किसी ट्रेंड के अंत की पहचान कैसे करें

कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस बाजार में ट्रेड करते हैं, ट्रेंड्स या रुझान बदलते हैं। यदि आप अधिकतम रिटर्न के साथ किसी पोजीशन को बंद करना चाहते हैं और गलत दिशा में हारे हुए ट्रेड को नहीं खोलना चाहते हैं, तो आपको यह जानना होगा कि कौन से तकनीकी उपकरण ट्रेंड रिवर्सल की भविष्यवाणी कर सकते हैं। डॉव थीअरी 100 साल पहले विकसित की गई थी। हालाँकि, इसके सिद्धांत अभी भी सत्य हैं। थीअरी के एलमन्ट्स में से एक का कहना है कि एक स्पष्ट रिवर्सल संकेत होने तक प्राथमिक ट्रेंड्स लागू होते हैं। एक द्वितीयक ट्रेंड के उद्भव के साथ रिवर्सल को आसानी से कंफ्यूज किया जा सकता है। यह कहा जा सकता है कि “ट्रेंड तब तक आपका मित्र है जब तक समाप्त न हो जाए।”

सबसे प्रभावी संकेतक और पैटर्न जानने के लिए पढ़ते रहें।

यदि आप ट्रेंड ट्रेडिंग की मूल बातें सीखने के इच्छुक हैं, तो “ट्रेंड ट्रेडिंग के लिए शुरुआती गाइड” पढ़ें।

एक ट्रेंड का ट्रेड कैसे करें

ट्रेंड रिवर्सल के बारे में जानने से पहले, प्राइस मूवमेंट के प्रमुख चरणों की व्याख्या करना उचित है। इस लेख में, करेंसी, स्टॉक, कमोडिटी और क्रिप्टोकरेंसी सहित प्रमुख वित्तीय बाजारों के लिए ट्रेंड पर ध्यान दिया गया है।

प्राइस मूवमेंट को चार चरणों में विभाजित किया जा सकता है।

चरण 1 – कन्सालिडेशन

इस चरण के दौरान, बाजार साइडवेज़ में चलता है ताकि कीमतों में उतार-चढ़ाव कम हो। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि मार्केट निर्माता को यह परिभाषित करने के लिए एक ब्रेक की आवश्यकता होती है कि बाजार की स्थिति ट्रेंड रिवर्सल या ट्रेंड निरंतरता किस के लिए अनुकूल है। जब कीमत एक संकीर्ण सीमा के भीतर चलती है तो ट्रेडिंग करने के लिए, आपको पता होना चाहिए कि एक मजबूत ट्रेंड के भीतर बाजार के रिवर्सल और ब्रेकआउट को कैसे परिभाषित किया जाए।

चरण 2 – अपट्रेंड (बुलिश ट्रेंड)

दूसरे चरण के दौरान, कीमत एक अपट्रेंड के भीतर चलती है, जिससे उच्च ऊंचाव और उच्च गिराव बनता है। एक अपट्रेंड के भीतर, ट्रेडर लॉन्ग (बाय) पोजीशन खोलते हैं। ट्रेंड की दिशा में गिरावट और ब्रेकआउट पर ट्रेड करना संभव है।

चरण 3 – शीर्ष (टॉप)

अधिकतर, जब कीमत शीर्ष पर पहुंचती है, तो एक दिन के भीतर अस्थिरता की डिग्री बढ़ जाती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ट्रेंड समाप्त होने वाला होता है। कुछ बाजार निर्माता अभी भी मानते हैं कि ट्रेंड जारी रह सकता है, जबकि अन्य डाउनट्रेंड की शुरुआत में बाजार में प्रवेश करने का प्रयास करते हैं।

आगामी मूल्य दिशा पर बाजार की अनिश्चितताओं के कारण, परिसंपत्ति एक संकीर्ण सीमा (कन्सालिडेटिंग) के भीतर चली जाएगी।

चरण 4 – डाउनट्रेंड (मंदी की प्रवृत्ति, बियरिश ट्रेंड)

यदि बाजार निर्माताओं के पास कीमत बढ़ाने की शक्ति नहीं है, तो बाजार नीचे गिर जाएगा। जब कीमत कम अधिकतम और न्यूनतम बनाती है, तो यह एक डाउनट्रेंड है। एक डाउनट्रेंड के भीतर, ट्रेडर शॉर्ट (सेल) पोजीशन खोलते हैं। उच्च या ब्रेकआउट पर ट्रेड करना संभव है।

जैसा कि आप चित्र में देख सकते हैं, चौथे चरण के बाद पहला चरण आता है। इसका मतलब है कि बाजार चक्रीय है। यह लेख पहले और तीसरे चरण पर ध्यान केंद्रित करेगा, क्योंकि वे एक ट्रेंड के रिवर्सल का संकेत देते हैं।

आपका उद्देश्य यह परिभाषित करना है कि क्या बाजार एक मजबूत ट्रेंड के भीतर कन्सालिडेट होता है या यह एक ट्रेंड रिवर्सल है। सोच रहे हैं कि किसी ट्रेंड के अंत की पहचान कैसे करें? पढ़ते रहिये।

चार्ट पैटर्न

पहला विकल्प रिवर्सल चार्ट पैटर्न ढूंढना है। कई पैटर्न हैं, और उन्हें तीन समूहों में विभाजित किया गया है: कन्टिन्यूऐशन, रिवर्सल और बाइलैटरल, जिनमें से उत्तरार्द्ध दोनों पूर्व प्रकारों के संकेतों को जोड़ता है। जब आप ट्रेंड रिवर्सल चाहते हैं, तो बाइलैटरल पैटर्न का उपयोग करने की अनुशंसा नहीं की जाती है।

नीचे, आप प्रमुख रिवर्सल पैटर्न के बारे में जान सकते हैं।

1. हेड एंड शोल्डरस /उलटा हेड एंड शोल्डरस और डबल/ट्रिपल टॉप और बॉटम 

ये अलग-अलग पैटर्न हैं, लेकिन इनके सामान्य नियम हैं।

  • हेड एंड शोल्डरस और डबल/ट्रिपल टॉप मंदी के पैटर्न (बियरिश) हैं। वे तेजी के ट्रेंड (बुल्लिश) के अंत में बनते हैं। आपको शीर्षों के बीच एक ट्रॉफ (ट्रिपल टॉप में ट्रॉफ) के माध्यम से एक रेखा (नैकलाइन) खींचनी होगी। यदि मूल्य रेखा से नीचे ब्रेक होता है, तो आप एक विक्रय ट्रेड खोल सकते हैं।
  • उलटा हेड एंड शोल्डरस और डबल/ट्रिपल बॉटम तेजी के पैटर्न (बुल्लिश) हैं जो एक डाउनट्रेंड के अंत में होते हैं। यहां, आपको लो के बीच एक पिक (ट्रिपल बॉटम में पिक्स) के माध्यम से एक नेकलाइन बनानी चाहिए। जब कीमत नेकलाइन के ऊपर ब्रेक होती है, तो आप खरीद की स्थिति खोल सकते हैं।

टेक-प्रॉफिट ऑर्डर को नेकलाइन और पैटर्न के उच्चतम/निम्नतम बिंदुओं के बीच की दूरी के बराबर होना चाहिए।

2. बढ़ती और गिरती वेज

बढ़ती वेज तेजी की प्रवृत्ति के अंत में होती है जब कीमत में गिरावट आने वाली होती है। एक डाउनट्रेंड के अंत में एक गिरती हुई वेज होती है, जो मूल्य वृद्धि का संकेत देती है।

टेक-प्रॉफिट लक्ष्य पैटर्न के पहले उच्च और निम्न के बीच की दूरी के बराबर है।

तकनीकी संकेतक

तकनीकी संकेतक ट्रेंड रिवर्सल को निर्धारित करने का एक और तरीका है। नीचे, सबसे लोकप्रिय टूल्स के बारे में बताया गया है।

1. मूविंग एवरेज 

ट्रेंड रिवर्सल को परिभाषित करने का सबसे प्रभावी तरीका दो अलग-अलग अवधियों की मूविंग एवरेज को साथ जोड़ना है। जब एक छोटी अवधि वाला मूविंग एवरेज नीचे से ऊपर तक दूसरे मूविंग एवरेज को पार करता है, तो यह एक सुनहरा क्रॉस पैटर्न होता है जो ऊपर की ओर गति का संकेत देता है। यदि छोटा मूविंग एवरेज लंबे मूविंग एवरेज से नीचे आता है, तो यह एक डेथ क्रॉस पैटर्न है जो नीचे की ओर गति की भविष्यवाणी करता है।

2. स्टोकेस्टिक और आरएसआई

स्टोकेस्टिक और रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स ऑसिलेटर्स समान संकेत प्रदान करते हैं। यदि वे ओवर्बॉट क्षेत्र में प्रवेश करते हैं, तो यह एक संकेत है कि बाजार जल्द ही रिवर्स हो जाएगा। रिवर्सल तब होता है जब संकेतक ओवर्बॉट क्षेत्र को छोड़ देते हैं। जब ऑसिलेटर्स ओवरसोल्ड क्षेत्र में होते हैं, तो कीमत जल्द ही बढ़ सकती है। एंट्री सिग्नल तब मिलता है जब संकेतक ओवरसोल्ड क्षेत्र छोड़ देते हैं।

3. पैरबालिक एसएआर 

पैरबालिक एसएआर एक ट्रेंड रिवर्सल की पुष्टि करता है। जब संकेतक कीमत के ऊपर तीन बिंदु बनाता है, तो यह एक मंदी की प्रवृत्ति का संकेत है। जब एक अपट्रेंड लागू होता है तो मूल्य के नीचे तीन बिंदु होते हैं।

4. बोलिंगर बैंड

बोलिंगर बैंड संकेतक में तीन लाइनें होती हैं जो मूल्य क्रियाओं पर प्रतिक्रिया करती हैं। जब रेखाएं अपट्रेंड के शीर्ष के पास एक-दूसरे के करीब आती हैं, तो यह एक रिवर्सल डाउन का संकेत है। इसके विपरीत, जब बैंड नीचे की ओर संकीर्ण होते हैं, डाउनट्रेंड के लो के पास, आप एक अपट्रेंड के गठन की उम्मीद कर सकते हैं।

ट्रेंड की शुरुआत में बैंड अलग हो जाते हैं।

कैंडलस्टिक पैटर्न

ट्रेंड रिवर्सल की भविष्यवाणी करने के लिए आप कैंडलस्टिक पैटर्न का भी उपयोग कर सकते हैं। आपको हेड एंड शोल्डरस और डबल टॉप जैसे जटिल पैटर्न बनाने के लिए कीमत की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं है। इन पैटर्न में एक, दो या तीन कैंडलस्टिक्स होते हैं।

सबसे लोकप्रिय बुलिश कैंडल्स हैमर, मॉर्निंग स्टार और थ्री वाइट सोल्जरस हैं। यदि आप डाउनट्रेंड चाहते हैं, तो शूटिंग स्टार, इवनिंग स्टार और थ्री ब्लैक क्रो पैटर्न देखें।

धीमा होता हुआ मोमेंटम (गति) 

आप प्राइस एक्शन की गति पर ध्यान करके भी ट्रेंड में रिवर्सल को परिभाषित कर सकते हैं।

एक ट्रेंड की शुरुआत में मूल्य में महत्वपूर्ण उतार-चढ़ाव होते हैं। कैंडल्स बड़ी होनी चाहिए। ट्रेंड के अंत तक, मूल्य अस्थिरता का स्तर आमतौर पर कम हो जाता है। कैंडलस्टिक्स छोटा होना शुरू हो जाते हैं।

आप वॉल्यूम संकेतकों का उपयोग कर सकते हैं जो मूल्य क्रियाओं की ताकत को दर्शाते हैं। मूल संकेतक वॉल्यूम है।

अंतिम विचार

ट्रेंड रिवर्सल की पुष्टि करने के कई तरीके हैं। याद रखें कि कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस एप्रोच का उपयोग करते हैं, आपको हमेशा संकेतकों के साथ पैटर्न को जोड़कर सिग्नल्स की पुष्टि करनी चाहिए और इसके विपरीत भी। अन्यथा, आप नकली संकेतों के जोखिम को बढ़ाते हैं।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
5 मिनट
फ्लैट ट्रेडिंग आधार: ओसिलेटर
4 मिनट
नकारात्मक वॉल्यूम इंडेक्स (NVI) संकेतक का उपयोग कैसे करें
4 मिनट
डे ट्रेडिंग के लिए 3 बेस्ट इंडीकेटर्स
5 मिनट
स्टॉक खरीदने के लिए मूविंग एवरेज का उपयोग कैसे करें
4 मिनट
प्रत्येक शुरुआती ट्रेडर के लिए शीर्ष 5 ट्रेडिंग संकेतक (इंडीकेटर्स)
5 मिनट
मूल प्रवृत्ति संकेतक: एमए (मूविंग एवरेज) क्या है?