अपनी ट्रेडिंग भावनाओं को प्रबंधित करने और लाभ प्राप्त करने के लिए 9 टिप्स

ट्रेडिंग करते समय आपके द्वारा लिए गए निर्णयों को ट्रेडिंग भावनाएं गंभीरता से प्रभावित कर सकती हैं। आप किसी नुकसान पर किस तरह से प्रतिक्रिया करते हैं, वह आपके अगले कदम उठाने के तरीके पर बहुत बड़ा प्रभाव डाल सकता है। यदि आप सोच रहे हैं कि ट्रेडिंग भावनाओं को कैसे नियंत्रित किया जाए, तो आप सही जगह पर आए हैं। एक नज़र डालें और देखें कि क्या हमारा लेख मदद करता है।

ट्रेडिंग भावनाएँ और मनोविज्ञान ट्रेडों को कैसे प्रभावित करते हैं?

आइए इस सवाल से शुरू करें कि ‘भावनात्मक ट्रेडिंग क्या है?’ नौसिखिया ट्रेडर्स को ट्रेड शुरू करने से पहले एक योजना बनाने के बारे में पता नहीं होगा। इसलिए, वे यह सोचकर इसमें जाते हैं कि उनका अंतर्ज्ञान पर्याप्त है, लेकिन ट्रेडिंग अंतर्ज्ञान के बारे में बिल्कुल नहीं है।

नए लोगों के लिए ऑप्शन ट्रेडिंग

ट्रेडिंग एक व्यवसाय है और प्रत्येक व्यवसाय के लिए एक रणनीति की आवश्यकता होती है। ट्रेडिंग भावनाओं से निपटने का तरीका जानने के लिए, आपको यह सीखना होगा कि हर स्थिति से निपटने के लिए आप किस तरह की रणनीति अपना सकते हैं।

ट्रेडर्स द्वारा अनुभव की जाने वाली भावनाएं कैसी होती है 

लालच एकमात्र सबसे खराब भावना है जो ट्रेडर्स में होती है और जो  उन्हें नीचे ले जा सकती है। यहां तक ​​​​कि अगर आप जोखिम प्रबंधन करने में अच्छे हैं, तो लालच आपको अपने स्टॉप पर टिके रहने के बजाय अधिक ट्रेड करने के लिए प्रेरित कर सकता है।

उत्साह, व्यग्रता और आत्मविश्वास कुछ अन्य भावनाओं में से हैं जो ट्रेडर्स को विशेष रूप से रोचक ट्रेड्स के दौरान महसूस हो सकती हैं।

7 व्यापारिक मिथक जो आपको शायद लगता है कि सच हैं
ट्रेडिंग के बारे में मिथकों को दूर करने का समय आ गया है! इनमें से कुछ मिथक सच के इतने ज़्यादा करीब हैं कि आप कभी भी अनुमान नहीं लगा पाओगे कि यह केवल मशहूर गलत धारणाएँ हैं।
अधिक पढ़ें

अपनी भावनाओं को काबू में रखने के लिए 9 टिप्स

यहां कुछ बेहतरीन टिप्स दी गई हैं, जिनके साथ हम ट्रेड करते समय गंभीरता से ट्रेड करने में आपकी सहायता कर सकते हैं:

ओवरट्रेडिंग को पार करने में आपकी मदद करने के लिए 7 उपयोगी टिप्स
  1. अपेक्षाओं को प्रबंधित करें: जब आप पहली बार ट्रेडिंग में उतरते हैं, तो यह सोचने का कोई जरूरत नहीं है कि आपके द्वारा निवेश की जाने वाली प्रत्येक संपत्ति आपको चांद पर ले जाएगी। छोटा ट्रेड करें ताकि आप जितना कम धन का लाभ उठा सकें, आपके नुकसान की संभावना उतनी ही कम होगी।
  2. खर्च करने की सीमा निर्धारित करें: यदि आप घाटे में चल रहे हैं तो भावुक न हों। कुछ गलतियाँ करना जो नुकसान की ओर ले जाती हैं, ठीक होती हैं। लेकिन आपके पास एक निर्धारित बिंदु होना चाहिए जिस पर आप अपनी ट्रेडिंग भावनाओं को आप को रोकने के लिए कहने के बजाय खुद ही रुक जाएं।
  3. एक रणनीति बनाएं: बाजार में आने से पहले, अपने लिए एक रणनीति बनाएं और जैसे जैसे आप आगे बढ़ते हैं अपने जर्नल में नोट्स बनाएं। यह आपको बहुत सारी गलतियाँ करने से बचाएगा जो अगर आप ऐसे ही बाज़ार में बिना किसी रणनीति के प्रवेश कर गए तो हो सकती हैं।

बेशक, रणनीति कभी भी 100% प्रभावी नहीं होगी। लेकिन पहले ही रणनीति होने से आपके  ऐसी स्थिति का सामना करने पर अनावश्यक रूप से भावुक होने की आवश्यकता दूर हो जाती है जो आपके अनुकूल नहीं होती।

  1. कम प्रतिक्रियाशील बनें: यदि चीजें आपके अनुरूप नहीं होती हैं, तो क्रोध से प्रतिक्रिया करने से निस्संदेह आपको अधिक नुकसान उठाना पड़ेगा। आपका ध्यान एक कदम पीछे हटकर और एक नई और बेहतर रणनीति को फिर से स्थापित करके अपने नुकसान की भरपाई करने पर होना चाहिए।
  2. अपने ट्रेडों में विविधता लाएं: किसी ऐसे ट्रेड को जो आपके अनुकूल नहीं है इस उम्मीद के साथ होल्ड पर न रखें कि इससे आपको लाभ होगा। यदि आप शुरुआती नुकसान नहीं उठाते हैं, तो संभावना है कि आपको और भी बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है।

अपने ट्रेडों में विविधता लाने से नुकसान भी कम होता है। विविधीकरण जोखिम प्रबंधन के प्रमुख तत्वों में से एक है। यहां तक ​​​​कि अगर आप एक परिसंपत्ति वर्ग में ट्रेड कर रहे हैं, तो अपने पोर्टफोलियो को और अधिक संभावित लाभ के लिए विविध करने पर विचार करें।

  1. जरूरत पड़ने पर ब्रेक लें: हर कुछ घंटों में ब्रेक लें और अपने अगले एक्शन पर विचार करें। यह आपको उन ट्रेडों पर एक नया दृष्टिकोण देगा जिन्होंने पहले आपको हैरान किया था।
कैसे अधिक सुसंगत व्यापार परिणाम प्राप्त करने के लिए पर 7 युक्तियाँ
  1. जो पैसा आपके पास नहीं है उस पर ट्रेडिंग न करें: इस पूरे लेख में यह एकमात्र सबसे टिप है। ट्रेडिंग एक अस्थिर व्यवसाय है और यदि आपके पास कोई ठोस योजना नहीं है, तो इस बात की बहुत अच्छी संभावना है कि चीजें आपके अनुसार नहीं होंगी। यदि आप आपकी ट्रेडिंग  भावनाओं में बह कर, एक घर या कार खरीदने के लिए बचाए गए धन से ट्रेड करना शुरू करते हैं, तो यदि आप एक गलती करते हैं तो आप इन सारे फंड्स को खो सकते हैं।
  2. घबराएं नहीं: अपने दिमाग को रिलैक्स करें और अपनी रणनीति पर विचार करें। यदि आप नुकसान के बाद घबराते हैं, तो आप स्वतः ही अनिश्चित निर्णय लेने लगते हैं जो अंततः नुकसान का कारण बनते हैं। इसके बजाय, नुकसान को एक्सेप्ट करें और अपनी रणनीति में सुधार करें तांकि वही बात दोबारा न हो।
  3. अपनी योजना पर टिके रहें: जैसा कि हमने पहले ही कहा, घबराने से अनिश्चित निर्णय और गलतियाँ होती हैं। यदि आपने पहले से कोई रणनीति बनाई है, तो उस पर टिके रहें और जरूरत पड़ने पर ही बदलाव करें।

जब आप अपनी योजना बनाते हैं, तो हर संभावित परिणाम जिसके बारे में आप सोच सकते हैं, उसके लिए योजना बनाना सुनिश्चित करें। इससे आपको ट्रेडिंग करते समय अपनी भावनाओं को शामिल करने की आवश्यकता कम हो जाएगी क्योंकि आपके पास पहले से ही निर्देश होगा कि क्या करना है।

समापन

जब आप ट्रेड करते हैं, तो अपनी भावनाओं को प्रबंधित करना कहने में बहुत आसान है पर करने में उतना नहीं। किसी संपत्ति में निवेश करने के लिए आपको अपनी भावनाओं के बारे में कुछ संकेत देने की आवश्यकता होती है। लेकिन उन भावनाओं में खुद को बहाए बिना संपत्ति में लाभ प्राप्त करने में सक्षम होना एक अच्छा ट्रेडर होने की कुंजी है।

+1 लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
6 मिनट
नौसिखिया व्यापारियों के लिए 9 युक्तियाँ
3 मिनट
भविष्य के निवेशकों के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ सुझाव
4 मिनट
प्रॉफिट और लॉस ट्रेडिंग से बचने के लिए 7 टिप्स
5 मिनट
पहले दिन अपनी जमा राशि को न खोने के 7 तरीके
4 मिनट
ट्रेडिंग करते समय तनाव कम करने के 6 उपयोगी टिप्स
4 मिनट
निश्चित समय ट्रेडों के लिए 10 उपयोगी युक्तियाँ व्यापारियों

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें