7 फोरेक्स ट्रेडिंग टिप्स जिनका आप तुरंत उपयोग कर सकते हैं

शुरुआती लोगों के लिए लगभग हर लेख में सुझाव शामिल हैं जैसे ब्रोकर को बुद्धिमानी से चुनना, डेमो अकाउंट पर रणनीतियों का परीक्षण करना, ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म की जांच करना आदि। इस लेख में, आपको बुनियादी टिप्स नहीं मिलेंगे। फोरेक्स एक विशाल बाजार है जिसमें अनूठी विशेषताएं हैं। 2022 में इस पर औसतन 6.6 ट्रिलियन डॉलर का कारोबार हुआ है।

यह लेख आपके पहले ट्रेडों के संबंध में शीर्ष अनुशंसाओं पर ध्यान केंद्रित करेगा जो गलतियाँ करने के जोखिम को कम करेगा। सबसे प्रभावी फोरेक्स ट्रेडिंग टिप्स और रणनीतियाँ को जानने के लिए पढ़ें।

1. लॉन्ग- रेंजिंग बाज़ारों का चुनाव करें 

बाजार की दो स्थितियां होती हैं- या तो यह ट्रेंड करती है या साइडवेज़ चलती है। ये चरण बदलते रहते हैं। इसलिए, एक स्ट्रोंग ब्रेकआउट जल्द ही होगा जब आप लंबे समय तक एक संकीर्ण रेंज के भीतर प्राइस को आगे बढ़ते हुए देखेंगे। सबसे कठिन काम यह निर्धारित करना है कि क्या अवधि लंबी है या यदि साइडवेज़ मूवमेंट अभी शुरू हुआ है। ट्रेंड्स और साइडवेज़ मूवमेंट की लंबाई टाइम फ्रेम (समय सीमा) पर निर्भर करती है। आपको जांचना चाहिए कि कीमत पहले कैसे चल रही थी। कन्सालिडेशन के दौरान बनने वाली कैंडलस्टिक्स की औसत संख्या को परिभाषित करें और अगर कीमत ब्रेकआउट के करीब है तो एक्शन लेने के लिए तैयार रहें।

2. रिज़िस्टन्स में हाईर लो और सपोर्ट में लोअर हाई

क्या आपने ट्राइऐंगगल पैटर्न सीखे हैं? यदि नहीं, तो इस लेख को पढ़ने के बाद आपको यह सीखने चाहिए। असेन्डिंग और डिसेन्डिंग ट्राइऐंगगल होते हैं। पहला संकेत देता है कि अपट्रेंड जारी रहेगा। दूसरा डाउनट्रेंड की निरंतरता को दर्शाता है।

जैसा कि आप देख सकते हैं, कीमत ऊपर की ओर ब्रेकआउट के पास हाईर लो और नीचे की ओर ब्रेकआउट के पास लोअर हाई बनाती है। विचार सरल है: सॉलिड अपट्रेंड में बियर अपनी शक्ति खो देते हैं, जबकि बैल कीमत को बढ़ाने के लिए पर्याप्त मजबूत नहीं होते हैं। ऐसी बाजार स्थितियों को निर्धारित करने का सबसे आसान तरीका ट्रेंडलाइन का उपयोग करना है। वे कीमतों में उतार-चढ़ाव की रूपरेखा तैयार करेंगे।

3. पेंडिंग ऑर्डर्स 

पेंडिंग ऑर्डर्स तब सेट किए जाते हैं जब कीमत एक निश्चित स्तर तक नहीं पहुंची है, लेकिन एक ट्रेडर के पास इंतजार करने का समय नहीं होता है। पेंडिंग ऑर्डर्स चार प्रकार के हैं। सेल लिमिट का उपयोग तब किया जाता है जब कीमत बढ़ने की उम्मीद होती है लेकिन एक निश्चित स्तर से उलट जाती है। बाइ लिमिट आर्डर इसके विपरीत है। ट्रेडर्स इसे तब प्लेस करते हैं जब वे एक पूर्व निर्धारित स्तर पर पहुंचने के बाद कीमत गिरने और उलट होने की उम्मीद करते हैं। यदि आप ब्रेकआउट पर ट्रेड करना चाहते हैं, तो आप बाइ और सेल स्टॉप ऑर्डर प्लेस कर सकते हैं।

4. टेस्ट ओवरनाइट ट्रेडिंग

फोरेक्स अन्य बाजारों की तुलना में कम अस्थिर है। इसलिए, कई मामलों में, ट्रेडर कम से कम कई दिनों के लिए अपने पोजीशन को खुला रखना पसंद करते हैं। ओवरनाइट ट्रेडिंग की  अनूठी विशेषताएं होती हैं जिन पर समय से पहले विचार किया जाना चाहिए।

सबसे पहले, यदि कोई महत्वपूर्ण घटना अगले दिन होने वाली है तो आपको ट्रेडों को ओपन नहीं रखना चाहिए-उदाहरण के लिए, एक आर्थिक रिलीज या एक राजनीतिक घटना। दूसरा, रोलओवर शुल्क है। इसकी गणना ब्रोकर द्वारा स्वचालित रूप से की जाती है और इसे ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर प्रदर्शित किया जाता है। शुल्क आपके द्वारा ट्रेड किए जाने वाले इंस्ट्रूमेंट की ब्याज दरों पर निर्भर करता है। राशि को आपके खाते से जोड़ा और लिया जा सकता है।

5. अच्छा दृष्टिकोण विकसित करें

अच्छा दृष्टिकोण या रवैया रखना शुरुआती लोगों के लिए महत्वपूर्ण फोरेक्स ट्रेडिंग टिप्स में से एक है। हालांकि इसका लगातार उल्लेख किया जाता है, नुकसान के प्रति अपने दृष्टिकोण को समायोजित करना महत्वपूर्ण है क्योंकि किसी भी वित्तीय गतिविधि में जोखिम होता है। ट्रेडिंग को गंभीर गतिविधि के रूप में देखने की अनुशंसा की जाती है। हालांकि, संभावित नुकसान के प्रति आपका रवैया अच्छा और स्ट्रोंग होना चाहिए। अपने ट्रेडिंग बजट के बारे में वैसे सोचें जैसे आप छुट्टी के दौरान खर्च करते हैं। आप जानते हैं कि आप संतोषजनक चीजों के लिए भुगतान करेंगे, और जब छुट्टी खत्म हो जाएगी, तो आपको इसका पछतावा नहीं होगा। यदि आप रिटर्न पर ध्यान केंद्रित करते हैं और अपने हर छोटे नुकसान की गणना नहीं करते हैं, तो आप तेजी से आगे बढ़ेंगे।

6. शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग से बचें

डे ट्रेडिंग बुनियादी एप्रोच में से एक है और इसमें विभिन्न रणनीतियाँ शामिल हैं। हालांकि, इसके लिए बहुत सारे अनुभव की आवश्यकता होती है क्योंकि ट्रेडर लगातार बाजार की निगरानी करते हैं, सही एंट्री और एग्जिट पॉइंट्स जल्दी से ढूंढते हैं, और संभावित रिटर्न और नुकसान को समय से पहले मापते हैं। इसलिए, शुरुआती लोगों के लिए फोरेक्स ट्रेडिंग पर एक और टिप शोर्ट- टर्म ट्रेड्स से बचने का है जब तक कि आप सुनिश्चित न हों कि आप भारी कीमतों में उतार-चढ़ाव को संभाल सकते हैं। इस ट्रेडिंग मेथड में अनुभव प्राप्त करने के लिए व्यापक गाइड पढ़ें।

7. जोखिम/इनाम अनुपात

यह नौसिखियों और अनुभवी ट्रेडर्स के लिए एक फोरेक्स ट्रेडिंग टिप है। संभावित रिटर्न के खिलाफ जोखिमों की गणना करना आवश्यक है। यदि आप बेतरतीब ढंग से ऑर्डर प्लेस करते हैं, तो आप सुनिश्चित नहीं हो सकते कि आप मार्जिन कॉल को पूरा कर पाएँगे या नहीं। शुरुआती लोगों के लिए 1:3 एक उचित जोखिम/इनाम अनुपात है, जबकि प्रोफेशनल्स  के लिए 1:2 एक अच्छा अनुपात है। 1:2 अनुपात का एक उदाहरण—यदि आप प्रति ट्रेड $400 प्राप्त करने की अपेक्षा करते हैं, तो आपको $200 से अधिक का जोखिम नहीं उठाना चाहिए। 1:3 अनुपात के साथ, यदि आप प्रति ट्रेड $600 प्राप्त करने की अपेक्षा करते हैं, तो आपको $200 से अधिक का जोखिम नहीं उठाना चाहिए।

अंतिम विचार

ये आज के लिए शीर्ष फोरेक्स ट्रेडिंग टिप्स हैं। यदि आप उन्हें शुरुआत में लागू करते हैं, तो आप भविष्य के ट्रेडों में होने वाली कई गलतियों को रोक सकते हैं। इनमें से अधिकतर अनुशंसाएं अन्य बाजारों पर भी लागू की जा सकती हैं।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
Link copied
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
हर बाजार में विश्वास के साथ व्यापार करने के लिए 6 उपयोगी युक्तियाँ
4 मिनट
निश्चित समय ट्रेडों के लिए 10 उपयोगी युक्तियाँ व्यापारियों
5 मिनट
पहले दिन अपनी जमा राशि को न खोने के 7 तरीके
5 मिनट
ओवरट्रेडिंग को पार करने में आपकी मदद करने के लिए 7 उपयोगी टिप्स
6 मिनट
नौसिखिया व्यापारियों के लिए 9 युक्तियाँ
4 मिनट
ट्रेडिंग करते समय तनाव कम करने के 6 उपयोगी टिप्स