भारत में डे-ट्रेडिंग के लिए शीर्ष 4 रणनीतियाँ

भारत में इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छी रणनीतियाँ गैप एंड गो ट्रेडिंग, मोमेंटम ट्रेडिंग, रिवर्सल ट्रेडिंग और ब्रेकआउट ट्रेडिंग हैं। ये रणनीतियाँ ट्रेडर्स को पूरे दिन लाभ प्राप्त करने के अवसरों का फायदा लेने का मौका देती हैं।

पिछले तीन वर्षों में, बाजार विश्लेषकों ने देखा है कि 2 मिलियन से अधिक भारतीय हर महीने शेयर बाजार में निवेश और ट्रेड करना शुरू करते हैं। इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि 2020 के बाद से डे-ट्रेडिंग में दिलचस्पी बढ़ी है।

गैप एंड गो ट्रेडिंग

ट्रेडिंग में लक्ष्य कैसे निर्धारित करें: 5 कदम जो आपको उठाने होंगे

ध्यान करने वाली पहली रणनीति गैप एंड गो ट्रेडिंग है। यह अपेक्षाकृत आसान और प्रभावी डे- ट्रेडिंग रणनीति है।

इस रणनीति के लिए पूर्व-बाजार स्थितियों के गहन विश्लेषण की आवश्यकता है। सबसे पहले उन वित्तीय संपत्तियों के लिए स्कैन करें जिनकी कीमतें बाजार के बाद या पूर्व-बाजार सत्रों के दौरान बदल गई हैं।

फिर मूल्य भिन्नता के संभावित कारणों का विश्लेषण करें। अर्निंग्स कॉल्स, एनालिस्ट रिपोर्ट्स, इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स द्वारा खरीदारी या टेकओवर कुछ ऐसे कारण हैं जिनकी वजह से गैप बन सकता है। इस स्तर पर, गैप को फॉलो करने या इसे कम करने के लिए ऑर्डर्स तैयार करें।

मोमेंटम आधारित ट्रेडिंग 

ध्यान देने वाली अगली रणनीति मोमेंटम ट्रेडिंग है। इस क्षेत्र के विशेषज्ञों ने इसे डे –ट्रेडिंग के लिए ब्रेड-एंड-बटर एप्रोच करार दिया है।

यह एक शोर्ट-टर्म ट्रेडिंग रणनीति है जिसमें बाजार के ट्रेंड्स को देखना शामिल है। एक वित्तीय इंस्ट्रूमेंट जो ऊपर जा रहा है, उसके उसी ट्रजेक्टरी पर जारी रहने की संभावना है। हालांकि, अगर कीमत बढ़ने की दर धीमी हो रही है, तो उम्मीद है कि उठाव कम हो जाएगा।

इस रणनीति का पालन करने वाला ट्रेडर किसी पोजीशन को खरीदने या बेचने के लिए इन ट्रेंड्स का लाभ उठाएगा। ट्रेंड्स का आकलन करने के लिए, निम्नलिखित कारकों पर विचार करना चाहिए:

5 सच्चे संकेत एक प्रवृत्ति समाप्त हो रही है
  1. सबसे पहले, उस रिलेटिव वॉल्यूम को देखें जिस पर परिसंपत्तियों का ट्रेड किया जा रहा है। यह इंडिकेटर इंस्ट्रूमेंट में रुचि का एक आईडिया देता है। इसके अलावा, यह पहचानने के लिए कि क्या किसी स्टॉक को अधिक खरीदा गया है या अधिक बेचा गया है रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स को देखें।
  2. इसके अतिरिक्त, अस्थिरता देखें। मोमेंटम ट्रेडिंग के लिए हाई- वालटिलिटी अच्छी है।
  3. अगला पहलू जिस पर आपको गौर करना चाहिए वह है स्टॉक के बारे में चर्चा। नई रिपोर्ट, अर्निंग्स कॉल्स और नकारात्मक पीआर जैसे स्रोत इस मूल्यांकन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। रेगुलेशन और वैश्विक घटनाएं जैसे बाहरी कारक भी प्रासंगिक हैं।

भारत में, पिछले एक साल में, निफ्टी वालटिलिटी इंडेक्स (INDIA_VIX) में 9.02 और 33.97 के बीच बेतहाशा उतार-चढ़ाव आया है। उच्च अस्थिरता की अवधि ने मोमेन्टम-आधारित ट्रेडर्स को बाजार में कदम रखने के अवसर दिए हैं।

रिवर्सल ट्रेडिंग

ध्यान देने वाली अगली रणनीति रिवर्सल ट्रेडिंग है। इसमें, ट्रेडर ट्रेंड्स के खिलाफ जाता है। यह रणनीति रोमांचक लगती है, लेकिन इसमें उच्च जोखिम शामिल है। विश्लेषण और गणना के सही सेट के साथ यह रणनीति व्यवहार्य है।

रिवर्सल ट्रेडिंग की जड़ों का पता रिचर्ड वाईकॉफ और एडम ग्रिम्स द्वारा किए गए शोध से लगाया जा सकता है। वायकॉफ ने पता लगाया कि बाजार 4 चरणों से गुजरते हैं, अर्थात, इकट्ठा करना, मार्कअप, डिस्ट्रीब्यूशन और मार्कडाउन।

ट्रेंड का विश्लेषण करते समय, ट्रेडर साइडलाइन्स पर बैठेगा, मोमेन्टम में कमी और वॉल्यूम में कमी के संकेतों की प्रतीक्षा करता हुआ। ये इंडीकेटर्स दिखाएंगे कि डिस्ट्रीब्यूशन चरण कब शुरू हुआ है। तदनुसार, ट्रेंड के निष्कर्ष को जल्दी से पहचाना जा सकता है। इसका उदाहरण बुल रन के दौरान संभावित सेल-ऑफ का संकेत देखना होगा।

ट्रेंड्स में बदलाव को समझने के लिए, आरून इंडिकेटर एक बेहतरीन संसाधन है। यह इंडिकेटर  पहचानता है कि मार्किट सेंटिमेट ट्रेंडिंग कर रहा है या रेंजिंग।

बज़क्वांट ट्रेडिंग रणनीति – एक सावधानीपूर्वक मूल्यांकन

यदि आरून इंडिकेटर दिखाता है कि मार्किट सेंटिमेट ट्रेंडिंग कर रहा है, तो संभावना है कि स्टॉक मार्कअप चरण से गुजर रहा है। जब इंडिकेटर पुष्टि करता है कि मार्किट सेंटिमेट रेंज में है, तो इसका मतलब है कि डिस्ट्रीब्यूशन ज़ोन आ चूका है। एक बार इन ज़ोन्स की पहचान हो जाने के बाद, ट्रेडर भविष्यवाणी कर सकता है कि ट्रेंड रिवर्सल कब होगा।

4 मानसिक हैक्स जो आपके व्यापार को बेहतर के लिए बदल देंगे
बाज़ार की ओर देखने का तरीका बदलते हुए अपनी ट्रेडिंग में वृद्धि करना चाहते हैं? 4 मानसिक हैक सीखें जिन्हें तुरंत लागू किया जा सकता है।
अधिक पढ़ें

ब्रेकआउट ट्रेडिंग

ध्यान देने वाली अंतिम रणनीति ब्रेकआउट ट्रेडिंग रणनीति है, जो बाजार के ट्रेंड्स में अचानक बदलाव का लाभ उठाने के बारे में है। ये बदलाव अस्थिरता को ट्रिगर करते हैं, और इस बिंदु पर कोई भी बाजार में प्रवेश कर सकता है।

ब्रेकआउट ट्रेड को निष्पादित करने के लिए, पहला कदम किसी स्टॉक के रिज़िस्टन्स स्तर से ऊपर जाने के लिए कैटलिस्ट की पहचान करना है। यह कैटलिस्ट अर्निंग कॉल, विनियमों में बदलाव या वैश्विक बाजार की स्थिति हो सकती है। फिर रिज़िस्टन्स और सपोर्ट स्तरों को देखकर सही प्रवेश और निकास बिंदुओं की पहचान करें।

इस समय, ट्रेडों को तब निष्पादित किया जा सकता है जब रिज़िस्टन्स स्तर का उल्लंघन कर दिया गया हो। विकल्प में, जब सपोर्ट स्तर सरेंडर कर दिया गया है, तो कीमत में कमी का कोई भी लाभ उठा सकता है।

अंतिम विचार

कुछ अन्य व्यवहार्य इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीतियों में मूविंग एवरेज क्रॉसओवर, स्केलिंग और सीएफडी रणनीति शामिल हैं। हालांकि, विशेषज्ञों ने माना है कि भारत में डे ट्रेडिंग के लिए गैप एंड गो ट्रेडिंग, मोमेंटम ट्रेडिंग, रिवर्सल ट्रेडिंग और ब्रेकआउट ट्रेडिंग ऑप्टीमल हैं।

“नाइट चैनल” ट्रेडिंग रणनीति

इंट्राडे ट्रेडर आमतौर पर केवल बाजार के घंटों के दौरान ही सक्रिय रहते हैं। हालांकि, इन ट्रेडिंग रणनीतियों को सफलतापूर्वक लागू करने के लिए, एक ट्रेडर को तकनीकी विश्लेषण इंडीकेटर्स  जैसे प्राइस ट्रेंड्स, ऑसिलेटर्स, और सपोर्ट और रिज़िस्टन्स स्तरों से परिचित होना होगा। इसके अलावा, यह मुद्रास्फीति और आर्थिक आउटपुट जैसे मैक्रोइकॉनॉमिक कारकों और बैलेंस शीट, कैश फ्लो और कॉर्पोरेट गवर्नेंस जैसे माइक्रोइकनोमिक कारकों से परिचित होने में मदद करेगा।

ट्रेडर्स आमतौर पर रिवर्सल ट्रेडिंग को लागू करने में कठिनाई का अनुभव करते हैं क्योंकि इसमें एक ट्रेंड के खिलाफ जाना शामिल है। इसकी तुलना में, मोमेन्टम -आधारित ट्रेडिंग जैसी अन्य रणनीतियों में स्थापित मोमेन्टम के साथ चलना शामिल है।

यह देखते हुए कि इन दिनों ट्रेडिंग रणनीतियों में मौलिक और तकनीकी विश्लेषण के आधार पर पूर्वानुमान लगाना शामिल है, डे-ट्रेडिंग शुरू करने से पहले कुछ अनुभव प्राप्त करने की सलाह दी जाती है। व्यक्तिगत फंड के साथ ट्रेड करने से पहले, ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर डेमो अकाउंट खोलना और डेमो फंड के साथ अभ्यास करना बेहतर है। डे ट्रेडिंग के विशेषज्ञ बताते हैं कि ट्रेडिंग रणनीतियों को बार-बार क्रियान्वित करने से उनके साथ सहज महसूस करना डे ट्रेडिंग  में कुशल बनने की दिशा में एक अच्छा और लॉन्ग-टर्म कदम है।व्यक्तिगत फंड्स के साथ ट्रेड शुरू करने से पहले, दिन की ट्रेडिंग गतिविधियों के लिए एक निश्चित राशि को कोष के रूप में निर्धारित करें। इस पूरी राशि को खोने के लिए भावनात्मक और मानसिक रूप से तैयार रहें क्योंकि ट्रेडिंग एक जोखिम भरा साहसिक कार्य है। ट्रेड करते समय, प्रति ट्रेड पूंजी के 1% से अधिक का उपयोग न करें। इसके अलावा, भावनात्मक निर्णय न लें और मुनाफे के बारे में यथार्थवादी बनें।

लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
बाइ द रूमर, सेल द न्यूज़ — एक शीर्ष-स्तरीय ट्रेडर गाइड
4 मिनट
अपनी एंट्री कैसे सुधारें: 5 प्रभावशाली तरकीबें
4 मिनट
बेहतर स्टॉप लॉस प्लेसमेंट के लिए 5 उपकरण
4 मिनट
एक चलती औसत ट्रेडिंग प्रणाली कैसे बनाएं जो काम करती है?
5 मिनट
निश्चित समय ट्रेडों में सर्वश्रेष्ठ ट्रेडिंग रणनीतियां
3 मिनट
कमोडिटी ट्रेडिंग रणनीति क्या है?

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें