प्रो ट्रेडर कैसे ट्रेंडलाइन ट्रेडिंग रणनीतियों का उपयोग करते हैं

बाजार ट्रेंड्स में चलते हैं। यह निष्कर्ष डॉव थ्योरी से निकाला गया था। 19वीं सदी के अंत में, डॉव जोन्स इंडस्ट्रियल एवरेज इंडेक्स के लिए जाने जाने वाले चार्ल्स डॉव ने वित्तीय बाजारों का विश्लेषण करने के लिए विभिन्न तरीकों का विकास किया। इन विधियों को डाउ थ्योरी नाम दिया गया।

ट्रेंडलाइन उन सब में से एक है जो तकनीकी संकेतकों को सीखने से पहले हर ट्रेडर शुरू करता है। उनका उपयोग ट्रेंड्स को फ्रेम करने और उन बिंदुओं को निर्धारित करने के लिए किया जाता है जहां कीमत के बदलने की संभावना अधिक होती है। इस लेख में, आपको सर्वोत्तम ट्रेंडलाइन ट्रेडिंग रणनीतियों और ट्रेंडलाइन को संयोजित करने के लिए सर्वोत्तम टूल सहित ट्रेडलाइन के मूलभूत सिद्धांत मिलेंगे।

ट्रेंडलाइन क्या हैं?

कमोडिटी ट्रेडिंग रणनीति क्या है?

ट्रेंडलाइन एक ऐसी रेखा है जो मार्किट ट्रेंड को आकार देने के लिए कम से कम दो उच्च या दो निम्न को जोड़ती है। वर्तमान ट्रेंड के आधार पर यह एंगल्ड या हॉरिज़ान्टल हो सकता है। एक डाउनट्रेंड में, ट्रेंडलाइन फालिंग हाई और लो से गुजरेगी। एक अपट्रेंड में, यह राइजिंग पीक और ट्रॉफ से गुजरेगा। साइडवेज़ ट्रेंड में, यह एक ही लेवल पर सेट किए गए उच्च और निम्न को जोड़ देगा।

इसका उपयोग सपोर्ट और रिज़िस्टन्स लेवल के रूप में किया जाता है। ट्रेंडलाइन से कीमत के पलटाव की संभावना आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली समय सीमा पर निर्भर करती है। छोटी अवधि में, कीमत अधिक बार अपनी दिशा बदलती है। इसलिए, यदि यह ट्रेंडलाइन से दो बार रिबाउंड होता है, तो एक उच्च जोखिम है कि यह जल्द ही बदल जाएगा। लंबी अवधि की समय सीमा पर एक स्ट्रोंग ट्रेंड में, यह अधिक संभावना है कि कीमत ट्रेंडलाइन से तीन बार से अधिक बार रिबाउंड हो जाएगी।

ट्रेंडलाइन का उपयोग अक्सर जोड़े में किया जाता है ताकि आपको संभावित प्रवेश और निकास बिंदुओं वाला चैनल मिल सके। एक ट्रेंडलाइन टूल किसी भी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर प्रस्तुत किया जाता है और इसे किसी भी समय सीमा पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्राइस बाउंस रणनीति

चरण 1: बाजार में प्रवेश करें

आपको दो ट्रेंडलाइन बनाने की जरूरत है ताकि वे एक चैनल बना सकें। सपोर्ट लेवल पर बाय आर्डर या रिज़िस्टन्स लेवल पर सेल आर्डर सेट करें।

चरण 2: टेक-प्रॉफिट ऑर्डर सेट करें

टेक-प्रॉफिट लक्ष्य एक खरीद ट्रेड में रिज़िस्टन्स लेवल पर और एक सेल ट्रेड में सपोर्ट लेवल पर रखा जाएगा। यदि आप सुनिश्चित हैं कि ट्रेंड सॉलिड है, तो आपको अपनी पोजीशन को पहले बिंदु पर बंद करने की ज़रूरत नहीं है, जहां से कीमत रिबाउंड होगी। आप ट्रेंडलाइन को लम्बा खींच सकते हैं और दूसरा बिंदु ढूंढ सकते हैं जहां कीमत जाएगी थोड़ी देर के लिए एक चैनल के भीतर मूव करने के बाद।

चरण 3: स्टॉप-लॉस ऑर्डर प्लेस करें

अपनी एंट्री कैसे सुधारें: 5 प्रभावशाली तरकीबें

जोखिमों को कम करने के लिए, आपको हमेशा स्टॉप-लॉस ऑर्डर प्लेस करना चाहिए। इसका लोकेशन मूल्य अस्थिरता पर निर्भर करेगा। यह निर्धारित करें कि कीमत अपने हालिया उतार-चढ़ाव के आधार पर सपोर्ट/ रिज़िस्टन्स स्तर से कितनी दूर जा सकती है या जोखिम/इनाम अनुपात लागू करें ताकि आपके संभावित रिटर्न संभावित नुकसान से कहीं अधिक हो।

ब्रेकआउट रणनीति

एक अन्य ट्रेंडलाइन ट्रेडिंग रणनीति ब्रेकआउट है। मौजूदा ट्रेंड को बदलने या जारी रखने के लिए सपोर्ट/ रिज़िस्टन्स स्तर से आगे बढ़ने के बजाय कीमत पलटाव नहीं कर सकती है।

चरण 1: बाजार में प्रवेश करें

कीमत के ट्रेंडलाइन को तोड़ने के बाद ही पोजीशन खोलें। चूंकि नकली होने का खतरा होता है, इसलिए आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि मूल्य ब्रेकआउट की दिशा में आगे बढ़ता रहेगा। वॉल्यूम इंडीकेटर्स का उपयोग करें जो बाजार सहभागियों की ताकत को दर्शाता है। यदि वॉल्यूम कमजोर है, तो एक उच्च जोखिम है कि कीमत चैनल पर वापस आ जाएगी। आप कन्वर्जन्स /डाइवर्जन्स का भी उपयोग कर सकते हैं, जो हमेशा एक ट्रेंड चेंज को दर्शाता है।

चरण 2: टेक- प्रॉफिट लेवल निर्धारित करें।

टेक-प्रॉफिट लेवल को शॉर्ट ट्रेड में अगले सपोर्ट लेवल पर और लॉन्ग ट्रेंड में अगले रेजिस्टेंस लेवल पर प्लेस किया जा सकता है।

चरण 3: संभावित नुकसान को सीमित करें

नकली होने की स्थिति में संभावित नुकसान को सीमित करने के लिए, आपको उस स्तर पर स्टॉप-लॉस ऑर्डर देना चाहिए, जिस स्तर पर कीमत टूटती है।

अपनी ट्रेडिंग शक्ति की जाँच करें!
ट्रेडिंग के अपने ज्ञान की जाँच करने के लिए हमारा क्विज़ लें। अगर आप Binomo प्लेटफॉर्म पर नए हैं – तो इसे पूरा करने के बाद बोनस पाएँ!
क्विज़ लें

ट्रेंडलाइन ट्रेडिंग रणनीति: रहस्य का खुलासा 

ट्रेडिंग के लिए आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले किसी भी संकेतक, पैटर्न और टूल के संकेतों की पुष्टि किसी अन्य संकेतक, पैटर्न या टूल द्वारा की जानी चाहिए। जब कीमत सपोर्ट/ रिज़िस्टन्स स्तर के करीब हो, तो संकेत दिए जाने चाहिए।

क्रिप्टोकरेंसी के लिए सबसे अच्छी ट्रेडिंग रणनीतियां क्या हैं?

ट्रेंडलाइन का सफलतापूर्वक उपयोग करने के लिए, आपको ऐसे इंडीकेटर्स के साथ प्राइस मूवमेंट को सत्यापित करने की आवश्यकता है जो प्राइस रिबाउंड (उदाहरण के लिए, आरएसआई, एमएसीडी, स्टोचस्टिक, या आसम आसलेटर) को दर्शाते हैं या जो ब्रेकआउट की पुष्टि करते हैं (उदाहरण के लिए, वॉल्यूम इंडिकेटर या कन्वर्जन्स /डाइवर्जन्स उपरोक्त इंडीकेटर्स के आधार पर)। इसके अलावा, आप एक कैंडलस्टिक पैटर्न पा सकते हैं जो प्राइस रिवर्सल को दर्शाता है।

क्या सीखें 

ट्रेंडलाइन ट्रेडिंग के लिए उन्नत कौशल की आवश्यकता नहीं होती है। यदि आप ऐतिहासिक डेटा या डेमो अकाउंट पर थोड़ा अभ्यास करते हैं, तो आप ट्रेंडलाइन को समझेंगे। यदि आप पहले से ही जानते हैं कि सपोर्ट/ रिज़िस्टन्स स्तर कैसे काम करते हैं, तो आप ऊपर उल्लिखित रणनीतियों को तुरंत लागू कर सकते हैं।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
सबंधित आर्टिकल
6 मिनट
स्कैल्पिंग: शुरुआती लोगों के लिए डे ट्रेडिंग स्ट्रेटेजीज
3 मिनट
मोमेंटम ट्रेडिंग: शुरुआत करने वालों के लिए स्पष्टीकरण और रणनीतियाँ
6 मिनट
न्यूनतम नुकसान के साथ व्यापार कैसे करें: 7 सुनहरे नियम
4 मिनट
ट्रेडिंग रणनीति का बैकटेस्ट कैसे करें
5 मिनट
5 कारण क्यों बैकटेस्टिंग आप फिट नहीं है
4 मिनट
समाचार(न्यूज़) पर आधारित ट्रेडिंग रणनीति: जानकारी को कौशल में बदलना

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें