मिलेनियल्स कैसे निवेश करते हैं: स्टॉक, बचत और थोड़ी जानकारी मनोविज्ञान की

हम देख रहें है कि बहुत कम मिलेनियल्स शेयर बाजार में निवेश कर रहे हैं – और अगर हम सच कहें, तो हमें वास्तव में आश्चर्य नहीं होता। 20 के दशक तक पहुँचने से पहले ही, मिलेनियल्स दो बड़े व्यपारिक मंदी के दौर से गुज़रे, एक ग्रेट रिसेशन था, जिसने उन्हें पूरी दुनिया की अब तक की सबसे बदकिस्मत पीढ़ी करार कर दिया । एक परेशान करने वाला तथ्य: मिलेनियल्स ने उस वक़्त में अपने माता-पिता की कुल संपत्ति का केवल 50% ही जमा किया है। इसका संभवतः यह अर्थ होगा कि उन्हें निवेश और वित्तीय रणनीति के बारे में सामान्य रूप से अधिक जागरूक होने की आवश्यकता है। हालांकि, वे हैं?

वे शेयरों के बजाय बचत खातों में निवेश करना पसंद करते हैं, क्योंकि पहले वाले विकल्प में जोखिम कम होता है। समस्या यह है कि आर्थिक इतिहास के आधार पर निर्णय लेने के परिणाम व्यक्ति के रिटायर होने के बाद अधिक नुकसानदेह हो सकते हैं। आंकड़े कभी झूठ नहीं बोलते और इस आर्टिकल को पढ़कर आपको पता लग जाएगा कि परिणाम कैसे आपकी निवेश पसंद पर निर्भर करते हैं।

अंक क्या कहते हैं?

आजकल, मिलेनियल्स कैश में अधिक निवेश करते हैं, क्योंकि यह सुरक्षित विकल्प लगता है, खासकर शोर्ट- टर्म के लिए। हालांकि, आंकड़े बताते हैं कि इस रणनीति से लॉन्ग टर्म में आपको अतिरिक्त आय का नुकसान हो सकता है। उदाहरण के लिए, आइए नकद बचत खाते में $10,000 का निवेश करें, जिस पर 1.5% की दर से ब्याज की प्राप्ति होगी 30 सालों के लिए।

जब तक वे 30 वर्ष बीतेंगे और आप रिटायरमेंट की आयु तक पहुँचेंगे, तब तक आपके द्वारा किया हुआ निवेश $15,630 का हो जाएगा। इसका मतलब यह है कि यदि आप अभी किसी तरह $10,000  के निवेश का प्रबंधन करते हैं, तो आपको ब्याज में केवल $5,000 से थोड़ा अधिक ही मिलेगा जो कि एक पूर्ण सेवानिवृत्ति प्रदान करने के लिए शायद ही पर्याप्त होगा अन्यथा आप कभी घर से बाहर नहीं जाने का प्लान बनाते हैं।

आपके फंड की पुर्चासिंग पॉवर पर मुद्रास्फीति का भी महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। इतिहास औसतन 2% मुद्रास्फीति दर दिखाता है – इसलिए, अपने फंड्स को निवेश करने के बजाय बचत खाते में डालकर, आप अपने खुद के फंड्स की पुर्चासिंग पॉवर खो रहे हैं।

अब, उतना ही इनिशियल डिपाजिट लेते हैं और उसे निवेश करते हैं। ऐतिहासिक रूप से कहें तो शेयर बाजार में निवेश करने पर औसतन 9% का रिटर्न मिलता है। इसलिए, यदि आप उस $10,000 को शेयरों में निवेशित छोड़ देते हैं, जब तक 30 वर्ष बीतेंगे, इनिशियल डिपाजिट कुल $132,676 तक हो जाएगा। एक बचत खाते की तुलना में, आपको अपने निवेश प्रतिफल का लगभग 20 गुना मिलता है।

बुरे वर्षों (डार्क इयर्स) या कम- आकर्षक वर्षों का कारण

हमने समझा है कि इन दिनों औसत स्टॉक मार्केट रिटर्न कैश बचत की तुलना में कहीं अधिक आकर्षक है – लेकिन उन वर्षों के बारे में क्या है जब शेयर बाजार उतना ग्राहक आकर्षक नहीं होगा? क्या होगा अगर पिछली मंदी जैसा कुछ फिर से हो और शेयर बाजार अपना मूल्य खोना शुरू कर दे?

यह एक बहुत ही उचित चिंता है, लेकिन साथ ही, उस जोखिम से बचाव का एक समाधान भी है। अधिकांश निवेशक सलाह देते हैं कि ऐसा होने के बाद, आपको बस शेयर बाजार में बने रहने और अपने निवेश को फिक्स्ड टाइमिंग के न करने या बड़े निर्णय लेने से दूर रहने की जरूरत है। ऐसे वक़्त में ज्यादातर शेयर बाजार का क्रेश होना या नुकसान सिर्फ इसलिए होता है क्योंकि निवेशक घबराए हुए शेयरों को खरीदने और बेचने लग जाते हैं।

अपने निवेश को स्टॉक मार्किट में लगाएं  

कुछ निवेशक तब स्टॉक खरीदते हैं जब स्टॉक की कीमतें कम होती है। एक बार जब शेयर बाजार अपना संतुलन हासिल कर लेता है और शेयरों को अपना मूल्य वापस मिल जाता है, तो निवेशक को अपने सेवानिवृत्ति खातों में बड़ा रिटर्न दिखने लगेगा। दूसरी ओर, वे तब भी खरीद सकते हैं जब स्टॉक की कीमतें अपने चरम पर हों, केवल स्टॉक की कीमतों में गिरावट देखने और उससे कम हो रही रिटर्न के लिए 

ऐसा कहे जाने के बाद, भले ही आप घटनाओं के बाद के संस्करण के शिकार हो जाते हैं, और आपके स्टॉक निचले सिरे पर रुक हो जाते हैं, फिर भी आपको एक स्टैण्डर्ड रिटायरमेंट खाते की तुलना में अधिक रिटर्न मिलेगा। साथ ही, भविष्य में रिटर्न फिर से बढ़ने की संभावना है।

शेयर बाजार अनिवार्य रूप से उतार-चढ़ाव का अनुभव करता है, इसलिए यह निर्धारित करना असंभव है कि आप किस तरफ जा रहे हैं। आप जैकपॉट को हिट कर सकते हैं, या आपकी दौड़ धीमी हो सकती है। अपने आप को शांत रखना और अपने अतिरिक्त फंड को जल्द से जल्द शेयर बाजार में लगाना महत्वपूर्ण है।

कर्ज और शेयरों की मैनेजमेंट 

मिलेनियल्स उस पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करते हैं जो मुख्य रूप से उच्च मॉर्गेज प्राइस, ट्यूशन लागत और स्वास्थ्य देखभाल के कारण कर्ज से सबसे अधिक जूझ रही है। यही कारण है कि निवेशकों को सतर्क रहने की जरूरत है, ताकि उनका कर्ज उनके निवेश के साथ ओवरलैप न हो जाए। रिटर्न के सफल होने के लिए, मिलेनियल्स को सलाह दी जाती है कि वे अपना कर्ज को सही तरीके से मैनेज करें। 

इसका मतलब यह नहीं है कि मिलेनियल्स को सिर्फ इसलिए निवेश करना बंद कर देना चाहिए क्योंकि उनके ऊपर अभी भी कर्ज है बल्कि उन्हें उस कर्ज को मैनेज करने और अपने वित्त को आर्डर में लाने की जरूरत है। उदाहरण के लिए, यदि आपके पास उच्च-ब्याज दर के साथ बंधक या उच्च-भुगतान वाला क्रेडिट कार्ड है, तो आप इसे चुकाना, बंद करना या पुनर्वित्त करना चाह सकते हैं।

आगे बढ़ते हुए

हमने मंदी के इतिहास के बारे में बहुत सुना और देखा है जिससे हम इस बात के लिए निश्चित नहीं है कि हमें कुछ भी निवेश करना चाहिए या नहीं। पर ऐसा कहे जाने के बाद भी, रेट खुद हमें इस बात का संकेत देते हैं, हमें स्टॉक में निवेश करने की एक कोशिश करनी चाहिए। यहाँ तक कि निचले स्तर पर भी, शेयर उच्च रिटर्न ला सकते हैं। इसलिए,एक मिल्लेनिअल के रूप में छलांग लगाने से, आप सबसे अधिक आभारी होंगे कि आपने ऐसा किया।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
7 मिनट
व्यापार के साथ शुरू करते हैं
4 मिनट
अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए सर्वश्रेष्ठ ईटीएफ निवेश रणनीतियों
4 मिनट
तर्कसंगत निवेश के लिए शेयरों का चयन कैसे करें?
4 मिनट
निवेश पर 5 बेहतरीन किताबें
6 मिनट
आपको $100, $500, और $1,000 का निवेश कहाँ करना चाहिए?
4 मिनट
स्टॉक एक्सचेंज का क्या अर्थ है