Blockchain क्या है, और यह कैसे काम करता है

आज हर इण्डस्ट्री तकनीक का अधिकतम लाभ उठाने की कोशिश कर रही है। जब एक सुरक्षित और कुशल डेटाबेस की बात आती है, तो सबसे पहले blockchain तकनीक दिमाग में आती है। तो आइए जानें कि blockchain तकनीक क्या है और इसके क्या फायदे हैं।

Blockchain तकनीक की परिभाषा

विकिपीडिया के अनुसार, blockchain तकनीक कुछ नियमों के अनुसार निर्मित जानकारी वाले ब्लॉक्स की एक निरंतर अनुक्रमिक श्रृंखला है। मूल रूप से, यह एक नवीन प्रकार का डिजिटल बहीखाता है। Blockchain तकनीक डेटा को सुरक्षित रूप से रिकॉर्ड करने, वितरित करने और प्रबंधित करने में मदद करती है, जिससे पहले से संग्रहीत जानकारी को बदलना या हटाना मुश्किल हो जाता है।

Blockchain क्या है, और यह कैसे काम करता है

जब क्रिप्टोकरेंसी की बात आती है तो पर्दे के पीछे blockchain तकनीक होती है। यह डेटा रिकॉर्डिंग की सटीकता और सुरक्षा की गारंटी देता है और इसे किसी तीसरे पक्ष द्वारा नियंत्रित करने की आवश्यकता नहीं है। Blockchain एक डिजिटल प्रारूप में इलेक्ट्रॉनिक रूप से जानकारी संग्रहीत करता है और Bitcoin जैसी क्रिप्टोकरेंसी में लेनदेन का विकेन्द्रीकृत (डीसेंट्रलाइज़्ड) रिकॉर्ड प्रदान करने के लिए आवश्यक है।

दि आप blockchain के इतिहास को देखते हैं, तो पता चलता है यह शब्द पहली बार Bitcoin सिस्टम में लागू किए गए पूरी तरह से दोहराए गए वितरित डेटाबेस के नाम के रूप में सामने आया था।

Blockchain का आविष्कार किसने किया?

1991 में, भौतिक विज्ञानी Scott Stornetta और गणितज्ञ Stuart Haber ने blockchain का आविष्कार किया था। उन्होंने blockchain तकनीक को ऐसे सॉफ्टवेयर प्रोटोकॉल के रूप में समझाया जो कई पार्टियों को एक दूसरे पर भरोसा किए बिना साझा मान्यताओं और डेटा के आधार पर काम करने की अनुमति देता है।

कितने blockchains हैं?

आज, कई सौ बिना क्रिप्टोकरेंसी वाले blockchains हैं और 10,000 से अधिक blockchain-आधारित क्रिप्टोकरेंसियाँ हैं। इसकी लोकप्रियता ज्यादा है।

Blockchain कैसे काम करता है?

सीधे शब्दों में कहें, तो blockchain एक डिजिटल रिकॉर्ड है, जिसका उपयोग क्रिप्टोकरेंसियाँ अपने संचालन के लिए करती हैं। Bitcoin और Ethereum न केवल लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसियाँ हैं, बल्कि blockchains के सबसे प्रसिद्ध उदाहरण भी हैं।

क्रिप्टो कैसे काम करता है? यह सरल है, blockchain तकनीक पर आधारित है।

Blockсhain का अर्थ

Blockchain जानकारी संग्रहीत करने के तरीके में, एक नियमित डेटाबेस से अलग है। डेटा को ब्लॉक्स के रूप में संग्रहीत किया जाता है, जिन्हें बाद में क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करके लिंक कर दिया जाता है।

Blockchain क्या है, और यह कैसे काम करता है

तो, blockchain तकनीक में एक ब्लॉक जानकारी की एक लिंक्ड सूची है। प्रत्येक ब्लॉक में उसका हैश सम और पिछले ब्लॉक का हैश सम होता है। यदि ब्लॉक में जानकारी बदलती है, तो हैश सम भी बदलता है।

लेनदेन प्रक्रिया

जब भी कोई लेनदेन का अनुरोध करता है, तो blockchain के सभी मौजूदा नोड्स इसे मान्य करते हैं। एक बार सत्यापित होने के बाद, वह लेनदेन एक नए ब्लॉक के रूप में मौजूदा श्रृंखला का हिस्सा बन जाता है।

Blockchain का उपयोग करते हुए लेनदेन की मूल प्रक्रिया इस प्रकार है:

  1. एक नया लेनदेन दर्ज किया जाता है।
  2. फिर इसे दुनिया भर में बिखरे हुए पीयर-टू-पीयर कंप्यूटरों के नेटवर्क में प्रेषित किया जाता है।
  3. कंप्यूटरों का एक नेटवर्क लेनदेन को मान्य करने के लिए एक समीकरण को हल करता है।
  4. लेनदेन पूरा हो जाता है। 
  5. ये ब्लॉक्स सभी लेनदेन का एक लंबा इतिहास बनाते हुए एक साथ एक चेन से बंधे होते हैं।
  6. लेनदेन की वैधता की पुष्टि के बाद, उन्हें एक ब्लॉक में जोड़ दिया जाता है।

सत्यापन प्रक्रिया blockchain को सुरक्षित बनाती है, क्योंकि सभी नए लेनदेनों की वैधता सत्यापित की जाती है। इसके अलावा, श्रृंखला में एक नया ब्लॉक जोड़ना स्थायी और अपरिवर्तनीय है।

क्रिप्टोकरेंसी की विशेषताएँ 

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज का एक वर्चुअल माध्यम है जिसका कोई आंतरिक मूल्य या भौतिक रूप नहीं है। और क्योंकि यह भौतिक रूप से मौजूद नहीं है, इसकी सप्लाई किसी भी वैश्विक केंद्रीय बैंक द्वारा नियंत्रित नहीं है।

Blockchain क्या है, और यह कैसे काम करता है

Blockchain तकनीक के प्राथमिक उपयोगों में से एक क्रिप्टोकरेंसी का प्रबंधन है। इसके एन्क्रिप्शन के तरीके Bitcoin जैसी क्रिप्टोकरेंसियों के लिए मुद्रा-संबंधी इकाइयों के निर्माण और सत्यापन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

Blockchains का उपयोग मुख्य रूप से क्रिप्टोकरेंसी के लेनदेन के इतिहास को संग्रहीत करने के लिए किया जाता है। लेकिन वे कानूनी अनुबंधों या कंपनी की उत्पाद सूची को भी स्टोर कर सकते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी की विशेषताएँ उसके विकेन्द्रीकृत नेटवर्क के अधिकांश सदस्यों द्वारा निर्धारित की जाती हैं, किसी केंद्रीय बैंक द्वारा नहीं।

Blockchain विकेंद्रीकरण

Blockchain की मूल अवधारणा क्या है? यह इस तथ्य में निहित है कि यह डेटा का एक इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड है जो किसी व्यक्ति या संगठन से संबंधित नहीं है।

क्योंकि यह तकनीक डिजिटल है, तो इसमें भौतिक डेटाबेस के जैसे सभी blockchain नोड्स एक स्थान पर मौजूद नहीं होते, जिसके परिणामस्वरूप डेटा विकेंद्रीकरण होता है। विकेंद्रीकरण पूर्वाग्रह की संभावना को हटाकर सभी नोड्स के बीच एक समान नियंत्रण वितरण सुनिश्चित करता है।

अपनी ट्रेडिंग शक्ति की जाँच करें!
ट्रेडिंग के अपने ज्ञान की जाँच करने के लिए हमारा क्विज़ लें। अगर आप Binomo प्लेटफॉर्म पर नए हैं – तो इसे पूरा करने के बाद बोनस पाएँ!
क्विज़ लें

पारदर्शिता

डेटा विकेंद्रीकरण के बावजूद, blockchain के लेनदेन पारदर्शी होते हैं क्योंकि प्रत्येक नए लेनदेन के लिए अधिकांश ब्लॉकों द्वारा सत्यापन की आवश्यकता होती है और उसे वास्तविक समय (रियल-टाइम) में आसानी से देखा जा सकता है। ज़्यादातर blockchain रिकॉर्डों के लिए एन्क्रिप्शन का उपयोग नियमित है, जिससे पारदर्शिता का त्याग किए बिना गुमनाम रहना संभव है।

Blockchain क्या है, और यह कैसे काम करता है

Blockchain पर संग्रहीत रिकॉर्ड एन्क्रिप्टेड होते हैं। केवल रिकॉर्डिंग का मालिक ही अपनी पहचान प्रकट करने के लिए इसे डिक्रिप्ट कर सकता है। इसलिए, blockchain उपयोगकर्ता गुमनाम रह सकते हैं लेकिन, वे पारदर्शी भी रहते हैं।

क्या Blockchain सुरक्षित है?

हमने अब यह स्थापित कर लिया है कि blockchain लेनदेन प्रसंस्करण के लिए एक कुशल डेटाबेस है। अब, क्योंकि कि यह डिजिटल है, तो यह इसकी सुरक्षा पर एक सवाल खड़ा करता है। Blockchain के विकेंद्रीकरण और पारदर्शिता दोनों इसे संभव बनाते हैं।

दो आवश्यक तत्व एक blockchain को सुरक्षित बनाते हैं। पहला, सभी मौजूदा ब्लॉकों द्वारा नए ब्लॉक का सत्यापन, और दूसरा, सभी नए जोड़े गए ब्लॉकों का कालानुक्रम।

नए ब्लॉक हमेशा रेखीय और कालानुक्रमिक रूप से सहेजे जाते हैं। इसलिए, वापस जाना और इनके अंशों को बदलना कठिन है।

प्रत्येक ब्लॉक में उसका हैश, पिछले ब्लॉक का हैश और टाइमस्टैम्प होता है। हैश कोड एक गणितीय फ़ंक्शन द्वारा बनाए जाते हैं जो डिजिटल जानकारी को संख्याओं और अक्षरों की एक स्ट्रिंग में बदल देता है। यदि आप इसे संपादित करेंगे, तो हैश कोड भी बदल जाएगा।

तो, यह पता चलता है कि ये दो महत्वपूर्ण तत्व blockchain को लेनदेन के लिए एक सुरक्षित माध्यम बनाते हैं।

Blockchain डेटा गोपनीयता का समर्थन कैसे करता है?

Blockchain उपयोगकर्ताओं को निजी और सार्वजनिक कीज के साथ अपने डेटा को नियंत्रित करने देता है। ऐसे डेटा के मालिक यह नियंत्रित करते हैं कि इसे कब और कैसे किसी तीसरे पक्ष के साथ साझा किया जाए।

Bitcoin के मुकाबले Blockchain

Blockchain क्या है, और यह कैसे काम करता है

Bitcoin और Blockchain अटूट रूप से जुड़े हुए हैं। हालाँकि, Blockchain का आविष्कार 1991 में Stuart Haber और W. Scott Stornetta द्वारा किया गया था, लेकिन इसे वास्तविक अवतार 2009 में Bitcoin (जो पारदर्शी रूप से भुगतान के एक बहीखाते को रिकॉर्ड करने के लिए Blockchain का उपयोग करता है) के लॉन्च के साथ ही मिला।

चाहे blockchain ने bitcoin से अपने जुड़ाव के साथ सफलता प्राप्त की है, मगर मुद्रा लेनदेन इसका एकमात्र कार्य नहीं है। Blockchain तकनीक के अद्वितीय गुण इसे सप्लाई चेन, स्वास्थ्य देखभाल, मतदान और रिकॉर्ड रखने सहित कई अन्य उपयोगों के लिए उपयुक्त बनाते हैं।

Blockchains का उपयोग कैसे किया जाता है?

क्योंकि blockchain एक इलेक्ट्रॉनिक डेटाबेस है, इसलिए यह तकनीक उन सभी चीजों के लिए साध्य है, जिनमें डेटा के स्टोरेज और ट्रांसफर की आवश्यकता होती है।

बैंकिंग और वित्त

Bitcoin की सफलता साबित करती है कि मुद्रा-संबंधी लेनदेन blockchain की विशेषता है; इसलिए, एक उद्योग जो आसानी से अपने व्यवसाय में blockchain को शामिल कर सकता है, वह है वित्तीय उद्योग। बैंकिंग में भी blockchain तकनीक का सक्रिय रूप से उपयोग किया जाता है। Blockchain का उपयोग बैंकिंग और वित्तीय संस्थानों के लिए लेनदेन के समय और लागत को काफी कम करता है और साथ ही लेनदेन की सुरक्षा और पारदर्शिता भी बढ़ाता है।

वित्तीय संस्थान 24 घंटे काम नहीं करते। Blockchain चौबीसों घंटे काम करता है।

स्वास्थ्य देखभाल

ब्लॉकचैन जैसे डिजिटल डेटाबेस का एक और संभावित उपयोग स्वास्थ्य सेवा में है। एन्क्रिप्शन मेडिकल रिकॉर्ड की गोपनीयता और सुरक्षा सुनिश्चित करेगा। डिजिटल संग्रह उन्हें आवश्यकता पड़ने पर नामित व्यक्तियों को देखने के लिए भी उपलब्ध कराएगा।

स्मार्ट अनुबंध

Blockchain क्या है, और यह कैसे काम करता है

Blockchain की डिजिटल प्रकृति अनुबंधों और समझौतों को स्वचालित करती है, जिन्हें स्मार्ट अनुबंध भी कहा जाता है। वे कंप्यूटर कोड के रूप में स्थापित समझौते हैं। अनुबंध स्वचालन उनकी शर्तों को लागू करता है – उदाहरण के लिए, दी गई इकाइयों का मूल्य प्राप्त करने के बाद bitcoin इकाइयों का स्वचालित रूप से रिलीज।

वोटिंग

Blockchain का उपयोग आधुनिक वोटिंग प्रणाली में भी हो सकता है, जिससे चुनावी धोखाधड़ी के जोखिम को काफी कम किया जा सकता है। प्रत्येक नागरिक के लिए एक अनोखा “हैश”, वोट में हेराफेरी को कम करने में मदद करेगा। विकेंद्रीकृत blockchain तकनीक के साथ स्वचालित रूप से आने वाली गति और सटीकता मानव संसाधनों को वोटों के प्रबंधन, गणना और इससे जुड़ी लागतों को कम करने में मदद करेगी।

निजी और सार्वजनिक blockchain के बीच क्या अंतर है?

सार्वजनिक blockchain एक ऐसा डेटाबेस है जिसमें कोई भी शामिल हो सकता है। ऐसे blockchain निजी नहीं होते और उन्हें क्रिप्टोग्राफी और एक आम सहमति प्रणाली द्वारा संरक्षित किया जाना चाहिए।

एक निजी blockchain में शामिल होने से पहले प्रत्येक नोड को अनुमोदित करने की आवश्यकता होती है। क्योंकि इन नोड्स को विश्वसनीय माना जाता है, इसलिए सुरक्षा स्तर उतने विश्वसनीय नहीं होते।

डेटा साझा करते समय blockchain तकनीक संगठनों की कैसे मदद करती है?

क्योंकि blockchain एक डेटाबेस सिस्टम है, इसलिए इसे संगठनों के काम में सुरक्षित रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है। Blockchain के साथ, संगठन वास्तविक समय (रियल-टाइम) में समान डेटा तक पहुँच साझा कर सकते हैं। साथ ही सुरक्षा और गोपनीयता से जुड़े जोखिम भी बहुत कम होते हैं।

निष्कर्ष

Blockchain क्या है, और यह कैसे काम करता है

हमने इस लेख में blockchain तकनीक, इसके फायदे और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में इसके काम करने की संभावनाओं का अध्ययन किया है। Blockchain डेटा को स्टोर और ट्रांसफर करने का एक सटीक, सुरक्षित और कुशल तरीका है। विकेंद्रीकरण धोखेबाजों से लेनदेन और किसी भी सरकार से नियंत्रण की रक्षा में मदद करता है। यही कारण है कि blockchain पूरी दुनिया में एक लोकप्रिय तकनीक है।

Blockchain के सार को समझने से यह समझने में मदद मिलती है कि क्रिप्टो कैसे काम करता है (जैसे की bitcoin) । यह आपको विभिन्न क्षेत्रों में इस तकनीक के उपयोगों की एक विस्तृत श्रृंखला देखने की अनुमति देता है: बैंकिंग, स्वास्थ्य देखभाल, आदि। लेकिन किसी भी अन्य तकनीक की तरह, blockchain मूल्यवान और कुशल है, लेकिन इसके उपयोग से पहले इस तकनीक को पूरी तरह से समझन आवश्यक है।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें