स्टॉक एक्सचेंजों का परिचय

यदि आप शेयर बाज़ार में निवेश करने से डरते हैं तो आप ऐसे अकेले व्यक्ति नहीं हैं। लेकिन यह प्रवृत्ति खास तौर पर उन लोगों में देखी जाती है जिन्हें बहुत ही कम वित्तीय अनुभव होता है। शेयर बाज़ार में निवेश करना वास्तव में काफी जोखिम भरा है, लेकिन साथ ही, अगर पूरी जानकारी और अनुभव के साथ निवेश किया जाए तो किसी व्यक्ति के लिए अपनी संपत्ति को बढ़ाने का इससे बेहतर तरीका नहीं हो सकता है।

स्टॉक एक्सचेंज का परिचय यह समझने से शुरू होता है कि यह क्या है। इस लेख में, हम आपको स्टॉक एक्सचेंज की मूल बातें और इसके विभिन्न प्रकारों के बारे में बताएँगे।

स्टॉक एक्सचेंज क्या होता है?

शुरुआती लोग स्टॉक चार्ट कैसे पढ़ें

चलिए, स्टॉक एक्सचेंज की परिभाषा के साथ आगे बढ़ें; यह एक द्वितीयक (सेकेंडरी) बाज़ार के रूप में कार्य करता है, जो स्टॉक विक्रेताओं (मौजूदा शेयरधारकों) को संभावित खरीदारों के साथ जोड़ता है। शेयर बाज़ारों में सूचीबद्ध कार्पोरेशन अपने शेयरों के वास्तविक मालिक नहीं हैं; बल्कि, शेयरधारक उनके मालिक हैं। इसका तात्पर्य यह है कि जब भी आप स्टॉक का कोई शेयर खरीदते हैं, तो आप उसे कंपनी से नहीं खरीदते। आप इसे मौजूदा शेयरधारक से खरीदेंगे। उसी प्रकार, अपने शेयरों को बेचते समय, आप उन्हें सीधे अन्य निवेशकों को बेच देंगे, और कंपनी को इससे कोई सरोकार नहीं होता।

किसी कंपनी के स्टॉक्स या शेयरों की ट्रेडिंग के लिए विभिन्न प्लैटफॉर्म्स होते हैं, जिन्हें स्टॉक एक्सचेंज के रूप में जाना जाता है। हालाँकि ज़्यादातर शेयरों के ट्रेड के लिए दलाल ज़िम्मेदार होते हैं, फ़िर भी आपको ट्रेडिंग कंपनियों और स्टॉक एक्सचेंजों के बीच संबंध और उनके काम करने के तरीकों को समझना चाहिए। इसके अतिरिक्त, प्रत्येक स्टॉक एक्सचेंज में अपने निवेशकों की सुरक्षा के लिए आवश्यकताओं की एक अनूठी श्रृंखला होती है। तो, चलिए स्टॉक एक्सचेंज की ट्रेडिंग प्रक्रिया को जानते हैं।

स्टॉक एक्सचेंज कैसे काम करते हैं?

शेयर बाज़ार कई स्टॉक एक्सचेंजों के साथ काम करता है, जिनमें से आपने न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (New York Stock Exchange) और Nasdaq के बारे में सुना होगा। स्टॉक एक्सचेंजों के प्रमुख कार्यों में से एक कार्य  वित्तीय साधनों की  ट्रेडिंग करना है, जिसमें बॉन्ड्स, इक्विटी और कमॉडिटीज़ शामिल हैं। स्टॉक एक्सचेंज की भूमिका शेयरधारकों (निवेशकों), शेयर बाज़ारों में सूचीबद्ध कॉर्पोरेशनों और सरकार को एक प्लेटफार्म पर लाना है। वे पर्याप्त विक्रेताओं और खरीदारों की उपस्थिति सुनिश्चित करके बाज़ार में लिक्विडिटी बनाए रखते हैं, जिससे ट्रेडिंग प्रभावशाली बनती है।

वॉल्यूम कैंडलस्टिक्स: वे कैसे काम करते हैं और उनका उपयोग कैसे करें

स्टॉक एक्सचेंज निवेशकों और वित्तीय पेशेवरों को सबसे सटीक और उचित वित्तीय जानकारी प्रदान करके उनकी मदद भी करते हैं। इस तरह, वे यह सुनिश्चित करते हैं कि ट्रेडिंग को निष्पक्ष और व्यवस्थित तरीके से संसाधित किया जा रहा है।

जब कोई कंपनी अपने शेयरों को इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (Initial Public Offering) IPO की  प्रक्रिया के ज़रिए सूचीबद्ध (लिस्ट) करती है तो  उस कंपनी के स्टॉक्स, स्टॉक एक्सचेंज पर उपलब्ध होने लगते हैं। शेयरों को शुरू में प्राथमिक बाज़ार (प्राइमरी मार्केट) में आरंभिक सार्वजनिक शेयरधारकों के एक समूह को बेचा जाता है। इस तरह, कंपनी अपने कारोबार के विस्तार के लिए पैसे जुटाती है। एक बार जब एक IPO सार्वजनिक शेयरधारकों के लिए स्टॉक्स जारी करता है, तो उन्हें द्वितीयक बाज़ारों में, जिन्हें स्टॉक एक्सचेंज भी कहते हैं, ट्रेड किया जा सकता है। स्टॉक एक्सचेंज कई प्रकार के होते हैं।

Auction exchanges (ऑक्शन एक्सचैंजें)

Auction exchanges सामान्य नीलामियों की तरह ही काम करते हैं। यह एक स्टॉक मार्केट है जहाँ विक्रेता और खरीदार एक साथ प्रतिस्पर्धी बोलियाँ लगाते हैं। Auction exchanges में स्टॉक की मौजूदा कीमत इस बात से निर्धारित होती है कि खरीदार अपनी उच्चतम बोली के रूप में कितना भुगतान करने को तैयार है। हालाँकि, विक्रेता की ओर से न्यूनतम स्वीकार्य दर ही न्यूनतम मूल्य होगा। जब विक्रेता और खरीदार दोनों की बोलियाँ एक जैसी हो जाती हैं, तो डील लॉक हो जाती है।

रुझान और फ्लैट: क्या अंतर है और व्यापार में उनका उपयोग कैसे करें?

एक ऑक्शन बाज़ार. दलालों और ट्रेडर्स को ट्रेडिंग फ्लोर पर भौतिक और मौखिक संकेतों के माध्यम से संवाद करने का अवसर प्रदान करता है। स्टॉक एक्सचेंज धीरे-धीरे इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम में शिफ्ट हो रही हैं, लेकिन ऑक्शन प्रणाली अभी भी विभिन्न स्टॉक एक्सचेंजों द्वारा इस्तेमाल की जाती है, जैसे कि न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज। जैसे ही ट्रेडिंग का दिन समाप्त होता है, क्लोज़िंग ऑक्शन, नीलामी में शामिल सभी स्टॉक्स का क्लोसिंग मूल्य निर्धारित करती है।

10 संकेत जो दर्शाते हैं कि आप एक ट्रेडर के रूप में सफल होंगे
कई ट्रेडरों के पास कई कुदरती लक्षण होते हैं जो उन्हें सफल बनाते हैं। बाकी लोगों को उन पर काम करना पड़ता है। पता लगाएँ कि आपके पास कौन से हैं!
अधिक पढ़ें

New York stock exchange (NYSE) (न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज)

न्यूयॉर्क शहर में स्थित, New York Stock Exchange (NYSE) दुनिया का सबसे बड़ा इक्विटी-आधारित स्टॉक एक्सचेंज है। पहले यह एक निजी संगठन था जो 2006 में इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग एक्सचेंज (electronic trading exchange) Archipelago द्वारा अधिग्रहित किए जाने के बाद सार्वजनिक स्वामित्व में आ गया था। 2007 में सबसे महत्वपूर्ण European stock exchange, Euronext के साथ इसके विलय के बाद, इसे NYSE Euronext के रूप में जाना जाने लगा। तब से, Intercontinental Exchange, Inc (ICE) के पास NYSE के स्टॉक्स हैं।

एक सार्वजनिक ट्रेडिंग कंपनी के रूप में इसकी स्थापना के बाद से, NYSE सिर्फ फ्लोर ट्रेडिंग पर आधारित था। लेकिन अब, NYSE ने अपने कुछ कार्यों को इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम में शिफ्ट कर दिया है। हालाँकि, मनोनीत मार्केट मेकर्स अभी भी ट्रेडिंग फ्लोर पर अपनी भौतिक उपस्थिति रखते हैं। यह NYSE को दुनिया की अग्रणी ऑक्शन मार्केट्स में से एक बनाता है। इलेक्ट्रॉनिक एक्सचेंजें इन पेशेवरों के लिए एक बड़ा प्रतिस्पर्धात्मक खतरा पैदा करते हैं, क्योंकि वे मानव बिचौलियों को हटाकर छोटी बोली-पूछने (bid-asks) और तेज़ी से ट्रेडिंग के लिए जानी जाती हैं।

बुलिश कैंडलस्टिक चार्ट पैटर्न का उपयोग कैसे करें

पहली औपचारिक यूएस स्टॉक एक्सचेंज होने के नाते, अधिकांश पुरानी यूएस-आधारित सार्वजनिक कंपनियाँ NYSE पर सूचीबद्ध हैं। अपने निवेशकों की वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, NYSE ने कंपनियों के लिए प्रारंभिक सूचीकरण आवश्यकताएँ  निर्धारित की हैं। इसका मतलब है कि हर कॉर्पोरेशन को वार्षिक रखरखाव आवश्यकताओं के अनुपालन के साथ-साथ इन प्रारंभिक आवश्यकताओं को भी पूरा करना होता है। ट्रेडिंग जारी रखने के लिए प्रत्येक कंपनी को अपने शेयर की कीमत कम से कम $4 प्रति शेयर से ऊपर रखना अनिवार्य है। जिस कंपनी की सिक्योरिटी का  मूल्य एक महीने तक $1 से नीचे क्लोज़ होता है, उस कंपनी के खिलाफ असूचीबद्ध (डीलिस्टिंग) प्रक्रिया शुरू की जाती है।

Electronic exchanges (इलेक्ट्रॉनिक एक्सचेंज)

Auction exchanges के विपरीत, electronic exchanges, सारी ट्रेडिंग इलेक्ट्रॉनिक प्लैटफॉर्म्स पर ऑफर करती हैं। ट्रेडिंग फ्लोर पर कोई भी ट्रेडर या दलाल शारीरिक रूप से मौजूद नहीं होता। क्यूँकि सब कुछ इलेक्ट्रॉनिक रूप से किया जाता है, इसलिए electronic exchanges में खरीदारों और विक्रेताओं को एक ही स्थान पर मिलने की आवश्यकता समाप्त हो जाती है।

Electronic exchanges पारंपरिक ऑक्शन एक्सचेंजों की तुलना में बहुत तेज़ी से और अधिक कुशलता से ट्रेडिंग करने का दावा करती हैं। क्यूँकि खरीदार और विक्रेता वर्चुअल तरीके से कहीं से भी भाग ले सकते हैं, इसलिए एक ही दिन में अरबों डॉलर का ट्रेड किया जा सकता है। अधिकांश पारंपरिक स्टॉक एक्सचेंज अब इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम में शिफ्ट हो रही हैं; Nasdaq दुनिया के शीर्ष इलेक्ट्रॉनिक एक्सचेंजों में से एक है।

Nasdaq

Nasdaq दुनिया भर में प्रसिद्ध इलेक्ट्रॉनिक एक्सचेंजों में से एक है जो खरीदारों और विक्रेताओं को जोड़ने के लिए दूरसंचार नेटवर्क का उपयोग करता है। इसीलिए, इसे स्क्रीन-आधारित एक्सचेंज भी कहा जाता है। हालाँकि भौतिक रूप से मौजूद नहीं है, मगर Nasdaq के पास मार्केट मेकर्स भी हैं जो अपने स्टॉक की सूची के साथ अप्रत्यक्ष रूप से भाग लेते हैं। वे ऑनलाइन बोलियाँ पोस्ट करते हैं और कीमतें पूछते हैं।

दिन के व्यापार के लिए कई समय सीमाओं के साथ टेक्निकल विश्लेषण कैसे करें

NYSE की तरह, Nasdaq ने भी सूचीबद्ध कंपनियों की विश्वसनीयता को नियंत्रित करने के लिए कुछ आवश्यकताएँ निर्धारित की हैं। एक कंपनी के लिए न्यूनतम शेयर मूल्य Nasdaq के मामले में भी $4 प्रति शेयर है और यदि कोई कंपनी आवश्यकताओं को पूरा करने में विफल रहती है, तो उसे OTC बाजार में असूचीबद्ध कर दिया जाता है।

Electronic Communication Networks (ECNs) (इलेक्ट्रॉनिक संचार नेटवर्क)

ECNs वैकल्पिक व्यापार प्रणालियों (ऑल्टरनेटिव ट्रेडिंग सिस्टम्स) (ATSs) के उपवर्ग हैं। मार्किट मेकर्स या दलालों को बीच से हटाना इलैेक्ट्रॉनिक संचार नेटवर्क (ECNs) की विशिष्ट विशेषताओं में से एक है, जो उन्हें निवेशकों के बीच लोकप्रिय बनाती है। खरीदारों और विक्रेताओं को अब दलालों के माध्यम से अपने स्टॉक खरीदने या बेचने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि वे सीधे तौर पर ECNs की मदद से जुड़ सकते हैं।

ECNs लेन-देन की लागत को कम करने में बहुत योगदान देते हैं, क्योंकि वे अन्य प्रकार के स्टॉक एक्सचेंजों के लिए वास्तविक प्रतिस्पर्धी बाधाएँ पैदा करते हैं। व्यक्तिगत निवेशकों की तुलना में, छोटे निवेशकों की एक बड़ी राशि का निवेश करने के लिए फ़र्मों द्वारा ECNs का अधिक आसानी से उपयोग किया जाता है। ECNs के संबंध में कहा जा सकता है कि, Arca ऑप्शंस और Nasdaq का इंटरबैंक नेटवर्क इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसफर (Interbank Network Electronic Transfer) (INET) निवेशकों के लिए सर्वोच्च प्राथमिकताएँ हैं।

Over-the-Counter (OTC) (ओवर-द-काउंटर)

7 कैंडलस्टिक पैटर्न जो हर ट्रेडर को पता होना चाहिए

सरल शब्दों में कहें तो, OTC बाज़ार ऊपर सूचीबद्ध बाज़ारों की तुलना में छोटे बाज़ार हैं। इसी तरह, छोटी फ़र्में या संगठन OTC बाज़ारों में सूचीबद्ध हैं और उनमें से अधिकांश वे हैं जिन्हें Nasdaq या NYSE जैसे संगठित स्टॉक एक्सचेंजों से डीलिस्ट कर दिया गया है। OTC बाज़ारों के कई प्रकार हैं, जिनमें से दो सबसे महत्वपूर्ण नीचे सूचीबद्ध किये गए हैं:

  • ओवर-द-काउंटर बुलेटिन बोर्ड (OTCBB) यह दलालों वाला एक इलेक्ट्रॉनिक प्लैटफ़ॉर्म था जिसमें ज्यादातर Nasdaq से डीलिस्ट की गई कंपनियाँ शामिल थीं। प्लैटफ़ॉर्म पर लिस्टिंग के लिए न्यूनतम बिक्री या संपत्ति जैसी कोई आवश्यकता नहीं थी। हालाँकि, नवंबर 2021 में इसे बंद कर दिया गया था।  
  • पिंक शीट्स यह OTC, कंपनियों को Security and Exchange Commission   (SEC) के साथ पंजीकृत होने की आवश्यकता के बिना ही लिस्टिंग सेवा प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त, इन कंपनियों के पास अपेक्षाकृत कम लिक्विडिटी होती है।

व्यक्तिगत निवेशक आमतौर पर उच्च जोखिम के कारण OTC बाज़ारों से दूर रहते हैं। हालाँकि, महंगी फीस और प्रशासनिक बोझ को बचाने के लिए कुछ बड़ी कंपनियाँ अब OTC बाज़ारों में शिफ्ट हो रही हैं। क्योंकि पेनी स्टॉक्स, ओवर-द-काउंटर ट्रेड करते हैं,इसलिए यदि आपके पास पिछला अनुभव नहीं है तो आपको इनसे बचना चाहिए।

अन्य एक्सचैंजें 

बहुत सारी अन्य स्टॉक एक्सचेंजें दुनिया भर में व्यापक रूप से फ़ैली हुई हैं। स्टॉक्स की ट्रेडिंग के साथ-साथ, वे डिजिटल मुद्रा विनिमय (डिजिटल करेंसी एक्सचेंज) में भी शामिल हैं। कुछ प्रसिद्ध एक्सचेंजों की सूची नीचे दी गई है:

इवनिंग के स्टार पैटर्न का व्यापार कैसे करें?
  • एशिया 3800 से अधिक कंपनियाँ वर्तमान में TSE में सूचीबद्ध हैं, और उनका संयुक्त बाज़ार पूंजीकरण $5.6 ट्रिलियन से अधिक है। Shanghai Stock Exchange (शंघाई स्टॉक एक्सचेंज) (SSE) और Shenzhen Stock Exchange (शेनझेन स्टॉक एक्सचेंज) (SZSE) चीन में ऑपरेट करने वाली सबसे बड़ी स्टॉक एक्सचेंजें हैं।
  • यूरोप यूरोपीय देशों में सबसे बड़ी स्टॉक एक्सचेंज है Euronext। इसका गठन तीन स्टॉक एक्सचेंजों: पेरिस, एम्स्टर्डम और ब्रुसेल्स के विलय के कारण हुआ था, और तब से, इसने कई विलयों का अनुभव किया है। Euronext के बाद दूसरा सबसे बड़ा यूरोपीय स्टॉक एक्सचेंज UK स्थित London Stock Exchange (लंदन स्टॉक एक्सचेंज) (LSE) है।
  • डिजिटल एक्सचेंजें डिजिटल एक्सचेंजों में, Coinbase (कॉइनबेस) नंबर 1 पर है।  यह यूएस-आधारित स्टॉक एक्सचेंज निवेशकों और संस्थानों के लिए एक क्रिप्टो करेंसी ट्रेडिंग सुविधा प्रदान करती है। Litecoin (लिटकोइन)  और Ethereum (इथेरियम),  Coinbase पर ट्रेड की जाने वाली लोकप्रिय क्रिप्टो करंसीज़ हैं I प्रति दिन 2 बिलियन से अधिक के ट्रेड के साथ, Binance (बिनेंस) क्रिप्टोक्यूरेंसी ट्रेडिंग के लिए एक और प्रमुख एक्सचेंज प्लैटफ़ॉर्म  है। पहले, Binance (बिनेंस) ने USD में फंडिंग की अनुमति नहीं दी थी, लेकिन अब SWIFT ट्रांसफर का उपयोग करके फंडिंग को डिपाज़िट किया जा सकता है।

स्टॉक एक्सचेंजों के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

स्टॉक एक्सचेंज एक ऐसा बाज़ार है जो स्टॉक में निवेश की सुविधा के लिए विक्रेताओं और खरीदारों को एक साथ लाता है। लेकिन नए निवेशकों के मन में इसके काम को लेकर हमेशा सवाल होते हैं। नीचे दिए गए अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs) स्टॉक एक्सचेंज के कार्यों की व्याख्या करते हैं।

स्टॉक एक्सचेंज की एक सरल परिभाषा क्या है?

सीधे शब्दों में कहें तो, स्टॉक एक्सचेंज ट्रेडिंग को कुशल बनाने के लिए खरीदारों और विक्रेताओं को जोड़ने वाले एक प्लेटफार्म के रूप में कार्य करती है।

US में तीन सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज कौन से हैं?

रैंकिंग के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (New York Stock Exchange)(NYSE)। स्टॉक एक्सचेंजों की वैश्विक सूची में भी इसे नंबर 1 स्थान दिया गया है। उसके बाद, दूसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज Nasdaq है, और तीसरा स्थान पर अमेरिकन स्टॉक एक्सचेंज (American Stock Exchange) है।

स्टॉक एक्सचेंज और शेयर बाज़ार (stock market) में क्या अंतर है?

वित्तीय बाजारों का तकनीकी विश्लेषण क्या है?

सरल शब्दों में, स्टॉक एक्सचेंज इक्विटी ट्रेडिंग (शेयरों की खरीद और बिक्री) के लिए एक प्लेटफार्म या बाज़ार है। जबकि शेयर बाज़ार (स्टॉक मार्केट) शब्द का प्रयोग किसी विशिष्ट देश या क्षेत्र से संबंधित सभी शेयरों के लिए किया जाता है। आपको दुनिया के सबसे बड़े शेयर बाज़ारों (स्टॉक मार्केट्स) के बारे में भी पता होना चाहिए।

स्टॉक एक्सचेंज का उद्देश्य क्या है?

स्टॉक एक्सचेंज निवेशकों और कंपनियों को जोड़ता है। कंपनी अपने स्टॉक या शेयर निवेशकों को बेचती है और पूंजी जुटाती है और उसका उपयोग अपनी व्यावसायिक गतिविधियों के विस्तार के लिए करती है। दूसरी ओर, निवेशकों को इन निवेशों से होने वाले मुनाफ़े का फ़ायदा मिलता है।

भारत में कितने स्टॉक एक्सचेंज हैं?

SEBI के अनुसार, वर्तमान में भारत में सात मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजें हैं। इनमें NSE और BSE सबसे महत्वपूर्ण हैं। इसके अलावा, कलकत्ता स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड (Calcutta Stock Exchange Ltd), इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज लिमिटेड (Indian Commodity Exchange Ltd), मेट्रोपॉलिटन स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (Metropolitan Stock Exchange of India Ltd), मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (Multi Commodity Exchange of India Ltd), और नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड (National Commodity & Derivatives Exchange Ltd) ब्रोकरों और निवेशकों के लिए उपलब्ध हैं।

निष्कर्ष

ट्रेडिंग में स्तर (लेवल) क्या हैं?

स्टॉक एक्सचेंज का मतलब एक ऐसी जगह है जहाँ प्रमुख कंपनियों के सभी स्टॉक्स सूचीबद्ध होते हैं। कुशल ट्रेडिंग के लिए खरीदार और निवेशक इस प्लैटफ़ॉर्म पर मिलते हैं। इन स्टॉक एक्सचेंजों की भूमिका दोनों पक्षों, यानि कंपनी और निवेशकों के वित्तीय संसाधनों की रक्षा करना है। Nasdaq और NYSE, यूएस की दो सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज (और दुनिया में भी) हैं। वे सूचीबद्ध कंपनियों के लिए आवश्यकताएँ तय करके उनकी विश्वसनीयता सुनिश्चित करती हैं। कंपनियों के लिए इन आवश्यकताओं को पूरा करना अनिवार्य है, अन्यथा, उन्हें डीलिस्ट किया जा सकता है।

हालाँकि ये दुनिया की सबसे बड़ी स्टॉक एक्सचेंजें हैं, लेकिन ये इकलौता वैध एक्सचेंजें नहीं हैं। स्टॉक एक्सचेंज में ECNs अपेक्षाकृत नई अवधारणा है, लेकिन वे जल्द ही पारंपरिक एक्सचेंजों को बदल देंगी। OTC बाज़ार अत्यधिक अनुभवी निवेशकों और कंपनियों के लिए एक उपयुक्त प्लेटफार्म के रूप में कार्य करते हैं क्योंकि वे महंगी फीस को बचा सकते हैं, लेकिन इसके साथ कुछ जोखिम भी जुड़े हुए हैं। स्टॉक एक्सचेंज में निवेश करना एक बहुत बड़ा जोखिम है, खासकर उनके लिए जिन्हें इस क्षेत्र में कोई पूर्व ज्ञान या अनुभव नहीं है। इसलिए, आपको निवेश करने से पहले विदेशी शेयर बाज़ार के रुझानों की कुछ बुनियादी जानकारी और समझ होनी चाहिए।

साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
कैंडलस्टिक शैडो क्या है?
4 मिनट
शुरुआती लोगों के लिए पेनन्ट पैटर्न का उपयोग कैसे करें
5 मिनट
कैंडलस्टिक चार्ट कैसे पढ़ें
5 मिनट
हेइकिन-एशी कैंडलस्टिक्स: शुरुआत करने वालों के लिए एक गाइड
7 मिनट
फिबोनैकी लेवल्स को कैसे ड्रा करें
5 मिनट
प्रोडक्टिव तकनीकी विश्लेषण के लिए 5 रहस्य

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें