रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट के बीच के अंतर के बारे में सब कुछ

क्या आप जानना चाहते हैं कि रेपो रेट क्या है, रिवर्स रेपो का मतलब क्या है और इन दोनों के बीच में क्या अंतर है? तो आप, बिलकुल सही स्थान पर हैं। आइए इनके बारे में विस्तार से जानें!

रेपो रेट क्या होता है?

बैंकिंग में, रेपो रेट पुनर्खरीद विकल्प या समझौते से संबंधित होता है। कभी-कभी वाणिज्यिक बैंक धन की कमी की स्थिति में या विशिष्ट व्यवस्थापक आवश्यकताओं के कारण लिक्विडिटी यानी तरलता को बनाए रखने के लिए केंद्रीय बैंक से फंड्स उधार लेते हैं। ये अल्पकालिक ऋण केंद्रीय बैंक द्वारा ट्रेजरी बिल या सरकारी बॉन्ड जैसी प्रतिभूतियों के बदले में उपलब्ध कराए जाते हैं और फिर वर्तमान रेपो रेट (यानी दर) पर इन्हें वापिस किया जाता है। अर्थात्, रेपो रेट वह ब्याज दर है जिस पर एक राष्ट्र का केंद्रीय बैंक, वाणिज्यिक बैंकों को ऋण प्रदान करता है।

प्रॉफिट और लॉस ट्रेडिंग से बचने के लिए 7 टिप्स

मुद्रास्फीति के दबाव की स्थिति में, केंद्रीय बैंक रेपो दरों को बढ़ा देते हैं ताकि वाणिज्यिक बैंकों को उनसे उधार लेने से निरुत्साहित किया जा सके। इसके परिणामस्वरूप अर्थव्यवस्था के संचलन में उपलब्ध धन की मात्रा कम हो जाती है, जो मुद्रास्फीति को रोकने और बैंक की तरलता को बढ़ाने में सहायता करती है।

वैकल्पिक रूप से, मंदी के दौरान या बाजार में विस्तार को बढ़ावा देने के लिए अतिरिक्त पूंजी की आवश्यकता होने पर रेपो रेट को कम किया जाता है। मान लीजिए कि देश नकदी की कमी का सामना कर रहा है। उस स्थिति में, केंद्रीय बैंक बैंकों को उनकी उधारी बढ़ाने और सामान्य आबादी को कम दरों पर ऋण प्रदान करने में सहायता करने के लिए रेपो रेट को कम करेगा।

रेपो रेट में बदलाव का अंततः सार्वजनिक उधार जैसे होम लोन, ईएमआई (EMI) आदि पर प्रभाव पड़ता है, क्योंकि यह वाणिज्यिक बैंकों को उनसे लिए गए उधार पर लोगों को उच्च ब्याज दरों का भुगतान करने के लिए मजबूर करता है। कई वित्तीय और निवेश साधन भी रेपो रेट पर अप्रत्यक्ष रूप से निर्भर होते हैं, जैसे कि वो ब्याज जो वाणिज्यिक बैंकों द्वारा ऋणों पर लगया जाता है तथा वो रिटर्न्ज़ जो बैंक लोगों द्वारा उनके पास जमा की गई राशि पर देते हैं।

चलनिधि समायोजन सुविधा (लिक्विडिटी एडजस्टमेंट फैसिलिटी) में रिवर्स रेपो रेट भी शामिल है, जिसके बारे में हम नीचे विस्तार से चर्चा करेंगे।

रिवर्स रेपो रेट क्या होता है?

बाजार में पैसे की आवाजाही को नियंत्रित करने के लिए, केंद्रीय बैंक एक मौद्रिक नीति भी लागू कर सकता है जिसे रिवर्स रेपो रेट के रूप में जाना जाता है। आवश्यकता के समय, यह निजी बैंकों से पैसा उधार ले सकता है और उन्हें मौजूदा दर पर ब्याज दे भी सकता है। रिवर्स रेपो रेट अक्सर किसी विशेष समय में रेपो रेट से कम खर्चीला होता है।

ट्रेडिंग करते समय तनाव कम करने के 6 उपयोगी टिप्स

अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति का अनुभव होने पर केंद्रीय बैंक रिवर्स रेपो रेट को बढ़ाता है ताकि वाणिज्यिक बैंकों को केंद्रीय बैंक के पास पैसे जमा कराने और अधिक ब्याज प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित कर सके। नतीजतन, यह बाजार से अत्याधिक फंड्स को हटा देता है और सामान्य लोगों द्वारा उधार लेने के लिए उपलब्ध नकदी की मात्रा को कम कर देता है।

रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में क्या अंतर है?

रिवर्स रेपो रेट निर्विवाद रूप से उन अत्यंत महत्वपूर्ण संकल्पनाओं में से एक है जिसे समझने से हमें पता चलेगा कि रेपो रेट क्या होता है। इन दोनों के बीच के अंतरों में निम्नलिखित शामिल हैं:

अब मुनाफ़ा आपकी पहुँच में है!
Binomo पर जाएँ
  1. केंद्रीय बैंक वाणिज्यिक बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों को दिए गए पैसे पर रेपो रेट वसूलता है। दूसरी ओर, केंद्रीय बैंक अपने अतिरिक्त धन को संभाल कर रखने के लिए वाणिज्यिक बैंकों को जिस दर का भुगतान करता है, उसे रिवर्स रेपो रेट के रूप में जाना जाता है।
  2. रिवर्स रेपो दरों में एक खाते से दूसरे खाते में पैसे की आवाजाही शामिल होती है, जबकि रेपो दरों में ऐसे एसेट्स की बिक्री शामिल होती है जिसे भविष्य में दुबारा खरीद लिया जाएगा।
  3. एक कम रेपो रेट वाणिज्यिक बैंकों के लिए फंडों की लागत को कम करता है और इसके परिणामस्वरूप ऋणों पर लगने वाला ब्याज दर कम हो जाता है। जब रिवर्स रेपो रेट कम होता है, तो अर्थव्यवस्था में पैसों की आपूर्ति बढ़ती है क्योंकि बैंक अधिक उधार देते हैं और केंद्रीय बैंकों में किए जाने वाले अपने डिपाजिट को कम कर देते हैं।
  4. रिवर्स रेपो रेट कभी भी रेपो रेट से अधिक नहीं होता है। उदाहरण के लिए, दिसंबर 2022 में, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) का वर्तमान रेपो रेट 6.25% है, और रिवर्स रेपो रेट केवल 3.35% है।

सामान्य तौर पर, रिवर्स रेपो रेट का उपयोग बाजार में नकदी प्रवाह को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है, जबकि अर्थव्यवस्था में तरलता बनाए रखने (बाजार की मुद्रास्फीति को कम करने) के लिए रेपो रेट की आवश्यकता होती है।

7 व्यापारिक मिथक जो आपको शायद लगता है कि सच हैं
ट्रेडिंग के बारे में मिथकों को दूर करने का समय आ गया है! इनमें से कुछ मिथक सच के इतने ज़्यादा करीब हैं कि आप कभी भी अनुमान नहीं लगा पाओगे कि यह केवल मशहूर गलत धारणाएँ हैं।
अधिक पढ़ें

बैंक रेट या दर क्या होता है?

जिस ब्याज दर पर एक देश का केंद्रीय बैंक घरेलू बैंकों को पैसा उधार देता है, अक्सर अत्यंत अल्पकालिक ऋण के रूप में, उसे बैंक रेट या बैंक दर के रूप में जाना जाता है। इसका प्रबंधन एक महत्वपूर्ण तकनीक है जिसके द्वारा केंद्रीय बैंक आर्थिक गतिविधियों को प्रभावित करते हैं। उधार लेने वाली निधियों की लागत को कम करके, कम बैंक रेट आर्थिक विकास को प्रोत्साहित कर सकते हैं, और उच्च बैंक रेट बढ़ती मुद्रास्फीति को रोक सकते हैं खासकर तब, जब वह बहुत अधिक बढ़ रही हो।

H2 – रेपो और बैंक रेट में क्या अंतर होता है?

केंद्रीय बैंक सरकारी प्रतिभूतियों का अधिग्रहण करके रेपो रेट के परिदृश्य में वाणिज्यिक बैंकों को पैसे उधार देता है। लेकिन बैंक रेट की स्थिति में, वाणिज्यिक बैंक बिना किसी सरकारी प्रतिभूतियों को बेचे हुए केंद्रीय बैंक से ऋण प्राप्त कर सकते हैं।

7 फोरेक्स ट्रेडिंग टिप्स जिनका आप तुरंत उपयोग कर सकते हैं

क्योंकि उपभोक्ताओं को किस ब्याज दर पर ऋण जारी किया जाना चाहिए, यह निर्धारित करने में बैंक रेट एक महत्वपूर्ण पहलू है, यह सीधे ग्राहक को प्रभावित करता है। दूसरी ओर, रेपो रेट से जनता तुरंत प्रभावित नहीं होती है।

रेपो रेट में bps क्या होता है?

बेसिस पॉइंट्स, जिन्हें “bps” या “bips” के रूप में भी जाना जाता है, माप की एक ऐसी इकाई है जिसका उपयोग इंडेक्स या अन्य बेंचमार्क में परिवर्तन के दर या बॉन्ड जैसे वित्तीय साधनों के मूल्य में प्रतिशत परिवर्तन को व्यक्त करने के लिए किया जाता है।

ब्याज दरों में परिवर्तन का वर्णन करने के लिए बेसिस पॉइंट्स यानी आधार बिंदुओं की भी आवश्यकता होती है। एक प्रतिशत परिवर्तन 100 bps के बराबर होता है; इसलिए एक bp प्रतिशत, परिवर्तन के 0.01% के बराबर होता है।

प्रतिशत को 100 से गुणा करके हम इसे बेसिस पॉइंट्स में बदल सकते हैं। इसके विपरीत, bips को प्रतिशत में बदलने के लिए, हमें उनकी संख्या को 100 से भाग देना होता है।

उदाहरण के लिए, 40 bps की गणना रेपो दर में 40/100 = 0.4% के रूप में की जाती है।

रेपो रेट से क्या प्रभावित होता है?

रेपो रेट निम्नलिखित को भी महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करता है:

  • ब्याज दर को बढ़ाना

उधार दरें केंद्रीय बैंक के रेपो रेट से संबंधित होती हैं। रेपो रेट के साथ-साथ बैंकों की उधार लेने की लागत बढ़ जाती है, जो बाद में खाताधारकों को ऋण और डिपाजिट पर उच्च ब्याज दरों के रूप में दी जाती है। इसका परिणाम नए ऋणों के लिए उच्च समान मासिक किश्तों (EMI) और वर्तमान फ्लोटिंग-रेट वाले के लिए ऋण की अवधि बढ़ने के रूप में होता है। नतीजतन, व्यापार की उधार लागत भी बढ़ जाती है।

  • माँग में कमी
नौसिखिए लोगों के लिए 5 सबसे अच्छे ऑप्शंस ट्रेडिंग रणनीतियाँ

जब ब्याज दरें बढ़ती हैं, तो बैंक से पैसा उधार लेना कम आकर्षक हो जाता है। परिणामस्वरूप बाजार का निवेश और मुद्रा आपूर्ति धीमी हो जाती है।

क्रय शक्ति यानी खरीदने की क्षमता घटने से माँग में कमी आती है, अर्थात उपभोक्ता महँगे उत्पाद खरीदने से हिचकिचाते हैं। हालाँकि, यह तथ्य कि लोग कम खर्च करना शुरू कर देते हैं, मुद्रास्फीति को नियंत्रण में रखने में मदद करता है।

नोट! रेपो रेट शेयर बाजार में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, इसलिए इसे समझना निवेशकों के लिए आवश्यक है।

रेपो रेट का शेयर बाजार पर क्या प्रभाव पड़ता है?

रेपो रेट बढ़ने से बाजार पर तुरंत प्रभाव पड़ता है। स्टॉक की कीमतें, अस्थायी रूप से धीरे-धीरे बढ़ेंगी, अगर बाजार केंद्रीय बैंक के फैसले के अनुकूल प्रतिक्रिया करता है। उदाहरण के लिए, पूर्वानुमान के अनुरूप रेपो रेट में वृद्धि आमतौर पर बाजार द्वारा स्वागत की जाने वाली खबर है। केंद्रीय बैंक के गवर्नर के आश्वासन से इस भावना को बढ़ावा मिल सकता है कि तिमाही में मुद्रास्फीति सहज क्षेत्र में रहेगी।

हालाँकि, रेपो रेट कुछ क्षेत्रों में लाभप्रदता को कम कर सकता है क्योंकि ब्याज दरें और शेयर बाजार विपरीत रूप से संबंधित हैं। इस स्थिति में आम तौर पर ऐसा होता है कि रेपो रेट में वृद्धि व्यवसायों को अपने खर्च को कम करने के लिए मजबूर करती है। सबसे अधिक प्रभावित उद्योग वे हो सकते हैं जिनमें बहुत अधिक पूंजी की आवश्यकता होती है, जैसे कि रियल एस्टेट और आधारभूत संरचना। इन उद्योगों में फर्मों को आमतौर पर बहुत अधिक नकदी की आवश्यकता होती है और इन पर बहुत अधिक कर्ज होता है।

यदि आप ट्रेडिंग छोड़ने के लिए तैयार महसूस करते हैं तो क्या करें: 6 शीर्ष युक्तियाँ

क्योंकि उच्च ब्याज दरें उच्च-ऋण उद्यमों को विफल कर सकती हैं, इसलिए उनकी विस्तार योजनाएँ प्रभावित होती हैं। इससे कंपनियों की वृद्धि धीमी हो जाती है, जिससे उनकी मालगुजारी और मुनाफे पर असर पड़ता है। इस मामले में, शेयर बाजार में सहभागियों की भावना में गिरावट आती है क्योंकि विलंबित विस्तार इस बात को प्रभावित करता है कि निवेश कितना लाभदायक रहेगा।

निष्कर्ष

पुनर्खरीद विकल्प या पुनर्खरीद समझौते से संबंधित होने के कारण, रेपो रेट को आमतौर पर एक प्रक्रिया के रूप में माना जाता है जो उधार के जोखिम को कम करता है। हालाँकि, निवेशकों को सावधान रहना चाहिए क्योंकि पुनर्खरीद समझौतों से जोखिम भी जुड़ा होता है। यह इस तथ्य में निहित है कि मूल बिक्री के बाद से स्टॉक का मूल्य घट सकता है, जो खरीदार के पास ज्यादा विकल्प नहीं छोड़ता, उन्हें या तो सिक्योरिटी को अपने पास रखना पड़ता है, जिसे वे लंबे समय तक रखने का इरादा नहीं रखते हैं या फिर इसे नुकसान पर बेचने पर मजबूर हो जाते हैं।

हमें उम्मीद है कि इस लेख से आपको यह समझने में मदद मिली होगी कि रेपो रेट किस तरह का टूल है। यदि आप भारत के एक निवेशक हैं, तो आप हिंदी या अंग्रेजी में बहुविकल्पीय प्रश्नों (MCQs) का उत्तर देकर सामान्य रूप से बैंकिंग क्षेत्र के अपने ज्ञान और रेपो रेट क्या है, इसका परीक्षण कर सकते हैं।

लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
4 मिनट
5 युक्तियाँ जो अभी बेहतर के लिए आपके व्यापार को बदल सकती हैं
5 मिनट
EBITA
4 मिनट
हर बाजार में विश्वास के साथ व्यापार करने के लिए 6 उपयोगी युक्तियाँ
5 मिनट
अपनी ट्रेडिंग भावनाओं को प्रबंधित करने और लाभ प्राप्त करने के लिए 9 टिप्स
12 मिनट
Binomo ब्लॉग क्रिप्टोकरेंसी शब्दावली
3 मिनट
भविष्य के निवेशकों के लिए 5 सर्वश्रेष्ठ सुझाव

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें