ऑप्शंस ट्रेडिंग के लिए सर्वश्रेष्ठ तकनीकी संकेतक

ट्रेडर चुनी हुई रणनीति और ट्रेडिंग शैली के आधार पर ट्रेडिंग के निर्णय लेने के लिए विभिन्न तकनीकी संकेतकों का उपयोग करते हैं। यह लेख, ऑप्शंस ट्रेडिंग के लिए कुछ सबसे सर्वश्रेष्ठ तकनीकी संकेतकों को दर्शाता है। यह तकनीकी संकेतकों से संबंधित गणनाओं पर भी ध्यान केंद्रित करता है। लेकिन सबसे पहले, आइए ऑप्शंस की शब्दावली से परिचित होते हैं।

ऑप्शंस ट्रेडिंग क्या है?

ऑप्शंस ट्रेडिंग की मूल संकल्पना सरल है: आप किसी भी ऐसे व्यक्ति से एक ऑप्शंस अनुबंध खरीद सकते हैं जिसके पास पहले से ही एक या उससे अधिक अनुबंध हैं। कॉल ऑप्शंस के मामले में, आप के पास भविष्य में किसी विशेष तिथि तक एक निर्धारित मूल्य पर शेयर खरीदने का अधिकार (लेकिन दायित्व नहीं) होता है।

7 युक्तियाँ जो आपको एक प्रवृत्ति की दिशा की पहचान करने में मदद करेंगी

ऑप्शंस की होल्ड करने यानी रोक कर रखने की अवधि ट्रेडर्स के लिए सर्वोपरि है क्योंकि शेयर समय के क्षय के अधीन होते हैं।

ऑप्शंस की एक समाप्ति तिथि होती है जिसकी वजह से ट्रेडर्स के लिए कुछ सीमाएँ होती हैं। लेकिन एक स्टॉक ट्रेडर अनिश्चित काल के लिए किसी पोजीशन को होल्ड कर सकता है। इसलिए, ऑप्शंस ट्रेडर्स अक्सर अधिक्रीत और अधिविक्रीत स्तरों को निर्धारित करने के लिए गति संकेतकों का उपयोग करते हैं।

आइए जानें कि ऑप्शंस ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छे तकनीकी संकेतक क्या हैं।

सापेक्ष शक्ति सूचकांक या रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स (RSI)

सापेक्ष शक्ति सूचकांक (RSI) ऑप्शंस ट्रेडिंग के लिए शीर्ष संकेतकों में से एक है जो ट्रेडर्स को मूल्य के ट्रेंड्स का विश्लेषण करने में मदद करता है। इसका उपयोग यह निर्धारित करने कि सिक्योरिटी कब अधिक्रीत और अधिविक्रीत है और यह पता लगाने के लिए किया जा सकता है कि मूल्य की चाल में संभावित मोड़ कब आ रहे हैं। यह मूल्य में उतार-चढ़ाव की गति को निर्धारित करने के लिए सिक्योरिटी के मौजूदा मूल्य की चाल की तुलना पिछली चाल से करके काम करता है।

RSI के दो मुख्य संकेत हैं: अधिक्रीत और अधिविक्रीत। जब किसी एसेट को अधिक मात्रा में ख़रीदा जाता है, तो बाजार उसके भविष्य के प्रदर्शन के बारे में बहुत आशावादी होता है। वहीं जब किसी एसेट की अधिक बिक्री होती है, तो बाजार उसके भविष्य के प्रदर्शन के बारे में बहुत निराशावादी होता है।

डे ट्रेडिंग के लिए तकनीकी इंडीकेटर्स कैसे चुनें

RSI जो है, वह बार की एक श्रृंखला का उपयोग करता है 0 और 100 के बीच के मान की गणना करने के लिए। एक उच्च RSI, आमतौर पर 70 से ऊपर, अधिक्रीत स्तरों को इंगित करता है। दी गई सिक्योरिटी की कीमत समय के साथ बढ़ने की संभावना है क्योंकि निवेशकों का मानना है कि यह उसी श्रेणी में अन्य सिक्योरिटीज से बेहतर प्रदर्शन करेगा। एक कम RSI, आमतौर पर 30 से नीचे, अधिविक्रीत स्तरों को इंगित करता है और निवेशक समय के साथ किसी सिक्योरिटी की कीमत में गिरावट की उम्मीद करते हैं।

तकनीकी विश्लेषक आमतौर पर एक RSI संकेतक का उपयोग ट्रेडिंग ऑप्शंस में इंडेक्स के बजाय शेयर में करते हैं। हाई-बीटा स्टॉक आम तौर पर एक अस्थिर RSI मान को प्रदर्शित करते हैं जो इंडेक्स की तुलना में अधिक अधिक्रीत और अधिविक्रीत स्थितियों को छूते हैं, जिससे यह अल्पकालिक ट्रेड के लिए एक प्रभावी संकेतक बन जाता है।

बोलिंगर बैंड

एक प्राइस एक्शन यानी मूल्य की कार्यवाहिओं में अस्थिरता को मापने के लिए बोलिंगर बैंड ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छे तकनीकी संकेतकों में से एक हैं। बोलिंगर बैंड की चौड़ाई अस्थिरता दर्शाती है; जैसे ही सिक्योरिटी की कीमत की अस्थिरता बढ़ती है, बैंड का विस्तार होता है, और जैसे ही सिक्योरिटी की कीमत की अस्थिरता घटती है, बैंड सिकुड़ता है। यह संकेतक एक चलती औसत से बनाया गया है और यह निर्धारित कर सकता है कि किसी निश्चित अवधि में किसी एसेट को अधिक खरीदा या अधिक बेचा गया है या नहीं।

इस ज्ञान को अपने वॉलेट में डालें!
Binomo पर जाएँ

जैसे ही किसी एसेट की कीमत ऊपरी बैंड के करीब पहुँचती है, बाजार तेजी के ट्रेंड का पालन करने के लिए कीमत को बढ़ने की अनुमति देने में रुचि दिखाता है। इसके विपरीत, निचले बैंड की ओर एक मूल्य की चाल से पता चलता है कि एक मंदी के ट्रेंड का पालन होगा।

सबसे सटीक ट्रेडिंग संकेतक कौनसे हैं?

यह ऑप्शंस के लिए सबसे अच्छे ट्रेडिंग संकेतकों में से एक है जो ट्रेडर्स को ट्रेड बंद करके, ट्रेंड्स का अनुसरण करते हुए और ब्रेकआउट के अवसरों को देखते हुए बाजार की अस्थिरता का लाभ उठाने की अनुमति देता है। बैंड के बाहर मूल्य में उतार-चढ़ाव, मूल्य की चाल में उलटफेर का संकेत दे सकता है। बैंड के बाहर कीमतों में उतार-चढ़ाव यह संकेत दे सकता है कि सिक्योरिटी उलटाव के लिए परिपक्व है, और ऑप्शंस के ट्रेडर्स तदनुसार खुद को पोजीशन में रख सकते हैं। उदाहरण के लिए, ट्रेडर टॉप बैंड के ऊपर ब्रेकआउट के बाद लॉन्ग पुट या शॉर्ट कॉल पोजीशन शुरू कर सकते हैं या इसके विपरीत कार्यवाही कर सकते हैं।

आप एक डे-ट्रेडर के रूप में कितना कमा सकते हैं?
आप संभावित रिटर्न सीख जाएं तो बेहतर होगा—ज़्यादा आय के बारे में सपने देखना नहीं लेकिन यह जानना कि आपको हर ट्रेड के लिए कितना निवेश करना चाहिए।
अधिक पढ़ें

इंट्राडे मोमेंटम इंडेक्स (IMI)

इंट्राडे मोमेंटम इंडेक्स निस्संदेह ही एक डे ट्रेडिंग ऑप्शंस के लिए सबसे अच्छे संकेतकों में से एक है। IMI अपने संकेत पैदा करने के लिए RSI और कैंडलस्टिक के विश्लेषण के कुछ पहलुओं को मिलता है। यह दिनों के बीच की भिन्नता के बजाय 1-दिन की समय सीमा के दौरान खुलने और बंद होने की कीमतों के बीच के सहसंबंध का विश्लेषण करता है। यह ट्रेडर्स को भविष्यवाणी करने की अनुमति देता है कि इंट्रा-डे ट्रेडिंग सत्र के दौरान सिक्योरिटी कब अधिक्रीत या अधिविक्रीत हो जाती है।

IMI की गणना सीधी है; यह “अप क्लोज़” यानी, बंद होने के वक्त की कीमत खुलने की कीमत से अधिक है, और “डाउन क्लोज”, यानी, ट्रेड के खुलने की कीमत बंद होने की कीमत से अधिक है, के बीच के संबंध को देखता है। यह “अप क्लोज” से होने वाले लाभ का एक अवधि “n” के दौरान ऊपर या नीचे बंद होने के कुल लाभ या नुकसान का अनुपात है। “n” का मान आम तौर पर 14 दिनों के रूप में लिया जाता है।

IMI के मूल्य की RSI की तरह ही व्याख्या की जा सकती है; यदि मूल्य 70 से ऊपर या उसके बराबर है, तो इसका मतलब है कि सिक्योरिटी अधिक खरीदी जा रही है और ऊपर जाने की उम्मीद की जा सकती है। और अगर IMI का मूल्य 30 से नीचे है, तो इसका मतलब है कि बाजार में अधिक बिक्री हो रही है, और कीमत में गिरावट देखी जा सकती है।

नोट! इंट्राडे संकेतक को आमतौर पर लॉन्ग टर्म के बजाय शॉर्ट टर्म में ट्रेडिंग के लिए अधिक फायदेमंद माना जाता है।

Money Flow Index (MFI)

स्टॉक खरीदने के लिए मूविंग एवरेज का उपयोग कैसे करें

मनी फ्लो इंडेक्स (MFI) सबसे अच्छे ऑप्शंस ट्रेडिंग के संकेतकों में से एक है जो ट्रेडर्स को अधिक्रीत या अधिविक्रीत संकेत उत्पन्न करने में मदद करता है। यह किसी विशेष सिक्योरिटी के लिए उसके मूल्य और ट्रेडिंग की मात्रा के डेटा को ध्यान में रखता है। MFI का विश्लेषण सापेक्ष शक्ति सूचकांक के अनुरूप होता है; इसलिए इसे अक्सर मात्रा-भारित RSI के रूप में दर्शाया जाता है।

MFI की रीडिंग 0 और 100 के बीच में झूलती है। किसी एसेट का MFI जितना अधिक होता है, उतना ही अधिक वो सक्रिय प्रतीत होता है और इसलिए, एक पोजीशन के लिए उसकी उतनी ही अधिक मांग होती है। 80 से ऊपर एक उच्च MFI मजबूत खरीद की रुचि दर्शाता है, और 20 से नीचे का एक कम MFI, मजबूत बिक्री की रुचि दर्शाता है। दिलचस्प बात यह है कि MFI का मूल्य विचलन प्रदर्शित कर सकता है, अर्थात मूल्य की दिशा के विपरीत MFI का संचलन कर सकता है। यह विचलन आमतौर पर मूल्य के ट्रेंड में उलटाव का सुझाव देता है, और ट्रेडर इन भिन्नताओं को संभावित ट्रेडिंग अवसरों के लिहाज़ से देखते हैं, जिससे यह द्विआधारी (बाइनरी) ऑप्शंस ट्रेडिंग के लिए विश्वसनीय संकेतकों में से एक बन जाता है।

पुट-कॉल अनुपात (PCR) संकेतक

पुट और कॉल ऑप्शंस एक खरीदार को समाप्ति तिथि से पहले क्रमशः स्ट्राइक मूल्य पर एसेट को बेचने या खरीदने का अधिकार देता है। पुट-कॉल अनुपात एक फार्मूला है जो यह निर्धारित करने में मदद करता है कि पुट ऑप्शंस और कॉल ऑप्शंस के बीच संबंध के आधार पर कोई एसेट अधिक खरीदा गया है या अधिक्रीत है। जब ट्रेडिंग के लिए कॉल ऑप्शंस की तुलना में अधिक पुट ऑप्शंस उपलब्ध होते हैं, तो PCR 1 से अधिक होता है, जो एक मंदी के ट्रेंड का संकेत देता है। इसके विपरीत, जब पुट ऑप्शंस की तुलना में अधिक कॉल ऑप्शंस होते हैं, तो अनुपात 1 से कम होता है, और निवेशक मूल्य वृद्धि की उम्मीद करते हैं, जो एक तेजी से खिंचाव (बुलिश पुल) का संकेत देता है।

सबसे लोकप्रिय फ्लैट संकेतक क्या हैं?

ऑप्शंस ट्रेडिंग के लिए PCR संकेतक समग्र बाजार की भावना का एक अच्छा मूल्यांकन प्रदान करता है; इसलिए इसका उपयोग विपरीत निवेश रणनीति में भी किया जा सकता है। ट्रेडर अत्यधिक पुट-कॉल अनुपात मूल्यों की तलाश करते हैं, जो एक मजबूत तेजी या मंदी के ट्रेंड का संकेत देता है; इसके अनुसार, एक ट्रेडर बाजार की भावना के खिलाफ निवेश करना चाहता है। ये संकेत मान्य हैं क्योंकि अनुचित तेजी खीचती है और मंदी के संकेत लंबे समय तक नहीं रहते हैं और उलटाव के अधीन होते हैं।

ओपन इंटरेस्ट (OI)

ओपन इंटरेस्ट बकाया खुले अनुबंधों की कुल संख्या का एक माप है जिन्हें अभी भी चुकाने की आवश्यकता है। यह ऑप्शंस ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छे चार्ट संकेतकों में से एक है, जो बाजार में अंदर आने और बाहर जाने की पूंजी प्रवाह का प्रतिनिधित्व करता है। ओपन इंटरेस्ट, जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, ओपन पोजीशन को इंगित करता है जिसे अभी भी बंद, परिसमापन या व्यवस्थित करने की आवश्यकता है। ओपन इंटरेस्ट का एक उच्च स्तर यह संकेत दे सकता है कि बंद स्थिति की संख्या की तुलना में अधिक अनुबंध खुले हुए हैं। इसका मतलब यह है कि ट्रेडर उन एसेट्स का बारीकी से विश्लेषण करते हैं जिनमें कीमत में उतार-चढ़ाव की काफी संभावना होती है।

ओपन इंटरेस्ट चल रहे ट्रेंड की स्थिरता में बाजार की रुचि को दर्शाता है। मूल्य की चाल और OI मूल्यों के एक समान ट्रेंड को किसी ट्रेंड की निरंतरता के लिए एक सकारात्मक संकेत के रूप में समझा जा सकता है। उदाहरण के लिए, एक बढ़ती हुई कीमत के ट्रेंड और एक बढ़ते हुई OI माप से संकेत मिलता है कि एक एसेट में पूंजी का प्रवाह है, और इसका ऊपर की ओर का ट्रेंड जारी रहेगा।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

आइए ऑप्शंस ट्रेडिंग के बारे में कुछ प्रश्नों को देखें।

क्या मैं ऑप्शंस पर एक लिमिट ऑर्डर दे सकता हूँ?

फ्लैट ट्रेडिंग आधार: ओसिलेटर

हाँ, आप एक लिमिट ऑर्डर दे सकते हैं। ऑर्डर तब पूरा हो जाएगा जब ऑप्शंस के अनुबंध आपके द्वारा निर्दिष्ट मूल्य पर उपलब्ध होंगे। दूसरी ओर, आप बाजार के मूल्य पर तुरंत भरे जाने वाला एक मार्केट ऑर्डर भी दे सकते हैं।

एक ऑप्शन की कीमत किस पर निर्धारित होती है?

ऑप्शंस ट्रेडों की कीमत पाँच मापदंडों द्वारा निर्धारित की जा सकती है: वर्तमान मूल्य, स्ट्राइक मूल्य, समाप्ति तिथि, ब्याज दर और एसेट की अस्थिरता।

ऑप्शंस के साथ उपयोग किए जाने वाले जोखिम के उपाय क्या हैं?

ट्रेडर्स आमतौर पर ऑप्शंस के जोखिमों का विश्लेषण करने के लिए पाँच ग्रीक जोखिम उपायों की निगरानी करते हैं। इनमें डेल्टा, गामा, वेगा, थीटा और रो शामिल हैं।

निष्कर्ष

इस लेख में चर्चा किए गए ऑप्शंस ट्रेडिंग संकेतक एक ऑप्शंस ट्रेडर को जानना आवश्यक है, लेकिन उनकी उपयोगिता ट्रेडिंग तकनीकों द्वारा निर्धारित की जाती है। साथ ही, उनकी सीमाओं को समझना महत्वपूर्ण है और यह भी कि अनुभवी ट्रेडर उनका उपयोग कैसे करते हैं। ऑप्शंस ट्रेडिंग के लिए कौन से संकेतक सबसे अच्छे हैं, यह ट्रेडिंग रणनीति और शैली पर निर्भर करता है। लाभदायक होने के लिए, प्रत्येक की खूबियों पर शोध करें और तय करें कि आपके ऑप्शंस ट्रेडिंग के लिए कौन से संकेतक सर्वोत्तम हैं।

लाइक
साझा करें
लिंक कॉपी करें
लिंक कॉपी किया गया
Go
गो दबाएं और पहिया आपके लिए दिन का अपना लेख चुनेगा!
सबंधित आर्टिकल
6 मिनट
इंडीकेटर्स को ठीक से कैसे संयोजित करें
4 मिनट
डे ट्रेडिंग के लिए 3 बेस्ट इंडीकेटर्स
7 मिनट
किसी ट्रेंड के अंत की पहचान कैसे करें
4 मिनट
कॉपॉक ऑसिलेटर बार (COB) - एक शीर्ष-स्तरीय विश्लेषण
6 मिनट
बफेट इंडिकेटर। यह क्या है?
4 मिनट
व्यापार करने के लिए शीर्ष 5 गति संकेतक

इस पेज को किसी अन्य एप में खोलें?

रद्द करें खोलें