फिबोनैकी लेवल्स को कैसे ड्रा करें

फिबोनैकी रिट्रेसमेंट और एक्सटेंशन लोकप्रिय टूल्स हैं जिनका उपयोग सपोर्ट और रिज़िस्टन्स लेवल्स को निर्धारित करने के लिए किया जाता है। लियोनार्डो फिबोनैकी के उन्हें यूरोप में पेश करने से पहले, फिबो संख्या और उनके अनुक्रम भारतीय गणितज्ञ आचार्य विरहंका द्वारा लगभग 600 ईस्वी में विकसित किए गए थे।

फिबो लेवल्स एक स्ट्रोंग ट्रेंड और ट्रेंड रिवर्सल के भीतर मूल्य पुलबैक निर्धारित करते हैं। हालांकि संकेतक में केवल रेखाएं होती हैं, कई ट्रेडर्स उन्हें गलत तरीके से ड्रा करते हैं और सोचते हैं कि वे काम नहीं करते हैं। इस लेख में, आप सीखेंगे कि फिबोनैकी लेवल्स को सही तरीके से कैसे ड्रा किया जाए।

फिबोनैकी रिट्रेसमेंट कैसे ड्रा करें 

फिबोनैकी लेवल्स को कैसे ड्रा करें

फिबोनैकी रिट्रेसमेंट टूल का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है कि मौजूदा ट्रेंड के भीतर रिट्रेसमेंट कितना गहरा हो सकता है। इसका मतलब यह है कि रिट्रेसमेंट एक ट्रेंड के भीतर कीमतों में कमी को मापता है।

फिबोनैकी रिट्रेसमेंट में एक लाइन होती है जो 0%, 23.6%, 38.2%, 50%, 61.8%, 78.6%, और 100% सहित एक ट्रेंड और लेवल्स के पिक और लो को जोड़ती है। 0% और 100% ट्रेंड के उच्चतम और निम्नतम बिंदुओं को दर्शाते हैं। 23.6%, 38.2%, 61.8% और 78.6% को स्वर्णिम अनुपात माना जाता है। वे मूल्य पुलबैक की पहचान करने के लिए आवश्यक हैं। 50% को साइकोलॉजिकल लेवल माना जाता है।

लाइन्स को कैसे ड्रा करें 

  1. आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर “फिबोनैकी रिट्रेसमेंट” चुनें। यह एक मानक तकनीकी टूल है।
  2. करंट ट्रेंड के उच्चतम और निम्नतम पॉइंट को ढूँढिये। यदि यह एक अपट्रेंड है, तो नीचे से ऊपर तक फिबो रेखा खींचें। यदि यह एक डाउनट्रेंड है, तो ऊपर से नीचे तक की रेखा खींचें।
  3. यदि आप इसे सही ढंग से ड्रा करते हैं, तो 0% एक अपट्रेंड में शीर्ष पर और एक डाउनट्रेंड में नीचे स्थित होगा।

फिबोनैकी एक्सटेंशन कैसे ड्रा करें

रिट्रेसमेंट के बाद कीमत किस दिशा में बढ़ेगी, इसका पूर्वानुमान लगाने के लिए एक्सटेंशन का उपयोग किया जाता है। यह करंट ट्रेंड के भीतर इम्पल्स वेव्स को मापता है। फिबो रिट्रेसमेंट टूल वेव के उच्च और निम्न को जोड़ने वाली दो पंक्तियों द्वारा दर्शाया जाता है।

लाइन्स कैसे ड्रा करें 

फिबोनैकी लेवल्स को कैसे ड्रा करें
  1. ट्रेडिंग टूल्स में से “फिबोनैकी एक्सटेंशन” चुनें।
  2. यहां, आपको कीमतों में उतार-चढ़ाव को देखना चाहिए, न कि ट्रेंड को। हर बार जब कोई कीमत एक नया स्विंग बनाती है, तो आप फिबो एक्सटेंशन ड्रा कर सकते हैं। यदि यह एक अपट्रेंड है, तो निम्न चुनें, निकट उच्च पर दूसरा बिंदु सेट करें, और इसे निकट निम्न से कनेक्ट करें। डाउनट्रेंड में, एक उच्च चुनें, इसे निम्न से कनेक्ट करें, और लाइन को निकट उच्च तक ले जाएं।
  3. यदि आप इसे सही ढंग से ड्रा करते हैं, तो 0% एक अपट्रेंड में कम पर और एक डाउनट्रेंड में उच्च पर स्थित होगा।
शीर्ष 5 चरित्र लक्षण जो हर ट्रेडर की जरूरत है
जानें कि कौन से व्यक्तित्व लक्षण आपको भीड़ से अलग करेंगे और आपको ट्रेडिंग में सकारात्मक नतीजे पाने में मदद करेंगे।
अधिक पढ़ें

रिट्रेसमेंट और एक्सटेंशन ड्रा करते समय होने वाली सामान्य गलतियाँ

फिबोनैकी रिट्रेसमेंट और एक्सटेंशन के साथ डील करते समय ज्यादातर ट्रेडर सामान्य गलतियां करते हैं।

पुराने लेवल्स 

हर बार मूल्य जब एक नई वेव बनाता है तब नए फिबो एक्सटेंशन को चार्ट पर प्लेस किया जाना चाहिए। नए फिबो रिट्रेसमेंट को तब रखा जाना चाहिए जब कीमत एक नई प्रवृत्ति या मौजूदा प्रवृत्ति के भीतर एक नया उच्च/निम्न बनाती है।

फिट करने की कोशिश करना 

फिबो लेवल को ड्रा करते समय एक सामान्य गलती कीमत के उतार-चढ़ाव के साथ फिबो लेवल को फिट करना है। फिबोनैकी लेवल्स सपोर्ट और रिज़िस्टन्स लेवल निर्धारित करते हैं। फिर भी, अगर कीमत उनसे आगे जाती है तो यह सामान्य है।

ट्रेंड रिवर्सल

कई ट्रेडर्स उम्मीद करते है कि जब कोई ट्रेंड बदलेगा तो फिबो लेवल्स इस बारे में जानकारी देंगे। फिर भी, ज्यादातर मामलों में, लेवल्स प्राइस रिवर्सल की पहचान करते हैं लेकिन पूरे ट्रेंड में बदलाव की भविष्यवाणी नहीं कर सकते हैं।

केवल फिबो पर निर्भर करना 

ऐसा कोई संकेतक नहीं है जो सटीक संकेत प्रदान करेगा। आरएसआई, एमएसीडी, आसम आसलेटर, और स्टोचैस्टिक सहित प्राइस रिवर्सल की भविष्यवाणी करने वाले अन्य संकेतकों के साथ टूल्स को मिलाएं।

बहुत अधिक लेवल्स

फिबोनैकी लेवल्स को कैसे ड्रा करें

फिबोनैकी लेवेल्स लंबी अवधि की समय-सीमा पर बेहतर काम करते हैं। चूंकि उन्हें हर बार एक नया ट्रेंड या वेव बनाने पर रीसेट करना पड़ता है, कम समय सीमा पर बहुत सारे लेवेल्स हो सकते हैं।

क्या सीखें 

फिबोनैकी लेवेल्स को मूल्य चार्ट पर सही ढंग से रखना एक चुनौती है। ट्रेडिंग के लिए इस टूल का उपयोग करने से पहले, आपको अलग-अलग समय-सीमा और कई संपत्तियों पर अभ्यास करना चाहिए। एक वास्तविक बाजार उतना परफेक्ट नहीं होता है जितना कि एक ट्यूटोरियल में एक तस्वीर में होता है। फिबो लेवेल्स से डील करने के तरीके को समझने के लिए डेमो खाते का उपयोग करें।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें