शीर्ष 5 शॉर्ट-टर्म ट्रेडिंग रणनीतियाँ जिसका उपयोग प्रोफेशनल्स करते हैं

ट्रेडिंग रणनीतियाँ ट्रेड की अवधि के आधार पर भिन्न होती हैं। यहाँ शोर्ट-टर्म एप्रोच होती हैं जो आपको एक दिन से लेकर कई हफ्तों तक की अवधि के भीतर ट्रेड करने की अनुमति देते हैं, मीडियम-टर्म की तकनीकें होती हैं, जो कई हफ्तों से महीनों तक ट्रेड करने के लिए उपयोग होती है और लॉन्ग-टर्म एप्रोच होती है जो कम से कम एक वर्ष के लिए ट्रेडों को होल्ड करते हैं। इन सभी रणनीतियों के अलग-अलग मानदंड हैं।

ट्रेडिंग रणनीति लागू करते समय, आपको याद रखना चाहिए कि इसे अपने सब्जेक्टिव डेटा के अनुसार अनुकूलित किया जाना चाहिए। कोई भी ट्रेडिंग रणनीति सामान्य नियमों का एक समूह है, लेकिन बाजार की स्थितियां अक्सर बदलती रहती हैं। रॉबर्ट शिलर के आंकड़ों के मुताबिक, बाजार शायद ही कभी एवरेज हो। उदाहरण के लिए, हालांकि एक अध्ययन से पता चला है कि एस&पी500, सालाना 6.9% (मुद्रास्फीति के बाद लाभांश सहित) की वृद्धि दर से बढ़ा है, 1871 से 2019 तक, केवल 28 वर्षों में क्या इंडेक्स ने 0-10% का रिटर्न दिखाया। 74 वर्षों में दोहरे अंकों में लाभ हुआ और 23 वर्षों में दोहरे अंकों में गिरावट आई।

स्टॉप लॉस क्या है और इसका उपयोग कैसे करें?

आइए सबसे उत्कृष्ट शोर्ट-टर्म ट्रेडिंग एप्रोचों पर विचार करें।

1. स्कैल्पिंग

आपको आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि सूची इस ट्रेडिंग रणनीति से शुरू होती है। स्कैल्पिंग को शोर्ट-टर्म ट्रेडिंग एप्रोचों का राजा कहा जा सकता है। आईडिया काफी सरल है: दिन के अंत में रिवार्ड्स को पाने के लिए आपको एक ट्रेडिंग दिन के भीतर कई छोटे ट्रेडों को खोलने की आवश्यकता होती है।

चूंकि स्केलिंग का अर्थ है फास्ट ट्रेडिंग, स्कैल्पर्स पूर्व निर्धारित स्तरों पर सेट, खरीद और बिक्री की पोजीशन निर्धारित करते हैं और कुछ चरणों का पालन करते हैं। आमतौर पर, कई ट्रेड कई सेकंड के भीतर किए जाते हैं। यह एप्रोच ज्यादातर तकनीकी टूल्स पर आधारित है, जिसमें चार्ट पैटर्न और इंडीकेटर्स शामिल हैं।

ऐसा समझा जाता है कि स्केलपर्स को मॉनिटर के सामने बहुत समय बिताना चाहिए, क्योंकि ट्रेड छोटे होते हैं। न्यूनतम नुकसान के साथ ट्रेड को बंद करने के लिए प्राइस की दिशा के संकेतों को समझना महत्वपूर्ण है।

ध्यान रखें कि छोटी पोजीशन कम जोखिम की गारंटी नहीं देती है। स्कैल्पिंग में कोई ओवर नाईट फीस शामिल नहीं होती है अगर आप रात भर ट्रेड को होल्ड करते हैं। हालांकि, ट्रेडर एक दिन में कई ट्रेड करता है और उनमें से प्रत्येक के लिए फीस देता है। हानि लाभ को भी मात दे सकती है।

शुरुआती ट्रेडर्स के लिए स्कैल्पिंग एक जटिल रणनीति हो सकती है, क्योंकि इसके लिए फटाफट कार्रवाई की आवश्यकता होती है। हालांकि, अगर आपके पास अनुभव है और आप आत्मविश्वास महसूस करते हैं, तो स्कैल्पिंग एक अच्छा तरीका हो सकता है।

2. डे ट्रेडिंग

इंडिकेटर और रणनीति: क्या अंतर है?

डे ट्रेडिंग (या इंट्राडे ट्रेडिंग) शॉर्ट टर्म पोजीशन खोलने का एक और तरीका है। यह एप्रोच किसी भी समय सीमा पर किसी भी संपत्ति के लिए काम करता है। स्केलिंग के विपरीत, डे ट्रेडिंग एक आसान रणनीति है जिसका उपयोग नई शुरुवात करने वाले लोग भी कर सकते हैं।

रणनीति का नाम ही इसके कार्य के बारे में जानकारी देता है – ट्रेड को बाजार बंद होने से पहले खोले और बंद करें। इस तरह, एक दिन के ट्रेडर को ओवरनाईट फ़ीस नहीं भरनी पड़ती। ट्रेड आमतौर पर 15-मिनट से 4 घंटे तक की समय-सीमा पर खुले होते हैं। हालांकि रणनीति के नाम में “डे” शामिल है, एक डेली चार्ट का उपयोग केवल कुछ तकनीकी बिंदुओं को चेक करने के लिए किया जाता है, जिसमें लॉन्ग-टर्म बाजार के ट्रेंड्स भी शामिल हैं। बाजार के उतार-चढ़ाव का विश्लेषण करने और एंट्री और एग्जिट पॉइंट्स पर निर्णय लेने के लिए ट्रेडर्स द्वारा 1-घंटे के चार्ट का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

स्केलिंग की तुलना में डे ट्रेडिंग एप्रोच धीमी है। डे ट्रेडर्स को एक दिन के भीतर कई ट्रेड नहीं खोलने चाहिए। यदि आप 1 से 4 घंटे सहित उच्च समय सीमा पर ट्रेड करते हैं तो केवल 1-2 पोजीशन खोलना संभव है। इस प्रकार, एक ट्रेडर के पास निर्णय लेने के लिए अधिक समय होता है। इसके अलावा, डे ट्रेडिंग, स्केलिंग की तुलना में जोखिम के स्तर को कम करता है।

3. स्विंग ट्रेडिंग

हालांकि यह कई दिनों से लेकर कई हफ्तों तक के ट्रेडों पर लागू होता है, स्विंग ट्रेडिंग को शॉर्ट-टर्म एप्रोच भी कहा जा सकता है।

स्विंग ट्रेडिंग में फंडामेंटल फैक्टर्स शामिल हो सकते हैं, क्योंकि ट्रेड कम से कम कई दिनों तक चलते रहते हैं। हालांकि, इस रणनीति के लिए प्रमुख संकेत इंडिकेटर और चार्ट पैटर्न से प्राप्त होते हैं।

केल्टनर चैनल रणनीति – एक संपूर्ण मार्गदर्शिका

स्विंग तब होती है जब कीमत अपनी दिशा बदलती है। दिशा में बदलाव ज्यादातर चार्ट पैटर्न, साथ ही सपोर्ट और रीज़िस्टन्स लेवल द्वारा निर्धारित किया जाता है। आईडिया आगामी प्राइस  मूवमेंट के बारे में पता करना और पोजीशन को तब तक खुला रखना है जब तक कि पैटर्न काम करना बंद न कर दे।

4 मानसिक हैक्स जो आपके व्यापार को बेहतर के लिए बदल देंगे
बाज़ार की ओर देखने का तरीका बदलते हुए अपनी ट्रेडिंग में वृद्धि करना चाहते हैं? 4 मानसिक हैक सीखें जिन्हें तुरंत लागू किया जा सकता है।
अधिक पढ़ें

4. पुलबैक ट्रेडिंग

शोर्ट-टर्म के भीतर ट्रेडिंग करने के लिए पुलबैक रणनीति एक और एप्रोच है। एक ट्रेडर को प्राइस  चार्ट पर एक सॉलिड ट्रेंड का पता करना चाहिए और कीमत के वर्तमान ट्रेंड के विपरीत दिशा में जाने की प्रतीक्षा करनी चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि तेजी की प्रवृत्ति है, तो कीमत के  प्रतिरोध से पलटाव खाकर नीचे जाने की उम्मीद है। हालांकि, यह गिरावट लॉन्ग-टर्म के लिए होने की उम्मीद नहीं है, क्योंकि कुल मिलाकर रुझान तेज है। इसलिए, एक ट्रेडर एक लंबे ट्रेड में प्रवेश करने के लिए प्राइस के सपोर्ट लेवल से पलटाव की प्रतीक्षा करता है।

चूंकि ट्रेडिंग ट्रेंड्स पर आधारित है, तकनीकी टूल्स रणनीति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि पुलबैक विश्वसनीय है, यह सलाह दी जाती है कि पुलबैक से पहले अपट्रेंड में कम से कम दो लगातार उच्च स्तर आने तक प्रतीक्षा करें – और यदि यह डाउनट्रेंड है तो कम से कम दो लगातार निचले स्तर।

5. मनी फ्लो इंडेक्स

बाजार रणनीतियों के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ पुस्तकें

एक अन्य रणनीति जिसका उपयोग ट्रेडर्स द्वारा सीमित अवधि के लिए ट्रेड करने के लिए किया जा सकता है, वह है मनी फ्लो इंडेक्स (एमएफआई) पर आधारित रणनीति। यह एक इंडिकेटर  है जिसका उपयोग ज्यादातर प्राइस वॉल्यूम निर्धारित करने के लिए किया जाता है। यह ओवरबॉट और ओवरसोल्ड स्थितियों को भी रिफ्लेक्ट कर सकता है। जब संपत्ति अधिक खरीद ली जाती है (इंडिकेटर 80 के स्तर से ऊपर है), एक ट्रेडर आगामी मूल्य में गिरावट की उम्मीद कर सकता है। शॉर्ट पोजीशन खुली होनी चाहिए जैसे ही इंडिकेटर इस स्तर से नीचे आते है। इसके विपरीत, यदि परिसंपत्ति ओवरसोल्ड है (इंडिकेटर 20 के स्तर से नीचे है), तो कीमत जल्द ही सही स्थिति में आ सकती 

उपसंहार

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन सी रणनीति लागू करते हैं। आपको हमेशा याद रखना चाहिए कि कोई भी ऐसी रणनीति नहीं है जो रिटर्न की गारंटी देती है। सबसे पहले, प्रत्येक रणनीति को आपके फंड के अनुसार, जो जोखिम आप सहन कर सकते हैं, आपका अनुभव, और वह समय जो आप ट्रेडिंग के लिए लगाने के लिए तैयार हैं उसके अनुकूलित किया जाना चाहिए। दूसरा, बाजार की स्थितियां लगातार बदलती रहती हैं। इसलिए, सटीक कदम निर्धारित करना असंभव है जो किसी भी बाजार के माहौल में काम करेगा।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
ब्रेकआउट ट्रेड कैसे करें
4 मिनट
अपनी एंट्री कैसे सुधारें: 5 प्रभावशाली तरकीबें
4 मिनट
पोजीशन ट्रेडिंग क्या है और यह कैसे काम करती है?
5 मिनट
एल्गोरिथम ट्रेडिंग रणनीतियाँ: एआई का उपयोग करके ट्रेडिंग करना
4 मिनट
5 सच्चे संकेत एक प्रवृत्ति समाप्त हो रही है
5 मिनट
बोलिंगर ब्रेकडाउन ट्रेडिंग रणनीति

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें