अपने अनुकूलित ट्रेडिंग रणनीति खोजें: कब और क्या ट्रेड करना है

बहुत से लोगों को गलत धारणा हैं कि ट्रेडिंग एक प्रकार का जुआ है और कुछ नहीं है, लेकिन यह बिल्कुल गलत है। ट्रेडिंग और जुए के बीच कोई संबंध नहीं है। हालांकि, यह अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उदाहरण के तौर पर, विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) भारतीय के बाजार को चलाने वाले प्राथमिक निवेशक हैं। अकेले 2021 में ही विदेशी संस्थागत निवेशक (फॉरेन इंस्टिट्यूटनल इन्वेस्टर) ने अर्थव्यवस्था में 50,089 करोड़ (7.06 बिलियन अमेरिकी डॉलर) का निवेश किया है।

ट्रेडिंग में वास्तविक कौशल और जानकारी होती है, और यदि आप जानते हैं कि कब और क्या ट्रेड करना है, तो आपको बाजार में रियल एडवांटेज मिलेगा। यह लेख समझाएगा कि आप बाजार में आपके अनुकूलित सही मौका और रणनीति के बारे में कैसे पता कर सकते हैं।

आपकी ट्रेडिंग रणनीति आपके ट्रेड को कैसे प्रभावित करती है

कई नौसिखिए ट्रेडर्स कैपिटल खो देते हैं क्योंकि उन्होंने एक ऐसी ट्रेडिंग रणनीति चुनी है जो उनके अनुरूप नहीं है। अंत में, यह उन्हें एक वास्तविक नुकसान में डालता है। आप अपने आप को एक निश्चित सांचे में फिट होने के लिए मजबूर नहीं कर सकते। कोशिश करने के बजाय, आपको ऐसी रणनीति ढूंढनी चाहिए जो आपकी विशेष शैली के साथ अच्छी तरह से काम करे।

आपकी ट्रेडिंग शैली और आपके द्वारा उपयोग की जाने वाली रणनीतियाँ महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे तय करती हैं कि आपको किस प्रकार की संपत्ति का ट्रेड करना चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि आप जोखिम लेने वाले हैं, तो हो सकता है कि आप स्टॉक ट्रेडिंग को आजमाना चाहें। पेनी स्टॉक स्वभाव से अस्थिर होते हैं, इसलिए बहुत उत्साह प्रदान कर सकते हैं।

यदि आप अपनी ट्रेडिंग एप्रोच के प्रति अधिक सतर्क हैं, तो आप ब्लू-चिप शेयरों के साथ या कीमती धातुओं या कृषि वस्तुओं जैसे अपेक्षाकृत स्थिर वस्तुओं के साथ स्विंग ट्रेडिंग का प्रयास कर सकते हैं।

आपको लाइव अकाउंट के साथ ट्रेडिंग कब शुरू करनी चाहिए?

लाइव ट्रेडिंग में ट्रेड करने से पहले अधिकांश ब्रोकर या ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म आपको डेमो अकाउंट पर ट्रेडिंग का अभ्यास करने का अवसर प्रदान करेंगे। यह बहुत उपयोगी है, क्योंकि यह आपको ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर के साथ सहज होने का मौका देता है और आपकी ट्रेडिंग रणनीति के बिंदुओं को बेहतर बनाने में आपकी मदद करता है।

लेकिन जब आप ट्रेडिंग में नए होते हैं, तो यह जानना मुश्किल हो सकता है कि लाइव अकाउंट के साथ ट्रेडिंग शुरू करने का समय कब है। आखिर, आपको कैसे पता चलेगा कि आप तैयार हैं या नहीं?

इसका उत्तर पाने के लिए, इन प्रश्नों पर विचार करें:

  • क्या आपने अपना शोध किया है? क्या आपने जितना हो सके ट्रेडिंग के बारे में खुद को शिक्षित किया है?
  • क्या आपके पास कोई ठोस रणनीति है?
  • क्या आपने अपने लिए एक ट्रेडिंग जर्नल बनाया है?
  • क्या आपने अपने डेमो खाते पर कम से कम एक महीने तक लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है?

यदि आप स्वयं को इनमें से प्रत्येक प्रश्न का उत्तर हां में देते हुए पाते हैं, तो यह आपके लिए एक लाइव खाता आज़माने का समय हो सकता है। बस यह सुनिश्चित करें कि आप छोटी शुरुआत करें और सावधानी बरतें। आपको सीधे ट्रेडिंग की दुनिया में कूदने के बजाय वास्तविक ट्रेडिंग के लिए अभ्यस्त होने के लिए खुद को समय देना चाहिए।

निष्कर्ष

निश्चित रूप से ट्रेडिंग का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा एक ऐसी रणनीति खोजना है जो आपके लिए काम करे-जो आपके व्यक्तित्व और जोखिम के लिए सहनशीलता के अनुकूल हो। साथ ही, सुनिश्चित करें कि यह आपके शेड्यूल और अन्य सभी चीजें जो आप कर रहे हैं उनमें फिट बैठता हैजब आपके पास कोई रणनीति होती है, तब भी आपको सावधान रहना चाहिए कि आप बहुत जल्दी लाइव ट्रेडिंग में न कूदें। पर्याप्त समय लें। अपने डेमो खाते पर अपनी रणनीति का अभ्यास करें। लाइव अकाउंट में तभी जाएं जब आप आश्वस्त और आत्मविश्वासी महसूस करें।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
शेयर बाजार में कैसे प्रवेश करें
5 मिनट
ऑनलाइन ट्रेड कैसे करें
5 मिनट
भारत में ऑनलाइन ट्रेडिंग कैसे शुरू करें
3 मिनट
शेयर बाजार में व्यापार कैसे शुरू करें
4 मिनट
आपके जोखिम प्रबंधन करने की क्षमता को बेहतर बनाने के लिए 7 आसान टिप्स
5 मिनट
ऑनलाइन ट्रेडिंग कैसे शुरू करें