स्टॉक एक्सचेंज का क्या अर्थ है

स्टॉक एक्सचेंज क्या है और इसकी विशिष्ट विशेषताओं का पता लगाने का मुद्दा लंबे समय से उत्सुक फ्यूचर इन्वेस्टर्स के दिमाग को सता रहा है जो वास्तव में सार्थक चीजों में निवेश करना चाहते हैं। लेख आपको मुख्य बारीकियों को समझने में मदद करेगा, स्टॉक एक्सचेंजों के विशेषताओं की व्याख्या करेगा और वे कैसे कार्य करते हैं। सबसे असाधारण उदाहरण भी यहां सूचीबद्ध किए जाएंगे!

मूल बातें

स्टॉक्स की ट्रेडिंग पहली बार 17वीं शताब्दी में एम्स्टर्डम में की गई थी, जिसमें डच ईस्ट इंडिया कंपनी ट्रेड होने वाली पहली सार्वजनिक कंपनी थी। पहला स्टॉक एक्सचेंज 1611 में एम्स्टर्डम में स्थापित किया गया था। आइए स्टॉक एक्सचेंज की परिभाषा के साथ शुरू करें। सरल शब्दों में, यह एक विशेष बाजार है जहां वित्तीय प्रक्रियाओं में भाग लेने वाले विभिन्न प्रतिभूतियों को खरीद या बेच सकते हैं, जिसमें बांड, ईएफ़टी एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड के शेयर आदि शामिल हैं। बाजार खुद ही ट्रेडिंग के कार्य में एक साधन है। स्टॉक एक्सचेंज के सबसे सामान्य प्रकारों में ई-ट्रेडिंग, नीलामी, ओवर-द-काउंटर (ओटीसी), और इलेक्ट्रॉनिक संचार नेटवर्क बाजार शामिल हैं।

यह कैसे काम करता है?

व्यापार के साथ शुरू करते हैं

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, स्टॉक एक्सचेंज की भूमिका निवेशकों के साथ निगमों और सरकार को एक साथ लाने की है। इसके अलावा, यह तरलता(लिक्विडिटी) की गारंटी देता है – एक अच्छी तरह से स्थापित एक्सचेंज में विक्रेताओं और खरीदारों की संख्या ऑफ़र और ट्रांसेक्शन के तेज और निर्बाध प्रवाह के लिए पर्याप्त है।

एक बार जब कोई कंपनी अपनी आरंभिक सार्वजनिक पेशकश(इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग) पूरी कर लेती है, तो वह प्राथमिक बाजार में स्टॉक एक्सचेंज में उपलब्ध हो जाती है। सार्वजनिक शेयरधारकों द्वारा सिक्योरिटीज़ की खरीद के बाद, वे उन्हें द्वितीयक बाजार में पेश कर सकते हैं। यह महत्वपूर्ण है कि एक्सचेंज प्रत्येक प्रकार के स्टॉक के साथ-साथ आपूर्ति और मांग के लिए ऑर्डर के प्रवाह की निगरानी करता है, और ऑप्टीमल कीमतें इस प्रकार बाजार द्वारा निर्धारित की जाती हैं, यानि आपूर्ति और मांग के बीच संतुलन द्वारा।

यह आर्थिक प्रक्रियाओं को कैसे प्रभावित कर सकता है?

जैसा कि हमने पहले ही बताया है, स्टॉक एक्सचेंज का मुख्य अर्थ और उद्देश्य अर्थव्यवस्था के विकास में निहित है। आइए उन तीन मुख्य तरीकों के बारे में जानें जिनमें यह आमतौर पर योगदान देता है:

Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
इक्विटी का क्या मतलब है?
  1. पर्याप्त फंड्स जुटाना: कोई भी फर्म जो इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग करती है या नियमित रूप से नए शेयर जारी करती है, वह विस्तार परियोजनाओं के लिए या कुछ कार्यों के वित्तपोषण के लिए फंड्स जुटा सकती है।
  2. बेहतर कॉर्पोरेट वित्तीय प्रबंधन: दुनिया के सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंजों में अपने शेयर पेश करने वाली कंपनियों को विशिष्ट मानकों (वित्तीय रिपोर्टिंग नियामकों द्वारा निर्धारित) का पालन करना आवश्यक है। यह सब धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के जोखिम को कम करता है, क्योंकि कंपनी के प्रबंधक और कैश पूल निरंतर सार्वजनिक नियंत्रण में हैं। सभी प्रक्रियाएं जितनी अधिक सच्ची और पारदर्शी होंगी, शेयर की कीमत उतनी ही अधिक होगी।
  3. आर्थिक दक्षता में सुधार: अपनी बचत को केवल गुल्लक में डालने के बजाय, लोगों के पास पास इसे निवेश करने (= आर्थिक प्रक्रियाओं को बढ़ावा देता है), और फिर अतिरिक्त आय प्राप्त करने का अवसर होता है।

इसके अलावा, स्टॉक एक्सचेंज का एक अन्य महत्वपूर्ण कार्य तरलता (लिक्विडिटी) बनाए रखना है। प्रदान की गई जानकारी का विश्लेषण करने के बाद, यह निवेशकों को एक विशेष अवधि में आपूर्ति और मांग को ध्यान में रखते हुए सबसे उपयुक्त मूल्य निर्धारित करने की अनुमति देता है।

आप एक डे-ट्रेडर के रूप में कितना कमा सकते हैं?
आप संभावित रिटर्न सीख जाएं तो बेहतर होगा—ज़्यादा आय के बारे में सपने देखना नहीं लेकिन यह जानना कि आपको हर ट्रेड के लिए कितना निवेश करना चाहिए।
अधिक पढ़ें

कुछ सटीक और अच्छे उदाहरण

सबसे पहला एक्सचेंज जो आज तक बचा हुआ है और जिसने सक्रिय रूप से काम करना ज़ारी रखा हुआ है वह है एनवाईएसई (NYSE), जिसकी स्थापना 1792 में हुई थी। इसे बनाने का निर्णय 24 ब्रोकर्स और ट्रेडर्स द्वारा किया गया था।

फिर भी, NYSE (न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज) के अलावा, दुनिया में कई अन्य सबसे बड़े शेयर बाजार हैं। उदाहरण के लिए:

  • एलएसई — लंदन स्टॉक एक्सचेंज (1801 यूनाइटेड किंगडम में स्थापित) £2.66 बिलियन के बाजार पूंजीकरण के साथ;
  • नैस्डैक (1971 में संयुक्त राज्य अमेरिका में स्थापित) $10.93 ट्रिलियन के बाजार पूंजीकरण के साथ;
  • एसएसई – शंघाई स्टॉक एक्सचेंज (1990, चीन में स्थापित) $5.01 ट्रिलियन के बाजार पूंजीकरण के साथ।
एस एंड पी 500 इंडेक्स क्या है?

उपर्युक्त प्रमुख एक्सचेंज केवल उन कंपनियों के शेयरों को सूचीबद्ध करते हैं जो तिमाही या वार्षिक रूप से अपने वित्तीय विवरण प्रकाशित करते हैं और विशेष कर प्री-टैक्स आय और सार्वजनिक रूप से आयोजित शेयरों की आवश्यकताओं को पूरा करते हैं। फर्म जो गंभीर कानूनी उल्लंघनों में पाई गई हैं या जिन्होंने पिछले 3-5 वर्षों में गलत वित्तीय डेटा की सूचना दी है (एक विशिष्ट एक्सचेंज की आवश्यकताओं के आधार पर) अपने शेयरों को सूचीबद्ध करने के लिए आवेदन करने के लिए पात्र नहीं हैं।

निष्कर्ष

इस सब को जोड़ते हुए, स्टॉक एक्सचेंज वित्तीय साधनों को बेचने और खरीदने के लिए एक विशेष बाजार है। एक नियम के रूप में, स्टॉक एक्सचेंज की पूरी ट्रेडिंग प्रक्रिया प्राथमिक बाजार में शेयरों की खरीद के साथ शुरू होती है और द्वितीयक बाजार में उनकी बिक्री के साथ जारी रहती है। केवल वे कंपनियां जो आवश्यकताओं का सख्ती से पालन करती हैं और ईमानदारी से अपना व्यवसाय करती हैं, उन्हें अपनी सिक्योरिटीज़ पेश करने की अनुमति है, और वित्तीय लेनदेन की पारदर्शिता शेयरों के मूल्य को प्रभावित करती है।

लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
सबंधित आर्टिकल
8 मिनट
नए लोगों के लिए ऑप्शन ट्रेडिंग
6 मिनट
क्या हैं शेयर बाजार और ब्रोकर्स
6 मिनट
आपको $100, $500, और $1,000 का निवेश कहाँ करना चाहिए?
4 मिनट
एक स्टॉक शॉर्टिंग क्या है?
5 मिनट
शेयर बाजार कब और क्यों बंद होता है.
4 मिनट
कम पैसे के साथ निवेश कैसे करें?

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें