता है और प्रमुख स्टॉक इंडेक्स के लिए, यह वास्तव में काफी दुर्लभ है।

रिवर्सल आमतौर पर बाजार की गतिशीलता में बदलाव के बारे में बात करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है। यह तब हो सकता है जब कोई फर्म बाजार समाचार की घोषणा करती है और लोगों को लगता है कि इसका मूल्य काफ़ी ज़्यादा है।

इसके विपरीत, एक पुलबैक उस समय का वर्णन करेगा जब खरीदने का दबाव थोड़ा कम हो जाता है, लेकिन अंततः, स्थिति समग्र रूप से नहीं बदली है।

11 उद्धरण जो आपके ट्रेडिंग को बदल सकते हैं
प्रसिद्ध व्यापारियों, अर्थशास्त्रियों और उद्यमियों से इन शक्तिशाली ट्रेडिंग ज्ञान की बातों को देखें।
अधिक पढ़ें

ट्रेंड्स की पहचान

ट्रेंड्स की पहचान करने के कई तरीके हैं। ध्यान देने के लिए मुख्य में से एक प्राइस एक्शन का उपयोग करना है।

आपको ऊपर के बाजारों के लिए “हाईर हाई और हाईर लो” पर विचार करना चाहिए। डाउनवार्ड ट्रेंड वाले बाजारों के लिए, आपको “लोअर लो और लोअर हाई” पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

पुलबैक की पहचान करना

पुलबैक का ट्रेड करने के लिए आपको धैर्य की आवश्यकता है। प्राइस मूवमेंट एक बड़ा संकेत है कि एक पुलबैक होने वाला है – अनिवार्य रूप से, कीमत अपने चरम से गिर रही है। निश्चित रूप से, आप अन्य मेट्रिक्स पर भी विचार कर सकते हैं, यह तय करने में आपकी सहायता के लिए कि कब कदम उठाना है और ट्रेड करना है।

जब भी कीमत दिशा में बदलाव होना शुरू होता है, तो हमेशा एक मौका होता है कि यह कदम अल्पकालिक नहीं हो सकता है।

नौसिखिए लोगों के लिए 5 सबसे अच्छे ऑप्शंस ट्रेडिंग रणनीतियाँ

यदि ट्रेड रिवर्सल होने पर ट्रेडिंग वॉल्यूम में वृद्धि होती है, तो यह इस बात का संकेत हो सकता है कि यह फंडामेंटल है। यदि, हालांकि, वॉल्यूम कन्सिस्टन्ट हैं, तो प्राइस मूव छोटी हो सकती है।

यदि कंपनी समाचार या बाजार की घटनाओं से कीमतों में उतार-चढ़ाव शुरू हो गया है, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि लोगों के इसकी वैल्यू को देखने के तरीके में बदलाव आया है। नतीजतन, कीमत में उतार-चढ़ाव लंबे समय तक चलने और अधिक होने की संभावना है।यदि ट्रेंड लाइन या अन्य तकनीकी संकेतक कीमत को सपोर्ट कर रहे हैं, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि खरीदार अस्थायी रूप से मोमेंटम से बाहर जा रहे हैं। वे अभी भी वहां हैं, लेकिन वे कम कीमतों पर ट्रेड कर रहे हैं। यदि कीमतें इन सपोर्ट लेवल से और नीचे गिरती हैं, तो यह एक संकेत है कि कीमत में बदलाव किसी अन्य कारक पर आधारित हो सकता है।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
5 मिनट
"नाइट चैनल" ट्रेडिंग रणनीति
5 मिनट
रणनीति क्या है?
4 मिनट
स्टॉप लॉस क्या है और इसका उपयोग कैसे करें?
5 मिनट
शुरुआती लोगों के लिए शीर्ष 3 ऑनलाइन ट्रेडिंग रणनीतियां
5 मिनट
शीर्ष 5 शॉर्ट-टर्म ट्रेडिंग रणनीतियाँ जिसका उपयोग प्रोफेशनल्स करते हैं
5 मिनट
बोलिंगर ब्रेकडाउन ट्रेडिंग रणनीति

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें