प्रोडक्टिव तकनीकी विश्लेषण के लिए 5 रहस्य

तकनीकी विश्लेषण एक एप्रोच है जिसका उपयोग ट्रेडर्स और निवेशकों द्वारा हिस्टोरिकल प्राइस डेटा के आधार पर संपत्ति की कीमत दिशाओं की भविष्यवाणी करने के लिए किया जाता है। इसका तात्पर्य है कि पिछले प्राइस मूवमेंट्स और वैल्यू का उपयोग पैटर्न और तकनीकी इंडीकेटर्स  बनाने के लिए करना जो भविष्य की कीमत दिशा को इंगित करते हैं। विश्लेषण का यह तरीका, जैसा कि हम आज जानते हैं, 1800 के दशक के अंत में चार्ल्स डॉव और डॉव थ्योरी द्वारा प्रस्तुत किया गया था।

तकनीकी विश्लेषण एक व्यापक विधि है जिसमें कई टूल्स शामिल हैं। इसका प्रभावी ढंग से उपयोग करने के लिए आपको हमेशा इन पांच टिप्स का उपयोग करना चाहिए।

1. तकनीकी विश्लेषण और फंडामेंटल विश्लेषण को मिलाएं

फंडामेंटल विश्लेषण बनाम तकनीकी विश्लेषण एक सदियों पुरानी बहस है। कुछ निवेशक फंडामेंटल कारकों पर भरोसा करते हैं जो बाजार की भावना को निर्धारित करते हैं जो परिसंपत्ति की कीमतों में फेर बदल करते हैं। दूसरों का मानना ​​​​है कि ट्रेंड बदलते हैं और कीमतें अपने पिछले उतार-चढ़ाव को दोहराती हैं। इसलिए, उन्हें लगता है कि तकनीकी टूल्स के इंडिकेटर खोजने पर्याप्त है।

हालांकि, एक अनुभवी ट्रेडर जानता है कि एप्रोचों को संयोजित करना महत्वपूर्ण है। यदि आप केवल तकनीकी विश्लेषण पर भरोसा करते हैं, तो आप बाजार की महत्वपूर्ण घटनाओं की अवधि में असफल होने का जोखिम उठाते हैं। पैटर्न और इंडीकेटर्स किसी घटना के परिणाम पर आधारित मार्किट सेंटिमेंट का अनुमान नहीं लगा सकते हैं। इसलिए, इससे पहले कि आप तकनीकी टूल्स के अलर्ट को चेक करें, आपको आने वाले मूलभूत कारकों के बारे में पता होना चाहिए जो अस्थिरता को बढ़ा सकते हैं। साथ ही, मौलिक घटनाएं प्रतिदिन नहीं होती हैं। इसलिए, यदि आप केवल फंडामेंटल विश्लेषण का उपयोग करते हैं, तो आप संभावित ट्रेडों की संख्या को कम करने का जोखिम उठाते हैं।

2. इंडीकेटर्स का सेट

वित्तीय बाजारों के तकनीकी विश्लेषण में कई इंडीकेटर्स हैं। आपका मुख्य लक्ष्य यह निर्धारित करना है कि आपकी ट्रेडिंग रणनीति के अनुरूप कौन सा है। ऐसा करने के लिए, आपको उन्हें डेमो अकाउंट पर अभ्यास करने की आवश्यकता है। सभी समय-सीमाओं पर कम से कम पांच ट्रेडों को खोलें जिन पर आप ट्रेड करना चाहते हैं और परिणामों को लिखें। जीत की दर ऊंची होनी चाहिए। फिर भी, सभी ट्रेडों के सफल होने की उम्मीद न करें। प्रोफेशनल जानते हैं कि हमेशा सफल होना असंभव है, यहाँ तक कि सबसे प्रभावी इंडीकेटर्स के सेट के साथ भी।

साथ ही, आपको यह याद रखना चाहिए कि इंडीकेटर्स सभी समय-सीमाओं और सभी ट्रेडिंग परिस्थितियों में काम नहीं कर सकते। आपको उनकी सेटिंग्स बदलनी चाहिए या एक को दूसरे से बदलना चाहिए। आपका काम यह पहचानना है कि इंडीकेटर्स की सटीकता दर सबसे अधिक कब है और उपयुक्त स्थिति होने पर ही इसका उपयोग करें।

3. विशेष लक्ष्य निर्धारित करें

यहां तक ​​कि अगर आप कम समय सीमा में ट्रेडिंग करते हैं और मिनटों के भीतर किसी ट्रेड  को खोलने और बंद करने की योजना बनाते हैं, तो आपको टेक-प्रॉफिट और स्टॉप लोस आर्डर को अनदेखा नहीं करना चाहिए। कई नए लोगों का मानना ​​है कि बाजार पर लगातार नजर रखना पर्याप्त है ताकि वे एक परफेक्ट लेवल पर ट्रेड को अंजाम दे सकें।

यह कई कारणों से बहुत बड़ी गलती है। प्रमुख भावनाएं है। यदि आप एक नौसिखिया हैं, तो आप नहीं जानते कि भावनाओं से कैसे निपटें। कीमत में लगातार उतार-चढ़ाव होता रहता है। यह आपके ट्रेड की अवधि के दौरान उठेगा और गिरेगा। सभी शुरुआती लोग लालच की भावना का अनुभव करते हैं। वे ट्रेड को बंद नहीं करना चाहते क्योंकि उन्हें उम्मीद है कि कीमत बेहतर स्तर तक पहुंच जाएगी। लेकिन बाजार पलट जाता है, और वे विफल हो जाते हैं। इसलिए, कुछ स्तरों को निर्धारित करना महत्वपूर्ण है जहां आप बाजार से बाहर निकलेंगे।

टेक-प्रॉफिट और स्टॉप-लॉस ऑर्डर तकनीकी विश्लेषण के साथ निर्धारित किए जाते हैं। जब तक आपके पास ट्रेलिंग लेवल का उपयोग करने के लिए पर्याप्त अनुभव न हो, जिन्हें मौजूदा बाजार की स्थिति के अनुसार बदला जा सकता है तब तक इनसे जुड़े रहें।

4. रेंज का प्रयोग करें

तकनीकी विश्लेषण का उपयोग एंट्री और एग्जिट पॉइंट्स की पहचान के लिए किया जाता है। हालांकि, कम-अस्थिरता वाले बाजार में भी, आप उस सटीक स्तर को परिभाषित नहीं कर पाएंगे जिस पर एक कैंडलस्टिक खुलेगा और बंद होगा। इसलिए, प्रोफेशनल ट्रेडर्स रेंज का उपयोग करते हैं। रेंज में दो कीमतें होती हैं जिन्हें एक दूसरे के करीब रखा जाता है। बहुत विस्तृत रेंज आपको एंट्री और एग्जिट पॉइंट्स को सही ढंग से निर्धारित नहीं करने देगा।

यदि आप एक चार्ट का विश्लेषण करते हैं और एक गुड पॉइंट नहीं ढून्ढ पा रहे हैं क्योंकि पिछले सपोर्ट और रिज़िस्टन्स लेवल बहुत संकीर्ण या चौड़े हैं (स्टॉक तकनीकी विश्लेषण के लिए एक सामान्य मुद्दा), तो आपको एक रेंज परिभाषित करनी चाहिए और उसका औसत लेना चाहिए।

5. समय-सीमा को मिलाएं

एक प्रसिद्ध नियम कहता है कि लगातार तीन समय सीमा पर प्राइस मूवमेंट को चेक करें। उदाहरण के लिए, यदि आप 4-घंटे के चार्ट पर ट्रेड करना चाहते हैं, तो आपको प्रति घंटा और दैनिक चार्ट पर कीमतों में उतार-चढ़ाव की जांच करनी चाहिए। लंबी अवधि पूरे ट्रेंड को दर्शाएगी, जबकि निचली समय सीमा यह दिखाएगी कि क्या ऐसे कोई जरूरी पैटर्न हैं जो जल्द ही प्राइस मूवमेंट को प्रभावित कर सकते हैं।

याद रखें कि प्रत्येक चार्ट के अपने सिग्नल होंगे। इस प्रकार, यदि 4-घंटे के चार्ट पर एक खरीदने का सिग्नल है, तो प्रति घंटा चार्ट पर एक बेचने का सिग्नल हो सकता है। आपको उस समय सीमा पर सिग्नल्स पर विचार करना चाहिए जिस पर आप ट्रेड करते हैं और दो अन्य का उपयोग केवल पूरी स्थिति को बेहतर ढंग से समझने के लिए करना चहिए।

क्या सीखें 

मूल्य निर्धारण के लिए तकनीकी विश्लेषण एक बहुत ही प्रभावी तरीका है। हालाँकि, इसमें कई टूल्स शामिल हैं। इसलिए, आपको उन टूल्स को सही ढंग से लागू करने के लिए अपने कौशल में लगातार सुधार करना चाहिए।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
5 मिनट
नए व्यापारियों के लिए शीर्ष 5 तकनीकी विश्लेषण पुस्तकें
4 मिनट
आपके व्यापार के लिए सबसे अच्छी समय सीमा क्या है?
4 मिनट
स्टॉक रुझानों का तकनीकी विश्लेषण
5 मिनट
वॉल्यूम कैंडलस्टिक्स: वे कैसे काम करते हैं और उनका उपयोग कैसे करें
6 मिनट
शुरुआती लोग स्टॉक चार्ट कैसे पढ़ें
5 मिनट
कैंडलस्टिक चार्ट कैसे पढ़ें