स्थायी पूँजी (फिक्स्ड कैपिटल)

वित्त पोषण और गृह अर्थशास्त्र ज्ञान की वे श्रेणियाँ हैं, जिनका ज्ञान हर किसी को होना चाहिए। विशेष रूप से वित्त और अर्थशास्त्र के छात्रों के लिए, स्थायी पूँजी जिसे अचल पूँजी भी कहा जाता है, एक महत्वपूर्ण संकल्पना है। यह आधुनिक वित्तीय प्रणालियों का एक अभिन्न अंग है। इस लेख में, हम स्थायी पूँजी और इसकी खपत, जिसे CFC के रूप में जाना जाता है और साथ ही वे अन्य चीज़ों जिनके बारे में एक आम आदमी और एक छात्र को जानना आवश्यक है पर चर्चा करेंगे।

स्थायी पूँजी क्या है?

स्टॉक में निवेश कैसे शुरू करें: एक शुरुआती गाइड

यदि हम एक वाक्य में उत्तर दें कि स्थिर पूँजी क्या है, तो यह ऐसी संपत्ति है जो किसी वस्तु या सेवा के उत्पादन के दौरान उपभोग या नष्ट नहीं होती है; यानी इसे बार-बार इस्तेमाल किया जा सकता है। तो अचल संपत्तियाँ क्या हैं? घर, अन्य इमारतें और संरचनाएँ, मशीने और उपकरण, औज़ार, कृषि जैविक संसाधन, और बौद्धिक संपदा की वस्तुएँ सभी अचल संपत्तियाँ हैं।

नोट! यदि आप सोच रहे हैं कि एक स्थायी पूँजी खाता क्या है, तो इस पर CBSE का हिंदी में, वीडियो व्याख्यान यहाँ देखें।

स्थायी पूँजी को समझना

ऐतिहासिक रूप से, स्थायी पूँजी का उपयोग किसी भी उत्पादन प्रक्रिया में समाप्त होने वाली पूँजी या संपत्ति को वर्गीकृत करने के लिए किया गया है। स्थायी पूँजी को समझने का सबसे आसान तरीका इसे कंपनी के कुल पूँजीगत व्यय के हिस्से के रूप में मानना है, जिसे कारखानों, कारों और मशीनरी जैसी भौतिक संपत्तियों को खरीदने के लिए आवंटित किया जाता है, जिसका कंपनी एक विस्तारित समय के लिए उपयोग करती है। एक स्थायी पूँजी को एक कंपनी द्वारा खरीदा और रखा जा सकता है या फिर एक लंबी अवधि के लिए पट्टे पर भी लिया जा सकता है।

स्थायी पूँजी और कार्यशील पूँजी में क्या अंतर है?

स्थायी पूँजी एक कंपनी को बनाने और संचालित करने (उदाहरण के लिए, एक कारखाना या उपकरण) के लिए उपयोग किए जाने वाले निवेश और संपत्तियाँ हैं।

कार्यशील पूँजी धन या अन्य तरल संपत्तियाँ हैं जिनका उपयोग व्यवसाय दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों के लिए करता है (उदाहरण के लिए, बिल या वेतन का भुगतान करने के लिए) ।

कार्यशील पूँजी जो निर्माण प्रक्रिया के दौरान किसी व्यवसाय द्वारा परिचालित या उपभोग की जाती है, समीकरण के विपरीत पक्ष में होती है। इसमें अन्य चीज़ों के अलावा श्रम, परिचालन लागत और कच्चे माल की आपूर्ति शामिल होती है।

डॉव जोन्स क्या है?

स्थायी पूँजी खत्म हो जाती है लेकिन, कई उत्पादन चक्रों के बाद। दूसरे शब्दों में, स्थायी और कार्यशील पूँजी के बीच मुख्य अंतर यह है कि स्थायी पूँजी का उपयोग एक लंबे समय तक धीरे-धीरे किया जाता है क्योंकि अचल संपत्तियों को उनका मूल्य खोने से पहले सालों या दशकों तक बनाए रखा जा सकता है। उसके उपयोगी जीवन के समाप्त होने से पहले, एक अचल संपत्ति को किसी भी समय बेचा और फिर से उपयोग किया जा सकता है; ऐसा अक्सर ऑटोमोबाइल और विमान के साथ होता है।

स्थायी पूँजी के उदाहरण

आइए एक भारतीय युवक किशोर की कल्पना करते हैं जिसने उधार पर एक भैंस और एक लकड़ी की गाड़ी खरीदी है। किशोर की स्थायी पूँजी क्या है? एक भैंस और एक लकड़ी की गाड़ी उसकी अचल संपत्तियाँ हैं। दूध बेचने और लकड़ी के ठेले पर सामान ढोने से जो पैसा वह कमाता है, उसमें से जीने का खर्च घटाकर जो बचती है, वह उसकी कार्यशील पूँजी बनती है।

एक और उदाहरण के रूप में, चलिए मिश्रीलाल पर विचार करें जो अपनी गुड़ बनाने की फैक्ट्री स्थापित करना चाहता है। मिश्रीलाल की स्थायी पूँजी क्या है? उसकी स्थायी पूँजी गन्ना पेराई की मशीन है, और उसकी कार्यशील पूँजी है गन्ना खरीदने और कोल्हू चलाने के लिए बिजली बिल का भुगतान करने में लगने वाले पैसे।

स्थायी पूँजी की आवश्यकताएँ 

किसी कंपनी को शुरू करने के लिए आवश्यक स्थायी पूँजी काफी हद तक परिस्थितियों के आधार पर भिन्न होती है, विशेष रूप से उद्योगों के बीच। कुछ कंपनियों को बड़ी मात्रा में स्थायी पूँजीगत संपत्ति की आवश्यकता होती है। औद्योगिक वस्तुओं के निर्माता, टेलीफोन कंपनियाँ और तेल अन्वेषण कंपनियाँ इसके कुछ विशिष्ट उदाहरण हैं।

Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!

लेखांकन व्यवसाय, कम स्थायी पूँजी की आवश्यकता वाले सेवा-आधारित उद्योगों के उदाहरण हैं। इनकी स्थायी पूँजी में कार्यस्थल, कंप्यूटर, नेटवर्किंग उपकरण और अन्य मानक कार्यालय सामग्री शामिल हो सकती है।

अचल संपत्ति में निवेश कैसे करें: 5 सुनहरे नियम

वस्तुएँ उत्पादित करने के लिए आवश्यक इन्वेंट्री यानी सामान तक पहुँच निर्माण उद्यमों के लिए अक्सर आसान होती है, स्थायी पूँजी प्राप्त करने के लिए पूँजी निकाली जा सकती है। नई उत्पादन सुविधाओं जैसे अधिक महत्वपूर्ण खर्चों के हेतु आवश्यक नकदी को जमा करने के लिए एक कंपनी को लंबे समय की आवश्यकता हो सकती है। यदि व्यवसाय वित्तपोषण का उपयोग करता है तो उपयुक्त ऋण प्राप्त करने में कुछ समय लग सकता है। मान लीजिए कि किसी कंपनी के पास अतिरेक नहीं है यानी उसने भविष्य को ध्यान में रखते हुए कुछ फंड्स जोड़ के नहीं रखे या अतिरिक्त उपकरण खरीदने की व्यवस्था नहीं की है और वह उपकरण की खराब होने की स्थिति का सामना करती है। तो ऐसे में उत्पादन कम होने से आर्थिक नुकसान का खतरा बढ़ सकता है।

10 संकेत जो दर्शाते हैं कि आप एक ट्रेडर के रूप में सफल होंगे
कई ट्रेडरों के पास कई कुदरती लक्षण होते हैं जो उन्हें सफल बनाते हैं। बाकी लोगों को उन पर काम करना पड़ता है। पता लगाएँ कि आपके पास कौन से हैं!
अधिक पढ़ें

स्थायी पूँजी का मूल्यह्रास

आमतौर पर, स्थायी पूँजी वाली संपत्तियाँ समान रूप से नहीं घटती, जैसा कि आय विवरणों में दर्शाया जाता है। जहाँ कुछ संपत्तियाँ जल्द ही मूल्य खो देती हैं, वही दूसरी ओर कुछ के पास काफी देर तक रहने की शक्ति होती है। उदाहरण के लिए, जब एक नई कार कानूनी तौर पर डीलरशिप से एक नए मालिक को स्थानांतरित की जाती है, उसी समय उसका मूल्य काफी कम हो जाता है। लेकिन, एक फर्म द्वारा रखी गई इमारतों में काफी धीमी गति से मूल्यह्रास होता है। मूल्यह्रास के दृष्टिकोण का उपयोग करके, निवेशकों को इस बात का एक सामान्य अंदाजा लग जाता है कि कंपनी के मौजूदा प्रदर्शन में स्थायी पूँजी निवेश कितना मूल्य जोड़ता है।

स्थायी पूँजी की तरलता

आम आदमी के शब्दों में, किसी भी संपत्ति की तरलता उसे नकदी में बदलने की क्षमता है। हालाँकि, स्थायी पूँजी अक्सर एक निश्चित स्तर के मूल्य को बरकरार रखती है, लेकिन इन संपत्तियों को विशेष रूप से तरल नहीं माना जाता। ऐसा इसलिए है क्योंकि कुछ चीज़ें, जैसे की निर्माण उपकरण, इनका बाजार छोटा होता है क्योंकि वे महंगे होती हैं या फिर उन्हें बेचने में लंबा समय लगता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

स्थाई पूँजी से संबंधित मुख्य बिंदुओं पर विचार करें।

उत्पादन प्रणाली में स्थायी पूँजी का क्या अर्थ है?

निवेश पर 5 बेहतरीन किताबें

किसी व्यवसाय द्वारा दीर्घकालीन सम्पत्तियों में किया गया निवेश स्थायी पूँजी कहलाता है। वे एक निश्चित समय पर उत्पादन उद्देश्यों के लिए उपलब्ध होती हैं और उनका उपयोग एक से अधिक बार किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, कारखाने, संपत्ति और माल के उत्पादन के लिए उपकरण, सभी वे परिसंपत्तियाँ हैं जिनमें स्थायी पूँजी शामिल है।

सकल स्थायी पूँजी निर्माण क्या है?

सकल स्थायी पूँजी निर्माण (GFCF) निवासी उत्पादकों द्वारा निपटान घटाने के बाद एक विशिष्ट अवधि के दौरान अचल संपत्तियों में किए गए निवेश को संदर्भित करता है। अचल संपत्तियों में उत्पादन के मूर्त या अमूर्त उत्पाद शामिल होते हैं जिनका एक वर्ष से अधिक समय तक बार-बार या लगातार उपयोग किया जाता है।

स्थाई पूँजी की खपत का क्या मतलब है?

इसे संक्षेप में CFC भी कहते हैं। स्थाई पूँजी की खपत का मतलब, उपयोग से होने वाली टूट-फूट या किसी दुर्घटना के कारण विशिष्ट क्षति से अचल संपत्तियों के मूल्य में कमी है। उदाहरण के लिए, माल के उत्पादन के उपकरण समय के साथ खराब हो जाते हैं और टूट जाते हैं।

पार्टनर की स्थायी पूँजी यानी फिक्स्ड कैपिटल का क्या मतलब है?

फिक्स्ड पार्टनरशिप कैपिटल यानी भागीदारों की स्थायी पूँजी को आय, लाभ, हानि, निकासी और वितरण के लिए नियमित करने के बाद भागीदारों द्वारा किए गए पूँजी योगदान के योग के रूप में समझाया जा सकता है। पूँजी में संपत्ति के योगदान का मूल्यांकन योगदान की तिथि के उचित बाजार मूल्य पर किया जाना चाहिए।

साझेदारी में स्थायी पूँजी खाता (फिक्स्ड कैपिटल अकाउंट) क्या होता है?

पूँजी खाते का एक रूप जिसमें एक व्यवसाय भागीदारों की पूँजी के साथ होने वाले विभिन्न लेनदेनों के लिए दो अलग-अलग खाते रखता है, एक स्थायी पूँजी खाता (फिक्स्ड कैपिटल अकाउंट) कहलाता है। इस विधि से, प्रत्येक भागीदार के लिए दो खाते तैयार किए जाते हैं:

  1. पूँजी खाता।
  2. चालू खाता।
थीमैटिक बनाम डेरीवेटिव निवेश – एक विस्तृत विश्लेषण 2022

पहले खाते का उपयोग केवल भागीदार की पूँजी को रिकॉर्ड करने के लिए किया जाता है। दूसरे का उपयोग भागीदारों के बाकी सभी लेनदेनों को रिकॉर्ड करने के लिए किया जाता है: वेतन, पूँजी पर ब्याज, आहरण, कमीशन, लाभ में हिस्सेदारी आदि।

निष्कर्ष 

यह लेख व्यापक रूप से कुछ सवालों का जवाब देता है जैसे कि एक स्थायी पूँजी प्रणाली का क्या मतलब है और यह कार्यशील पूँजी से कैसे अलग है। हमने यहाँ उदाहरण भी दिए हैं ताकि 9वीं और 12वीं कक्षा के छात्र भी यह समझ सकें कि फिक्स्ड कैपिटल मेथड यानी स्थायी पूँजी पद्धति क्या है।

लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
सबंधित आर्टिकल
3 मिनट
प्राथमिक और माध्यमिक बाजारों के बीच मुख्य अंतर
4 मिनट
अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए सर्वश्रेष्ठ ईटीएफ निवेश रणनीतियों
6 मिनट
फियर एंड ग्रीड इंडेक्स क्या है?
4 मिनट
स्टॉक में पैसे कैसे कमाए
3 मिनट
2022 में निवेश पर 5 सर्वश्रेष्ठ किताबें
6 मिनट
21वीं सदी के वित्तीय बाजारों के बारे में 10 रोचक तथ्य

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें