खरीदने और बेचने से परे: ट्रेडिंग में 5 एडवांस्ड धन प्रबंधन तकनीकें

नौसिखिए ट्रेडर्स लगातार पूंजी प्रबंधन को अनदेखा करते हैं। फिर भी, यह सफल ट्रेडिंग के आवश्यक पहलुओं में से एक है। कुछ ट्रेडर जोखिम/इनाम अनुपात के बारे में जानते हैं, लेकिन यह आपके फंड को बनाए रखने का एकमात्र तरीका नहीं है। नीचे, आपको ट्रेडिंग में प्रभावी धन प्रबंधन करने की पाँच तकनीकों के बारे में पता चलेगा।

400 INR से शुरू करें, $1000 तक कमाएं
अभी ट्रेड करें

आंकड़ों के मुताबिक, डे ट्रेडर्स की सफलता दर लगभग 10% है। इसका मतलब यह नहीं है कि आपको ट्रेडिंग से परे होना चाहिए, लेकिन आपको पता होना चाहिए कि अपने फंड को कैसे बचाया जाए।

1. ट्रेडिंग में जोखिम/इनाम अनुपात

आइए सबसे आम अवधारणा से शुरू करें – जोखिम/इनाम अनुपात। एक ट्रेडर को संभावित जोखिमों और रिवार्ड्स के बीच एक निश्चित अनुपात की पहचान करनी चाहिए। सबसे आम अनुपात 1:2 और 1:3 हैं, जिसका अर्थ है कि संभावित लाभ कम से कम संभावित नुकसान का दोगुना होना चाहिए। अनुपात जितना अधिक होगा, पोजीशन उतनी ही सुरक्षित होगी।

ट्रेडर्स वर्तमान बाजार स्थितियों, अनुभव और मनोविज्ञान के अनुसार अनुपात का निर्धारण करते हैं। यहां, ट्रेडिंग में बिहैव्यरल फाइनेंस का जिक्र करना उचित है। बिहैव्यरल फाइनेंस मानता है कि मनोवैज्ञानिक बाइअस निवेशक के निर्णयों को प्रभावित करते हैं और विभिन्न बाजार विसंगतियों को जन्म दे सकता है।

2. स्टॉप-लॉस और टेक-प्रॉफिट तकनीक

सिद्धांत अनुशंसा करता है कि ट्रेडर्स को ट्रेड के परिणाम की परवाह किए बिना अग्रिम में एग्जिट पॉइंट्स प्लेस करने चाहिए। जोखिम/इनाम अनुपात अवधारणा स्टॉप-लॉस और टेक-प्रॉफिट तकनीकों के साथ परस्पर जुड़ी हुई है, क्योंकि कई ट्रेडर्स इसका उपयोग एग्जिट पॉइंट्स को निर्धारित करने के लिए करते हैं।

पोजीशन साइजिंग की पावर: लाभ को अधिकतम और नुकसान को कम कैसे करें

हालाँकि, स्तर वर्तमान प्राइस मूवमेंट्स पर भी निर्भर करते हैं। लाभ लेने वाली तकनीकों में से एक जीतने वाले तारदे को बंद करने के लिए निकटतम समर्थन और प्रतिरोध स्तरों का उपयोग करना है। जोखिम को कम करते हुए किसी ट्रेड को आंशिक रूप से बंद करने के लिए ट्रेलिंग टेक-प्रॉफिट ऑर्डर का उपयोग करने का एक अन्य अवसर है।

स्टॉप-लॉस स्तरों की पहचान करते समय संभावित जोखिमों को मापना महत्वपूर्ण है, तांकि वे आपके बजट को प्रभावित नहीं करें। तकनीकी विश्लेषण टूल्स के अलावा, आप ट्रेडर्स के लिए स्थापित स्टॉप-लॉस रणनीतियों पर विचार कर सकते हैं।

3. एंटी-मार्टिंगेल मेथड 

मार्टिंगेल दृष्टिकोण का अर्थ है नुकसान के बाद पोजीशन के आकार में वृद्धि नुक्सान से डील करने के लिए। उदाहरण के लिए, यदि आप अपनी पूंजी का 2% खो देते हैं, तो आपको अगली बार 4% जोखिम उठाने की आवश्यकता है; यदि आप फिर से हारते हैं, तो आप 8% जोखिम उठाते हैं, और इसी तरह आगे भी। हालांकि सिद्धांत मानता है कि एक ट्रेडर लगातार हार नहीं सकता है, यह एक अत्यधिक जोखिम भरा तरीका है।

90% तक मुनाफ़े के साथ ट्रेडिंग
अभी आज़माएं

एक सुरक्षित तरीका है – एंटी- मार्टिंगेल रणनीति। आप प्रत्येक नुकसान के बाद अपनी पूंजी की मात्रा को बढ़ाते नहीं बल्कि घटाते हैं। यानी, यदि आप अपनी पूंजी का 2% खो देते हैं, तो आप अगली बार केवल 1% का जोखिम उठाते हैं। यदि आप फिर से विफल होते हैं, तो आप ट्रेड की गई राशि को घटाकर 0.50 कर देते हैं, और इसी तरह आगे भी।

क्रिप्टोकरेंसी: 2023 में क्या उम्मीद करें
2023 क्रिप्टो बाजार के लिए रिकवरी का वर्ष होने की उम्मीद है। क्रिप्टोकरेंसी के लिए 2023 में क्या उम्मीद की जाए, यह देखने के लिए आगे पढ़ें।
अधिक पढ़ें

4. एक विशेष प्रतिशत का ही जोखिम उठाएँ

एक्टिव ट्रेडर्स के लिए धन प्रबंधन की तकनीकों में से एक का सुझाव है कि वे प्रति ट्रेड अपनी पूंजी का एक निश्चित प्रतिशत ही उपयोग करें। आमतौर पर, यह 1% से 3% तक होता है।

उदाहरण के लिए, यदि कोई ट्रेडर कन्सर्वटिव दृष्टिकोण लागू करता है और अपनी पूंजी का केवल 1% जोखिम लेता है, तो $10,000 खाता होने पर, वे एक ट्रेड में $100 ही लगाएंगे। यदि वे एक ट्रेड खो देते हैं और उनके पास $9,900 शेष है, तो वे $99 डालेंगे, और इसी तरह आगे भी।

कुछ ट्रेडर्स प्रारंभिक शेष राशि के एक विशेष प्रतिशत का उपयोग करते हैं। उदाहरण के लिए, 1% जोखिम के मामले में, वे प्रत्येक ट्रेड में $100 का निवेश करेंगे।

5. फ्री फण्ड को जोखिम में डालें  

यहां तक कि अगर आप सभी तकनीकी संकेतक और पैटर्न सीखते हैं, जानते हैं कि मौलिक विश्लेषण बाजारों को कैसे प्रभावित करता है, और डेमो और वास्तविक खातों पर अभ्यास करते हैं, तो भी आप यह सुनिश्चित नहीं कर सकते कि आपका ट्रेड सफल होगा। कई अप्रत्याशित कारक बाजारों को प्रभावित करते हैं। इसलिए, अपने दैनिक जीवन को नुकसान पहुंचाए बिना केवल उन फंडों को जोखिम में डालना महत्वपूर्ण है जिन्हें आप खो सकते हैं। अपनी कमाई और खर्च की गणना करें और समझें कि आप कितनी राशि खो सकते हैं। आपको हमेशा अपना बजट ट्रैक करना चाहिए और ट्रेडिंग फंड को अपने दैनिक खर्च से अलग रखना चाहिए।

अंतिम विचार

कब बाहर निकल जाएं: आपके ट्रेडिंग घाटे को कम करने के लिए टिप्स

ट्रेडर्स के लिए जोखिम प्रबंधन एक महत्वपूर्ण पहलू है जो हर किसी को सीखना चाहिए जो बाजार में प्रवेश करना चाहता है। यदि आप अपने फंड का प्रबंधन नहीं कर सकते हैं, तो आप कमाई नहीं करेंगे। ऊपर बताई गई हर तकनीक का पहले डेमो अकाउंट पर परीक्षण किया जा सकता है और उसके बाद लाइव ट्रेडिंग में लागू किया जा सकता है। याद रखें कि बाजार मुश्किल से अनुमानित हैं, इसलिए आपको हमेशा जोखिमों पर विचार करना चाहिए।

स्रोत:

Forex: Money Management Matters, Investopedia

How to Effectively do Money Management in Trading?, elearnmarkets

1 मिनट में मुनाफ़ा कमाएं
अभी ट्रेड करें
<span>लाइक</span>
साझा करें
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
शीर्ष 9 सबसे आम वित्तीय गलतियाँ
4 मिनट
5 जोखिम प्रबंधन टिप्स जो आपके ट्रेडिंग को बेहतर बनाएंगी
4 मिनट
डे ट्रेडिंग के लिए आपको कितने पैसे की आवश्यकता है?
4 मिनट
ट्रेडिंग सीखने के 5 तरीके
4 मिनट
शेयर बाजार में बांड क्या हैं?
4 मिनट
5 जोखिम प्रबंधन रहस्य जो आपके ट्रेडिंग को बदल देंगे

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें