ब्याज कवरेज अनुपात

निम्नलिखित लेख में, हम ब्याज कवरेज अनुपात, इसके फॉर्मूले, इसके महत्व और प्रकारों के बारे में उन सब बातों का वर्णन करेंगे जिन्हें जानना आवशयक है। हम ब्याज कवरेज अनुपात को एक उदाहरण की मदद से भी समझेंगे।

ब्याज कवरेज अनुपात क्या है?

ब्याज कवरेज अनुपात एक ऋण और लाभप्रदता अनुपात है। यह इस बात का आकलन करता है कि क्या कोई व्यवसाय अपने मौजूदा ऋण पर लगे ब्याज का आसानी से भुगतान कर सकता है या नहीं। ब्याज कवरेज अनुपात की गणना करने के लिए, नीचे वर्णित किए गए विशेष फॉर्मूले का उपयोग करें। लेनदार और निवेशक इस फॉर्मूले का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए करते हैं कि कंपनी के मौजूदा ऋण या भविष्य के ऋणों पर चूक का जोखिम अधिक तो नहीं है।

फॉर्मूला

प्रॉफिट और लॉस ट्रेडिंग से बचने के लिए 7 टिप्स

ब्याज कवरेज अनुपात की गणना करने का फार्मूला सरल है; आपको किसी विशिष्ट अवधि के लिए कंपनी की ब्याज और करों से पहले की कमाई (EBIT) को उसके ब्याज व्यय से विभाजित करना होगा।  

ब्याज कवरेज अनुपात = EBIT / ब्याज व्यय

मुख्य सिखलाई

  • किसी कंपनी की मौजूदा ऋणों पर लगने वाले ब्याज को चुकाने की क्षमता का आकलन ब्याज कवरेज अनुपात के उपयोग से किया जाता है।
  • ब्याज कवरेज अनुपात को गुना ब्याज अर्जित (टाइम्स इंटरेस्ट अर्न्ड – TIE) अनुपात भी कहा जाता है।
  • अनुपात निर्धारित करने के लिए EBIT का उपयोग करने के बजाय, कुछ अन्य तरीके जैसे कि EBITDA या EBIAT का भी उपयोग कर सकते हैं।

ब्याज कवरेज अनुपात को समझना

ब्याज कवरेज अनुपात में “कवरेज” शब्द वित्तीय वर्षों या तिमाहियों से संबंधित है, जिसके दौरान कंपनी के वर्तमान नकदी प्रवाह के उपयोग से ब्याज भुगतान किया जा सकता है। यह दर्शाता है कि कॉर्पोरेशन कितनी दफा अपने वित्तीय दायित्वों को पूरा कर सकता है।

अनुपात जितना छोटा होता है, फर्म की ऋण संबंधी लागत उतनी ही अधिक होती है और अन्य उपयोगों के लिए उसके पास कम नकदी बचती है। किसी कंपनी की ब्याज लागत को पूरा करने की क्षमता संदिग्ध हो सकती है अगरउसका ब्याज कवरेज अनुपात 1.5 से कम होता है।

ब्याज कवरेज अनुपात का महत्व

किसी भी व्यवसाय को लगातार और गंभीर रूप से ब्याज भुगतान करने की चिंता करनी चाहिए। जब किसी कंपनी को अपने दायित्वों को पूरा करने में परेशानी होती है, तो उसे अतिरिक्त कर्ज लेना पड़ता है या नकद भंडार का उपयोग करना पड़ता है, जिसे किसी पूंजी निवेश में निवेश करना या संकट के समय के लिए हाथ में रखना बेहतर होता है।

कमाने के लिए तैयार हैं?
Binomo पर जाएँ

ब्याज कवरेज अनुपात की जाँच न केवल कंपनी की वर्तमान वित्तीय स्थिति के बारे में बहुमूल्य जानकारी प्रदान कर सकती है बल्कि इसकी स्थिति और भविष्य की अधिक सटीक तस्वीर भी पेश कर सकती है। एक कंपनी की अपने ब्याज वाले दायित्वों को पूरा करने की क्षमता इसकी विलायकता यानी सॉल्वेंसी का संकेतक होती है और शेयरधारकों के लिए एक महत्वपूर्ण रिटर्न कारक है।

सेल टू ओपन बनाम सेल टू क्लोज क्या है?

किसी फर्म की तिमाही को देख कर निवेशक यह निर्धारित कर सकते हैं कि किसी फर्म का ब्याज कवरेज अनुपात बढ़ रहा है, गिर रहा है, या फिर उसी स्थिति में बना हुआ है, उदहारण के लिए पिछले पाँच वर्षों की स्थिति। यह किसी कंपनी की अल्पकालिक वित्तीय स्थिति का आकलन करने का एक शानदार तरीका है।

आप एक डे-ट्रेडर के रूप में कितना कमा सकते हैं?
आप संभावित रिटर्न सीख जाएं तो बेहतर होगा—ज़्यादा आय के बारे में सपने देखना नहीं लेकिन यह जानना कि आपको हर ट्रेड के लिए कितना निवेश करना चाहिए।
अधिक पढ़ें

ब्याज कवरेज अनुपात का उदाहरण

एक ऐसी कंपनी पर विचार करें जिसने एक विशिष्ट तिमाही के दौरान $525,000 की आय अर्जित की और उसे अपने ऋण पर $20,000 चुकाना है। ब्याज कवरेज अनुपात की गणना करने से पहले मासिक ब्याज शुल्क को त्रैमासिक भुगतान बनाने के लिए तीन से गुणा करना होगा।

कंपनी का ब्याज कवरेज अनुपात $525,000 / $60,000 ($20,000 x 3) है, जो 8.75 है। इससे पता चलता है कि फर्म वर्तमान में किसी भी लिक्विडिटी के मुद्दे का सामना नहीं कर रही है।

वह स्तिथि जब लेनदारों की कंपनी को अतिरिक्त धन देने से मना करने की सबसे अधिक संभावना होती है क्योंकि उसके दिवालिएपन के जोखिम की काफी अधिक संभावना देखी जा सकती है, आमतौर पर उसे लगभग 1.5 के ब्याज कवरेज अनुपात के अनुरूप माना जाता है।

यदि किसी कंपनी का अनुपात एक से कम है, तो उसे या तो अतिरिक्त धन उधार लेना होगा या अपनी संग्रहित नकदी का उपयोग करना होगा, जो ऊपर बताए गए कारणों की वजह से चुनौतीपूर्ण होगा। यदि ऐसा नहीं करते, तो व्यापार पर दिवालिया होने का खतरा बना रहता है, फिर चाहे मुनाफा केवल एक ही महीने के लिए कम क्यों ना हो जाए।

ब्याज कवरेज अनुपात के प्रकार

कंपनियों के अनुपात की जाँच करने से पहले, ब्याज कवरेज अनुपात के दो सामान्य रूपों पर विचार करना महत्वपूर्ण है। ये परिवर्तन EBIT में संशोधनों के परिणाम से होते हैं।

EBITDA

नौसिखिए लोगों के लिए 5 सबसे अच्छे ऑप्शंस ट्रेडिंग रणनीतियाँ

ऐसा ही एक संस्करण, ब्याज कवरेज अनुपात की गणना करने के लिए EBIT के बजाय, ब्याज, कर, मूल्यह्रास और परिशोधन (EBITDA) से पहले की आय का उपयोग करता है। EBITDA की गणना में अक्सर EBIT की गणना की तुलना में अंश-गणक यानी न्यूमरेटर बड़ा होता है क्योंकि इस प्रकार के अनुपात में मूल्यह्रास और परिशोधन को शामिल नहीं किया होता।

EBIAT

एक अन्य विकल्प जिसका उपयोग ब्याज कवरेज अनुपात की गणना करने के लिए EBIT के बदले में किया जाता है, वह है ब्याज से पहले और करों के बाद की आय (EBIAT)। इसके परिणामस्वरूप अंश-गणक यानी न्यूमरेटर से कर भुगतान को हटा दिया गया है ताकि फर्म की ब्याज शुल्क का भुगतान करने की क्षमता की अधिक सच्ची तस्वीर मिल सके।

ब्याज कवरेज अनुपात की सीमाएँ

ब्याज कवरेज अनुपात की कई सीमाएँ हैं जिनके बारे में प्रत्येक निवेशक को इनका उपयोग करने से पहले पता होना चाहिए। मुख्य कमियों में से एक यह है कि अलग-अलग क्षेत्रों की कंपनियों की एक साथ तुलना करते समय ब्याज कवरेज में काफी भिन्नता होती है। 2 के ब्याज कवरेज अनुपात को भी कभी-कभी किसी विशिष्ट क्षेत्र के अच्छी तरह से स्थापित व्यवसायों के लिए स्वीकार्य बेंचमार्क माना जाता है, जैसे कि यूटिलिटी कंपनी।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

यहाँ हम ब्याज कवरेज अनुपात के बारे में कुछ प्रमुख प्रश्नों पर चर्चा करेंगे।

ब्याज कवरेज अनुपात से हमें क्या पता चलता है?

ब्याज कवरेज अनुपात किसी कंपनी की उसके बकाया ऋण का प्रबंधन करने की क्षमता को मापता है और उसके वित्तीय स्वास्थ्य का आकलन करता है।

ब्याज कवरेज अनुपात की गणना कैसे की जाती है?

एक विशिष्ट अवधि में, अक्सर एक वर्ष में EBIT को ब्याज व्यय (उधार धन की कीमत) से विभाजित कर, अनुपात की गणना की जा सकती है।

एक अच्छा ब्याज कवरेज अनुपात क्या होता है?

EBITA

एक से अधिक का अनुपात दर्शाता है कि कोई व्यवसाय लाभ का उपयोग करके अपने ऋणों के ब्याज का भुगतान कर सकता है या उसने समय के साथ अपनी आय को समान स्तर के आसपास रखने की क्षमता प्रदर्शित की है। हालाँकि, 1.5 का ICR न्यूनतम स्वीकार्य अनुपात हो सकता है, लेकिन निवेशक और विश्लेषक दो या उससे ऊपर के अनुपात को पसंद करते हैं।

एक खराब ब्याज कवरेज अनुपात क्या दर्शाता है?

एक से नीचे के किसी भी मूल्य को खराब ICR माना जाता है क्योंकि यह इंगित करता है कि फर्म का मौजूदा मुनाफा अपने कर्ज का भुगतान करने में असमर्थ है। 1.5 के ICR के साथ भी, यह संभावित नहीं है कि एक व्यवसाय अपनी ब्याज लागतों का लगातार भुगतान करने में सक्षम होगा, विशेष रूप से यदि वह आवधिक या चक्रीय आय में उतार-चढ़ाव के प्रति अतिसंवेदनशील है।

निष्कर्ष 

ब्याज कवरेज अनुपात से कंपनियों और उधारदाताओं दोनों को ही किसी एक या दूसरे तरीके से लाभ होता है। इसका उपयोग करते हुए, ऋणदाता कंपनी की वित्तीय स्थिरता और निर्धारित समय पर ब्याज भुगतान करने की क्षमता का आंकलन कर सकते हैं। इसलिए, देनदारों के लिए अपने कई ऋणों पर ब्याज भुगतान को संतुलित करना जितना आसान होता है, अनुपात उतना ही अधिक होता है।

प्रवृत्ति यानी ट्रेंड विश्लेषण में ब्याज कवरेज अनुपात का उपयोग किया जाता है, वह प्रक्रिया जिसके माध्यम से एक व्यवसाय प्रवृत्तियों की पहचान करने के लिए अपने वित्तीय रिकॉर्ड की जाँच करता है। यह उन्हें ऐतिहासिक प्रतिमानों यानी पैटर्न्स को समझने में मदद करता है और उन्हें भविष्य के विकास की भविष्यवाणी करने की अनुमति देता है। कंपनियों को समय के साथ अपने प्रदर्शन में सुधार करने का मौका दिया जाता है।

लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
5 मिनट
पहले दिन अपनी जमा राशि को न खोने के 7 तरीके
2 मिनट
ट्रेडर को एक उच्च गति चार्ट क्या देता है?
5 मिनट
7 फोरेक्स ट्रेडिंग टिप्स जिनका आप तुरंत उपयोग कर सकते हैं
4 मिनट
ट्रेडिंग में संदेह और डर को दूर करने के 7 टिप्स
6 मिनट
कॉर्पोरेट कार्रवाइयां: वह सब कुछ जो आपको जानना आवश्यक है
4 मिनट
पूंजीगत और राजस्व व्यय के बीच अंतर

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें